Noida Metro Extensions to Sec 62 and Greater Noida

Noida Sector 62 Metro Route Map and News

YouTube-News-on-Noida-Metro-3-routes-approval

Noida-Metro-Sec62-GreaterNoida-Boraki-Stn-Route-news.jpg

Noida-Metro-Sec62-GreaterNoida-Route-news

Noida-Metro-city-centre-Sec-62-route-map and Details

DPR-Noida-Metro-city-centre-Sec-62-route-map and Details

Noida-Extension (Gol-Chakkar) Metro-Route-Map

UP government approves Botanical Gardens-Kalindi Kunj and City Centre-Sector 62 metro routes in Noida

Work on these two proposed Metro links is likely to begin by the end of May.

The project reports about the extension of two major Metro lines in Noida — the 3.9 -km link between Botanical Garden and Kalindi Kunj and the 6.6 -km City Centre to Sector 62 link — were approved by the Uttar Pradesh government on Saturday.

The Noida authority had on May 12 last year sent the detailed project report (DPR) of the Kalindi Kunj link to the UP government, and the Sector 62 link DPR was sent in January this year.


Officials said that work on these two proposed Metro links is likely to begin by the end of May this year. The two projects would cost around Rs.2,661 crore.

"The deadline for the completion of the line from Botanical Garden to Kalindi Kunj has been set for 2016. Besides, construction work of City Centre to Sector 62 link is expected to be completed by 2017," Noida authority CEO Rama Raman said.

Read more at: http://indiatoday.intoday.in/story/up-government-approves-botanical-gardens-kalindi-kunj-city-centre-sector-62-metro-routes-noida-india-today/1/261086.html

More Metro routes for Noida

Vandana Keelor, TNN Apr 7, 2013, 12.45AM IST

NOIDA: Clearing all tracks, the Uttar Pradesh government has given an in-principle approval to two proposed routes of the Metro rail project in Noida. The two routes— a 3.9-km route between Kalindi Kunj and Botanical Garden and the 6.7-km City Centre-Sector 62 link—will be built as elevated corridors.

Investment in the twin projects is estimated to be about Rs 2,660 crore. The proposal for the two routes, which got the long awaited nod, along with the state government's recommendation has been forwarded to the Centre for approval. "The file has been sent to the Urban Development Ministry for approval. Once we receive the go ahead, the MoU with DMRC will be signed and construction will start," said Rama Raman, CEO, Noida, who also holds charge of Greater Noida and Yamuna Expressway Authorities.

As per the detailed project reports (DPRs) for the two proposed routes, the extension route from the City Centre Metro station at Sector-32 is proposed to link Sector-62. The line will be routed over the central verge of the Master Plan road-III from Sector-32 onwards in Noida. This 6.675 km line will come at a cost of Rs 1816 crore and will provide connectivity to sectors 32, 34, 35, Hoshiarpur, sectors 51, 52, 71, Greater Noida Extension Marg, Sarfabad, sectors 60, 61, 62, 63 and NH-24. The proposed route will have six stations at sectors 34, 52, 59, 61, 62 and Electronic City (NH-24, Ghaziabad border).

"These new stations on the extended route will benefit commuters on both sides of the NH-24 and also provide a solution to the traffic congestion faced along this path. It is expected to be completed by March 2017," officials said.

The second proposed 3.963km Botanical Garden – Kalindi Kunj Metro line, which is part of DMRC's phase-III plan, is estimated to cost Rs 845 crore and expected to be complete by March 2016. As per the DPR the cost of the Metro line over the Yamuna Bridge is to be shared on a 50-50 basis between the Noida and Delhi governments. The proposed line will connect Botanical Garden station with Hauz Khas station on line-2 (Huda City Centre to Jahangirpuri) via Amity University, Kalindi Kunj and Kalkaji temple station. Commuters will get three exchange points on this route.

The trains on the proposed route will have 6 and 8 coaches, respectively.

Officials said that an elevated viaduct methodology will be used over pre-stressed concrete box shaped girder with pile and open foundation for the construction of both corridors. A stabling depot with washing facilities has been proposed in the vacant area near NH-24, for the Sector 32 – Sector 62 route. However, the Kalindi Kunj maintenance depot shall cater for the Kalindi Kunj – Botanical Garden corridor.

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2013-04-07/noida/38345287_1_city-centre-metro-extended-route-kalindi-kunj-metro

Noida board okays Metro link to Greater Noida

Ayesha Arvind, TNN Jan 12, 2013, 04.15AM IST

NOIDA: The Noida and Greater Noida authorities on Friday approved the much-awaited 30km extension of the Metro line to Greater Noida which would not only provide a fast link between the two townships but also bring these places closer to the national capital.

The decision was taken at the 178th joint board meeting of the authorities, convened after being postponed several times in the past six months. The line, to be funded the Noida authority and built by the Delhi Metro Rail Corporation, will have 22 stations connecting some of the busiest spots across Noida and Greater Noida.

Description: http://articles.timesofindia.indiatimes.com/images/pixel.gif

The project is expected to cost around Rs 5,000crore. Sources said the proposal will be sent to the Uttar Pradesh government for approval on Monday. Sources expect work to start next month and the line to be ready in two-and-a-half years.

The authorities expect the Metro announcement to boost the realty sector in both townships. The detailed project report for the line has already been prepared by DMRC. The authorities had earlier been mulling a public private partnership model but decided on using the Noida Authority's own funds for the project.

"The idea of the Noida-Greater Noida Metro link was first proposed in 2010. However, the project could not take off at the time due to several reasons. We have finally decided to revive the project and the board has also approved it. The DPR will just be updated now and we will forward it to the state," said Sanjiv Saran, CEO,
Noida Authority.

The Authority CEO said, "As per the Master plan 2021, the population in Noida and Greater Noida is set to increase considerably. Besides, several new housing schemes are also in the pipeline. Considering that thousands of more people will inhabit the area in the near future, the Metro link will prove very useful. It will also serve the several residential, industrial and IT units along the expressway."

The line will extend from City Center and culminate at Bodaki in Greater Noida. Some of the proposed stations on the route include Sector 51, Sector 50, Sector 78, Sector 101, Sector 81, Dadri Road, Sector 83, Sector 137, Sector 143, Sector 147, Sector 144, Sector 153, and Sector 149 in Noida and Knowledge Park 2, Pari Chowk, Alpha 1 Alpha 2, Delta, Knowledge Park 4 and Bodaki (depot stations) in Greater Noida. According to DMRC and the Authority's estimates, nearly 65,000 passengers are expected to use the link every day.

The joint board meeting also gave its nod to the proposal to extend the City Center Metro line by 6.67km to Sector 62, touching NH 24. The DPR for this much-delayed project will be forwarded to the state government now.

Meanwhile, the Authority has decided to go ahead with civil work on the Metro link between Noida and Greater Noida west (Noida Extension) that it had proposed earlier last year. However, the DPR for the project will be prepared by DMRC only after a sizeable population moves into Noida Extension.

While the idea for a Metro link between Noida and Greater Noida was initially proposed in 2010 during the reign of the BSP, the project could not take off at the time. It got further delayed due to a change of regime and delay in the appointment of senior Authority officials.

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2013-01-12/noida/36295865_1_greater-noida-city-center-metro-line-noida-extension

Metro to boost Noida-Greater Noida’s realty development

Jan 29, 2013, 04:09PM IST

Delhi/NCR

The Noida and Greater Noida authorities have recently approved the much-awaited proposal for extension of the Metro line to Greater Noida. This project will accord fast connectivity between Noida and Greater Noida, and connect these places to Delhi and Gurgaon on this rapid access corridor.

The proposed Metro line is to be funded by both the authorities and will be built by the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC). The proposed Metro line will have 22 stations connecting some of the busiest spots across Noida and Greater Noida. The detailed project report (DPR) for the line has been prepared by the DMRC. The project, estimated to cost around Rs 5,000 crore, will commence soon and is expected to be complete by 2016. The Noida authority will pitch in with the funds; earlier the authorities had mooted a public-private partnership model to raise funds.

The Metro line will run along the expressway, from City Center, Sector 32 and end at Bodaki, Greater Noida. The proposed stations on the route will be located at Sector 51, Sector 50, Sector 78, Sector 101, Sector 81, Dadri Road, Sector 83, Sector 137, Sector 143, Sector 147, Sector 144, Sector 153, Sector 149 , Noida and Knowledge Park 2, Pari Chowk, Alpha 1, Alpha 2, Delta, Knowledge Park 4 and Bodaki, Greater Noida.

According to the DMRC and the authority’s estimates, nearly 65,000 passengers are expected to use this new Metro line every day. The Noida-Greater Noida authorities also gave their nod to extend the City Center Metro line by 6.67km to Sector 62, touching NH-24.

The DPR for this much-delayed project has been forwarded to the state government now. In addition, the Noida-Greater authorities have also decided to go ahead with the civil work on the Metro link between Noida and Greater Noida West (Noida Extension), which was proposed early last year. The DPR for the project, too, will be prepared by the DMRC.

Raising funds

The authority will increase the floor-are ratio (FAR) from existing 2.75 to 3.5 in certain areas to raise the funds through builders and developers. For this, the authority will develop 1km special corridors along Noida-Greater Noida Expressway. The FAR would be sold for group-housing projects dotting the expressway.

Network of new Metro line

The 30km-long Metro line will directly connect Noida City Center in Sector 32 to Greater Noida. The Noida-Greater Noida Metro track via expressway is estimated to costs around Rs 150-200 crore per km. The Metro line being extended to several parts of Noida-Greater Noida is expected to cover more than 1.5 lakh homes in the next 1-2 years. Areas like Noida-Greater Noida expressway sectors, Greater Noida West, Noida’s Sectors 71, 72, 78, 62, etc, are still not covered in this scheme. This service would entail another 50km of Metro network. The existing Sector 32 Metro line will be extended up to Noida Extension via Sector 72.
The 7km-long stretch will cost around Rs 1,400 crore of which Rs 1,100 crore would be shared by the Noida and Greater Noida authorities, depending on the territory falling under their jurisdiction. At least two stations are proposed to be built on this line. The City Center Metro station, which is proposed to link Sector 62, would branch out at Sector 71 to take the line till Noida Extension (Greater Noida West).

A senior officer of the Noida authority said: “The project could not take off on the time due to several reasons. The Noida-Greater Noida authorities have finally decided to revive the project and have approved it.” The Noida authority also reviewed the detailed project reports (DPR) for the extension of existing DMRC services. A 3.9km line between Kalindi Kunj and Botanical Garden in Noida will be constructed at a cost of Rs 845 crore. The Noida authority will pay Rs 492 crore for this. Another extension will also be made on the line from Sector 32 to Sector 62 at a cost of Rs 1,816 crore. This will be 6.6km long.

The Noida authority has sent both these proposals to the UP government for approval. The sanction on Botanical Garden-Kalindi Kunj line is expected to come early. Once the proposal for the Botanical Garden-Kalindi Kunj line gets the nod, the Noida authority will sign a MoU with the DMRC and work is expected to commence within three months.

Rama Raman, the CEO of GNIDA, says: “We recognize the need for connectivity between the Noida and Greater Noida areas, but the project cost is too high for us to bear. So we have decided to increase the FAR of group-housing projects falling within 1km on either side of the rail tracks. The Noida-Greater Noida Metro project will be undertaken in such a manner that these twin cities do not face any traffic problems.”

Impact of new Metro line

The announcement of the extension of the Metro line to Greater Noida will boost the realty markets of Noida and Greater Noida. This will also increase the value of properties on the Noida Expressway and Noida Extension, where several reputed developers have their projects coming up. Some experts have pegged this appreciation at around 30-35%.

Rakesh Yadav, the MD of Antriksh Group, says: “If all goes well, the recent spate of Metro approvals will bring a lot of cheer among the buyers here. At the same time, it will also bring back the confidence of the investors and end users in this place and lift the uncertainty that was looming over this region not long ago.”

Anil Sharma, the CMD of Amrapali Group, says: “Just as the Noida-Greater Noida Expressway enhanced the prospects of real estate here, the Metro connectivity, too, has done exactly the same and enhanced the value of realty estate across segments here. Another factor that has worked for Noida, since the time it came up, was the confidence of the investors and buyers about the infrastructural developments here.”

Vikas Gupta, the joint MD of Earth Infrastructure, says: “The expansion of the existing Metro line will also help in clearing any uncertainty or doubts in the minds of numerous homebuyers and investors who were counting upon this decision, which to them means a secure investment. Also, the recent positive developments in Noida Extension will encourage the entire industry to continue with the good work in the region.”

Source: Times Property, The Times of India, Delhi/NCR

http://content.magicbricks.com/metro-to-boost-noida-greater-noidas-realty-development/

Work on Gr Noida metro link soon

Anup Verma | Noida

To improve public transport system between Noida and Greater Noida, both the authorities have chalked out a detailed plan which would provide metro connectivity between Noida and Greater Noida. The construction may start within six weeks. The decision was taken during the board meeting of Noida and Greater Noida authorities on Friday.

The CEOs of both the authorities decided to start the construction of metro rail between the two cities. Apart from that Noida Authority has also decided to extend the existing Metro link in Noida city. In the joint meeting, many developmental projects got their nod. The authorities also deliberated over the problems faced by the farmers of the area.

“We are re-assessing the Detailed Project Report (DPR) of Metro line between Noida and Greater Noida and the tenders will be floated after the State Government agrees to the proposal and clears it. Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) will carry out the project work while the cost will be borne by the twin authorities.

Chief Executive Officer (CEO) of  Noida Sanjeev Saran said that they will extend the Metro line from Noida City Centre to Sector 62. The Metro rail would start from Botanical Garden Metro station and would reach Greater Noida via Sector 32, 51, 83, 101, 143, 147 (Noida) and Knowledge Park, Pari Chowk (Greater Noida). The total length  of the proposed extension is 29.7 kilometres and there will be 22 stations on this line. Whereas the existing  Metro rail link will be extended upto six kms between Noida City Centre to Sector 62.

The CEO said that Noida Authority is in the process of augmenting the existing bus fleet of City Bus Service and for this authority would add 170 buses in its fold. For this Noida Authority would provide `40.5 crore to the State Transport Department.  Out of 170 buses, 48 buses will be in the semi low-floor category while feeder buses will be made available at all metro stations of Noida city.

The CEO also announced to make one MW solar plant on the model adopted by Gujarat Government and the authority will provide five acres of land to the concerned department. Authority will also bear the cost of the entire project and the plant are planned to make the region more environment friendly.

http://www.dailypioneer.com/city/121648-work-on-gr-noida-metro-link-soon.html

ग्रेटर नोएडा वेस्ट से भी गुजरेगी मेट्रो

जागरण – २३ घंटे पहले (27 Jan 2013)

संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा में मेट्रो की पहुंच दो तरफ से होगी। एक्सप्रेस-वे की तरफ से जाने के साथ मेट्रो ग्रेटर नोएडा वेस्ट होते हुए भी बोड़ाकी तक जाएगी। प्रथम चरण में नोएडा के सिटी सेंटर से होकर नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे होते हुए परी चौक, बोड़ाकी रेलवे तक मेट्रो जाएगी। द्वितीय चरण में नोएडा सेक्टर-71 होते हुए ग्रेनो वेस्ट, 130 मीटर चौड़ी सड़क के बराबर बोड़ाकी तक मेट्रो जाएगी। दोनों फेस के मेट्रो का निर्माण एक साथ शुरू कर तीन वर्ष में पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। यह घोषणा रविवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के 23वें स्थापना दिवस पर सिटी पार्क में आयोजित समारोह के दौरान प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) रमा रमण ने की।

उन्होंने कहा कि मेट्रो परियोजना शहर के विकास में प्राथमिकता से शामिल है। 11 जनवरी को हुई बोर्ड बैठक में निर्माण को लेकर फैसला हो गया है। दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन के साथ जल्द बैठक कर निर्माण की कार्ययोजना तैयार की जाएगी। मेट्रो के आने से ग्रेटर नोएडा में विकास को तेजी से गति मिलेगी। साथ ही अन्य शहरों के लोगों को ग्रेटर नोएडा से सीधे जुड़ने का मौका भी मिलेगा।

http://hindi.yahoo.com/%E0%A4%97-%E0%A4%B0-%E0%A4%A8-%E0%A4%B5-%E0%A4%B8-%E0%A4%9F-%E0%A4%B8-%E0%A4%AD-144151894.html

Noida board okays Metro link to Greater Noida

Ayesha Arvind, TNN Jan 12, 2013, 04.15AM IST

NOIDA: The Noida and Greater Noida authorities on Friday approved the much-awaited 30km extension of the Metro line to Greater Noida which would not only provide a fast link between the two townships but also bring these places closer to the national capital.

The decision was taken at the 178th joint board meeting of the authorities, convened after being postponed several times in the past six months. The line, to be funded the Noida authority and built by the Delhi Metro Rail Corporation, will have 22 stations connecting some of the busiest spots across Noida and Greater Noida.

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/images/pixel.gif

The project is expected to cost around Rs 5,000crore. Sources said the proposal will be sent to the Uttar Pradesh government for approval on Monday. Sources expect work to start next month and the line to be ready in two-and-a-half years.

The authorities expect the Metro announcement to boost the realty sector in both townships. The detailed project report for the line has already been prepared by DMRC. The authorities had earlier been mulling a public private partnership model but decided on using the Noida Authority's own funds for the project.

"The idea of the Noida-Greater Noida Metro link was first proposed in 2010. However, the project could not take off at the time due to several reasons. We have finally decided to revive the project and the board has also approved it. The DPR will just be updated now and we will forward it to the state," said Sanjiv Saran, CEO,
Noida Authority.

The Authority CEO said, "As per the Master plan 2021, the population in Noida and Greater Noida is set to increase considerably. Besides, several new housing schemes are also in the pipeline. Considering that thousands of more people will inhabit the area in the near future, the Metro link will prove very useful. It will also serve the several residential, industrial and IT units along the expressway."

The line will extend from City Center and culminate at Bodaki in Greater Noida. Some of the proposed stations on the route include Sector 51, Sector 50, Sector 78, Sector 101, Sector 81, Dadri Road, Sector 83, Sector 137, Sector 143, Sector 147, Sector 144, Sector 153, and Sector 149 in Noida and Knowledge Park 2, Pari Chowk, Alpha 1 Alpha 2, Delta, Knowledge Park 4 and Bodaki (depot stations) in Greater Noida. According to DMRC and the Authority's estimates, nearly 65,000 passengers are expected to use the link every day.

The joint board meeting also gave its nod to the proposal to extend the City Center Metro line by 6.67km to Sector 62, touching NH 24. The DPR for this much-delayed project will be forwarded to the state government now.

Meanwhile, the Authority has decided to go ahead with civil work on the Metro link between Noida and Greater Noida west (Noida Extension) that it had proposed earlier last year. However, the DPR for the project will be prepared by DMRC only after a sizeable population moves into Noida Extension.

While the idea for a Metro link between Noida and Greater Noida was initially proposed in 2010 during the reign of the BSP, the project could not take off at the time. It got further delayed due to a change of regime and delay in the appointment of senior Authority officials.

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2013-01-12/noida/36295865_1_greater-noida-city-center-metro-line-noida-extension

 

Noida-Greater Noida, City Centre to Sector 62 Metro projects get nod

Last Updated: Friday, January 11, 2013, 21:15

Noida: Noida and Greater Noida Boards on Friday gave green signal to Noida to Greater Noida and city Centre to sector 62 Metro rail projects.

Though it was planned during Mayawati's tenure as Chief Minister of Uttar Pradesh, the change of guard saw the project being put on hold as new officers and the state government wanted changes in the project before giving the approval.

Noida CEO Sanjiv Saran and Greater Noida CEO Rama Raman told mediamen after the meeting of the two Boards that the total length of the Metro project is 29.70 kilometer.

 

It will be run on 1433 gauge and will have 22 stations.

The maximum speed of train would be 95 kilometer per hour while scheduled speed is 35 kilometer per hour.

The total estimated cost at June 2009 prices is Rs.2781 crore without land and Rs.3017 crores with land.

Present-day cost of the project is expected to be around Rs.5500 crores, they said.

The areas to be covered under the project are Sectors 32, 51, 83, 101, 143, 147, Knowledge Park II, Pari Chowk, Sector Alpha, Delta and Knowledge Park IV.

As Greater Noida Industrial Development Authority as per NCRPB master plan approval has to construct 20 to 25 percent EWS and LIG houses in near future, the authority has planned to develop 10000 such houses.

PTI

http://zeenews.india.com/news/delhi/noida-greater-noida-city-centre-to-sector-62-metro-projects-get-nod_822340.html

 

ग्रेटर नोएडा और सेक्टर-62 तक मेट्रो को हरी झंडी

Friday, January 11, 2013, 22:39

नोएडा : नोएडा और ग्रेटर नोएडा बोर्ड ने शुक्रवार को नोएडा से ग्रेटर नोएडा और सिटी सेन्टर से सेक्टर 62 तक मेट्रो रेल परियोजना को हरी झंडी दे दी है। इसकी योजना मायावती के मुख्यमंत्री काल में ही बनी थी लेकिन राज्य में सत्ता परिवर्तन के कारण इसे रोक दिया गया था। नए अधिकारी और राज्य सरकार इसे स्वीकृति देने से पहले इसमें कुछ बदलाव करना चाहते थे।

नोएडा के सीआईओ राजीव सरण और ग्रेटर नोएडा के सीईओ राम रमण ने दोनों बोर्ड की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि नोएडा से ग्रेटर नोएडा तक की इस मेट्रो परियोजना की कुल लंबाई 29.70 किलोमीटर है। इसमें 22 स्टेशनों का निर्माण किया जाएगा। जून 2009 के अनुसार भूमि खरीदने सहित पूरी परियोजना को पूरा करने में 3,017 करोड़ रुपए का खर्च आएगा जबकि भूमि के बगैर इसपर 2,781 करोड़ रुपए का खर्च होगा।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में इस परियोजना की लागत 5,500 रुपए आने की संभावना है। इस परियोजना में मेट्रो सेक्टर 32, 51, 83, 101, 143, 147, नॉलेज पार्क 2, परी चौक, सेक्टर अल्फा, डेल्टा और नॉलेज पार्क 4 से होकर गुजरेगी। नोएडा सिटी सेन्टर से सेक्टर 62 तक मेट्रो का विस्तार कर 6.675 किलोमीटर लंबी लाइन बनायी जाएगी। छह स्टेशनों वाली इस लाइन पर करीब 1,807 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। (एजेंसी)

http://zeenews.india.com/hindi/news/

Extension of Metro Line from Sector 32 to 62 of NOIDA (U.P.)

Delhi Metro Rail Corporation Ltd. (DMRC) has informed that a Detailed Project Report (DPR) for extension of metro line from sector 32 to sector 62 of NOIDA in Uttar Pradesh was submitted to NOIDA Authority in June, 2012.

This Proposed extension is of length of about 6.675 km. and having 6 metro stations.

No Proposal has been received in the Ministry of Urban Development from Govt. of Uttar Pradesh for the extension of metro line from sector 32 to sector 62 of NOIDA in Uttar Pradesh.

This information was given by the Minister of State for Urban Development Smt. Deepa Dasmunshi in a written reply to a question in Rajya Sabha today.

*****


MG/
(Release ID :90047)

http://pib.nic.in/newsite/erelease.aspx?relid=90047

इसी महीने फाइनल होगा इंदिरापुरम मेट्रो का डीपीआर

नवभारत टाइम्स | Dec 10, 2012, 01.50AM IST

नवयुग मार्केट।। नोएडा-टू-इंदिरापुरम मेट्रो का डीपीआर इसी महीने तैयार हो जाएगा। जीडीए वीसी संतोष कुमार यादव ने बताया कि यह जानकारी डीएमआरसी ने जीडीए प्रशासन को दी है ताकि जीडीए इस प्रोजेक्ट पर आगे की प्लानिंग कर सके।

क्या है प्रोजेक्ट
नोएडा सिटी सेंटर से सेक्टर-56 तक मेट्रो के विस्तार के प्रोजेक्ट पर डीएमआरसी काम कर रहा है। इस रूट पर मेट्रो को पहले डीपीएस तक आना था, लेकिन अब इसे आगे बढ़ाकर इंदिरापुरम कॉलोनी में बने सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के सामने डेढ़ सौ फुटा रोड तक लाने का प्लान है। डीएमआरसी इस पर डीपीआर बनाने के लिए सितंबर से काम कर रहा है। नोएडा सीमा से इंदिरापुरम कॉलोनी तक मेट्रो का यह ट्रैक करीब डेढ़ किलोमीटर का होगा। इस प्रोजेक्ट पर आने वाले खर्च को जीडीए वहन करने को तैयार है। इसके लिए जीडीए ने डीएमआरसी को पहले ही लेटर लिखकर अवगत करा दिया है।

फंडिंग प्लान जल्द होगा फाइनल

मेट्रो प्रोजेक्ट के इंदिरापुरम रूट के लिए फंडिंग प्लान को जीडीए संभवत: अगले महीने फाइनल करेगा। जीडीए को यह तय करना है कि डीपीआर के हिसाब से इस रूट के लिए कितना पैसा उसे देना है। इसमें वह इस बात पर भी विचार करेगा कि यह खर्च वह खुद वहन करेगा या बाकी विभागों से भी वह मदद लेगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/the-final-will-be-played-this-month-indirapuram-metro-dpr/articleshow/17548797.cms

अप्रैल में शुरू हो सकता है मेट्रो का काम

Dec 6, 2012, 08.00AM IST

एनबीटी न्यूज ॥ ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा में मेट्रो का काम अप्रैल 2013 से शुरू हो सकता है। यह काम दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) कराएगी। डीएमआरसी ने दोबारा डीपीआर तैयार कर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी को सौंप दी है। नई डीपीआर में करीब 500 करोड़ रुपये की कॉस्ट बढ़ गई है।
अथॉरिटी अफसरों ने बताया कि ग्रेनो तक मेट्रो लाने का जिम्मा डीएमआरसी को ही दिया गया है। डीएमआरसी ने पुरानी डीपीआर को मॉडिफाई कर नई डीपीआर अथॉरिटी को सौंप दी है। प्रोजेक्ट मंे डीएमआरसी इंजीनियरों को अथॉरिटी के इंजीनियरों का भी सहयोग मिलेगा। मेट्रो का निर्माण कार्य शुरू कराने के लिए अथॉरिटी के प्रोजेक्ट विभाग ने भी तैयारी शुरू कर दी है। सीनियर अफसरों ने बताया कि अप्रैल-2013 से मेट्रो प्रोजेक्ट का काम शुरू होने की संभावना है।
यहां बनने हैं स्टेशन
मेट्रो को नोएडा के सिटी सेंटर, सेक्टर-49, सेक्टर-182, एक्सप्रेस-वे होते हुए परी चौक और नॉलेज पार्क-4 तक लाने की योजना है। नोएडा से ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क-4 तक कुल 20 स्टेशन होंगे। इनमें से 14 स्टेशन नोएडा में और 6 स्टेशन ग्रेटर नोएडा में होंगे। यह रूट करीब 29 किलोमीटर लंबा है।
फंड पर नहीं हुआ है निर्णय

इस प्रोजेक्ट के लिए पैसा कहां से आएगा, इस पर कोई निर्णय नहीं हुआ है। अथॉरिटी के पास इस समय फंड की कमी है। अथॉरिटी दो अन्य विकल्पों पर भी विचार कर रही है। इनमें से एक है बिल्ट ऑपरेट एंड ट्रांसफर और दूसरा है पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप। अथॉरिटी इस प्रोजेक्ट के लिए लोन लेने पर भी विचार कर सकती है।

मेट्रो : 10 साल बाद भी एंट्री का इंतजार

Dec 26, 2012, 08.00AM IST

मेट्रो को दस्तक दिए 10 साल हो चुके हैं लेकिन अब तक शहर में इसकी एंट्री नहीं हो सकी है। हालांकि सिटी में मेट्रो का काम अप्रैल 2013 से शुरू हो सकता है। निर्माण के लिए डीएमआरसी ने दोबारा डीपीआर तैयार कर ग्रेनो अथॉरिटी को सौंप दी है। नई डीपीआर में कॉस्ट करीब 500 करोड़ रुपये बढ़ गया है। ग्रेटर नोएडा में मेट्रो के 6 स्टेशन और एक डिपो होगा। मेट्रो आने में क्यों हुई देरी और लंबे इंतजार के बाद मेट्रो आने से क्या होगा फायदा ? बता रहे हैं पवन सिंह :

नॉलेज पार्क -4 तक आएगी मेट्रो
शहर में मेट्रो नोएडा के सिटी सेंटर , सेक्टर -49, सेक्टर -182, नोएडा – ग्रेनो एक्सप्रेस – वे होते हुए परी चौक और नॉलेज पार्क -4 तक लाने की योजना है। नोएडा से लेकर ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क -4 तक कुल 20 स्टेशन होंगे। इनमें से 14 स्टेशन नोएडा में और 6 स्टेशन ग्रेनो में हांेेगे। यह रूट करीब 29 किलोमीटर का है। ग्रेनो में मेट्रो डिपो के लिए भी अथॉरिटी ने 50 एकड़ जमीन चिन्हित कर ली है।

फंड पर नहीं हुआ फैसला

इस प्रोजेक्ट पर आने वाले खर्च के लिए पैसा कहां से आएगा , इस पर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है। अथॉरिटी के पास इस समय फंड की कमी है। अथॉरिटी दो अन्य विकल्प पर भी विचार कर रही है। इनमें से एक है बिल्ट ऑपरेट एंड ट्रांसफर और दूसरा है पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप। अथॉरिटी इस प्रोजेक्ट के लिए लोन लेने पर भी विचार कर सकती है।

क्यों हुई देरी
शहर में मेट्रो लाने की योजना वर्ष 2005 में बनी। लेकिन अथॉरिटी शुरू से ही मेट्रो को लेकर कन्फ्यूज नजर आई। पहले यहां मेट्रो रेल लाने की बात अथॉरिटी ने की। फिर अचानक शहर में मोनो रेल चलाने की बात की गई। इसके बाद एक बार फिर अथॉरिटी ने मेट्रो रेल चलाने की प्लानिंग की। निर्माण एजेंसी को लेकर भी करीब एक वर्ष तक कन्फ्यूजन बना रहा। पहले गुड़गांव की तर्ज पर किसी निजी एजेंसी से मेट्रो का निर्माण कराने का विकल्प रखा गया। फिर बाद में डीएमआरसी से निर्माण कराने पर सहमति बनी। इसके बाद ग्रेनो वेस्ट के टेंशन ने मेट्रो पर ब्रेक लगा दिया।

क्या होगा फायदा
ग्रेनो तक मेट्रो आने से यह शहर सही मायने में एनसीआर खासकर दिल्ली से पूरी तरह जुड़ जाएगा। हर रोज शहर से लाखों लोग दिल्ली और एनसीआर में जॉब के लिए आते – जाते हैं। मेट्रो आने के बाद उनके जाने – आने के समय में कटौती होगी। इसके अलावा , बड़ी संख्या में लोग इस शहर में आशियाना बनाना चाहते हैं लेकिन मेट्रो कनेक्टिविटी न होने के कारण पीछे हट जाते हैं। मेट्रो आने के बाद शहर पूरी तरह बस जाएगा। अगर बात स्टूडेंट्स की करें तो शहर को एजूकेशन हब कहा जाता है। यहां करीब 87 प्रफेशनल कॉलेज हैं। हजारों की संख्या में स्टूडेंट्स हर रोज दिल्ली और एनसीआर के अन्य हिस्सों से यहां पढ़ाई के लिए आते हैं। मेट्रो आने के बाद न सिर्फ ऐसे स्टूडेंट्स को ट्रांसपोर्ट की बेहतर सुविधा मिलेगी बल्कि कॉलेजों में भी अधिक संख्या में स्टूडेंट्स ऐडमिशन लेंगे।

 

परीचौक तक मेट्रो के बनने लगे आसार

Updated on: Wed, 05 Dec 2012 08:31 PM (IST)

संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने बुधवार को नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो रेल के लिए दूसरी डिटेल प्रोजक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) प्राधिकरण को सौंपी। इस रिपोर्ट के अनुसार, परी चौक तक मेट्रो लाने के खर्च में पांच सौ करोड़ रुपये का इजाफा हो गया है। डीएमआरसी ने पहली डीपीआर अप्रैल 2011 में प्राधिकरण को सौंपी थी। इसमें नोएडा से परीचौक तक मेट्रो रेल लाने का खर्च पांच हजार करोड़ रुपये आंका गया था। सूत्रों के मुताबिक, अप्रैल 2013 तक मेट्रो रेल के निर्माण का काम शुरू होने की संभावना है।

ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो लाने की लंबे समय से कवायद चल रही है। नोएडा सिटी सेंटर से सेक्टर-82, नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के किनारे होकर मेट्रो रेल का परीचौक तक निर्माण प्रस्तावित है। इसके निर्माण के लिए प्राधिकरण ने डीएमआरसी से विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट मांगी थी। डीएमआरसी ने अप्रैल, 2011 में प्राधिकरण को पहली डीपीआर सौंप दी। इसके अनुसार, परी चौक तक मेट्रो के निर्माण में 5,000 करोड़ रुपए का खर्च आंका गया था, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण प्राधिकरण इस प्रोजेक्ट को हरी झंडी नहीं दे पाया। अब शहर के विकास की गति तेज करने के लिए प्राधिकरण मेट्रो के निर्माण को लेकर संजीदा हो गया है। प्राधिकरण ने डीएमआरसी से दोबारा डीपीआर तैयार करने को कहा था। डीएमआरसी ने बुधवार को नई डीपीआर प्राधिकरण को सौंप दी। नई डीपीआर के अनुसार, परी चौक तक मेट्रो के निर्माण का खर्च 500 करोड़ रुपए बढ़ गया है। आधिकरिक सूत्रों ने बताया कि डीएमआरसी की नई रिपोर्ट मिल गई है। जल्द ही इस पर काम शुरू हो जाएगा। नए वित्तिय वर्ष से इस महत्वाकांक्षी परियोजना के शुरू हो जाने की संभावना है।

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/noida-9914453.html

परी चौक तक मेट्रो की डीपीआर तैयार : सीईओ

Oct 5, 2012, 06.00AM IST

एक संवाददाता ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा में मेट्रो की डीपीआर तैयार हो गई है। मेट्रो नोएडा – ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस – वे से होते हुए फर्स्ट फेज में परी चौक तक आएगी। सीईओ रमा रमण ने न्यू हॉलैंड कंपनी में उद्यमियों के साथ मीटिंग में यह घोषणा की। मीटिंग मंे उद्यमियों ने सीईओ को कई समस्याएं गिनाईं। सीईओ रमा रमण ने उन्हें आश्वासन दिया कि हर समस्या को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित किया जाएगा। सीईओ ने ग्रेटर नोएडा में मेट्रो जल्द लाए जाने की मांग पर कहा कि इस पर अथॉरिटी काम कर रही है। मेट्रो की डीपीआर बनकर तैयार हो गई है। जैसे ही अथॉरिटी की अर्थिक स्थिति सुधर जाएगी , मेट्रो पर काम शुरू हो जाएगा।

एडीजी मेरठ मंडल जे . एल . त्रिपाठी ने उद्यमियों की सुरक्षा के मुद्दे पर कहा कि इसके लिए नोएडा , ग्रेटर नोएडा में सभी चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ट्रैफिक सिग्नल पर पुलिस के जवान तैनात किए जाएंगे। उन्हांेने कहा कि सूरजपुर में कलेक्ट्रेट के पास बन रहा एसएसपी का दफ्तर एक साल में बनकर तैयार हो जाएगा।

मीटिंग में उद्यमियों ने यूपीएसआईडीसी के रीजनल मैनेजर मयंक श्रीवास्तव पर धमकाने और रिश्वत मांगने के आरोप लगाए। साथ ही एनपीसीएल पर उद्योगों को कम बिजली देने का आरोप लगाया। आरोप पर डीएम एम . के . एस . सुदंरम ने एनपीसीएल और यूपीएसआईडीसी के अधिकारियों को अपनी छवि सुधारने के निर्देश दिए।

http://navbharattimes.indiatimes.com/preparation-of-dpr-of-pari-chowk-metro-ceo/articleshow/16674542.cms

कनेक्ट होंगे गुड़गांव, दिल्ली और फरीदाबाद

Oct 9, 2012, 06.00AM IST

एनबीटी न्यूज ग्रेटर नोएडा
पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए बदनाम ग्रेटर नोएडा जल्द इस दाग को धो देगा। पब्लिक ट्रांसपोर्ट के मामले में अपना शहर एनसीआर के अन्य शहरों से आगे होगा। अथॉरिटी ने इसके लिए कवायद शुरू कर दी है। रैपिड ट्रांजिट सिस्टम प्रोजेक्ट से दिल्ली , गुड़गांव और फरीदाबाद ग्रेटर नोएडा से सीधे जुड़ जाएंगे। अथॉरिटी के सीईओ रमा रमण ने बताया कि डीएमआईसी प्रोजेक्ट को लेकर केंद्र सरकार के साथ ही अब यूपी गवर्नमेंट भी गंभीर है। इस प्रोजेक्ट को शुरू करने के लिए शासन स्तर पर कई बार मीटिंग और प्रेजेंटेशन हो चुके हैं। ग्रेटर नोएडा को इस प्रोजेक्ट का एक इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट रीजन के तौर पर चिह्नित किया गया है। इसी के तहत रैपिड ट्रांजिट सिस्टम बनाया जाएगा। इससे रेल लिंक के माध्यम से ग्रेटर नोएडा , दिल्ली , गुड़गांव और फरीदाबाद शहर आपस में जुड़ जाएंगे। जल्द ही इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो जाएगा।

मेट्रो मिटाएगी दूरी
नोएडा के सेक्टर -32 से ग्रेटर नोएडा के परी चौक तक मेट्रो लाने के लिए अथॉरिटी ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। सीईओ ने बताया कि मेट्रो का डीपीआर फाइनल हो गई है। अथॉरिटी की मंशा इसे पीपीपी मॉडल पर तैयार करने की थी। यदि कोई पार्टनर नहीं मिलता है तो इसे अथॉरिटी अपने खर्चे पर बनवाएगी। जल्द ही इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया जाएगा।

स्पेशल पर्पज वीइकल कराएंगे नोएडा से दोस्ती
सीईओ ने बताया कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बीच कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए नोएडा और ग्रेनो अथॉरिटी यूपीआरटीसी के साथ मिलकर एक कंपनी गठित कर रही हैं। कंपनी गठित होने के बाद बसें खरीदी जाएंगी। बसें नोएडा – ग्रेटर नोएडा के सभी सेक्टरांे में जाएंगी। बसों में जीपीएस लगा होगा और अथॉरिटी इसकी मॉनिटरिंग करेगी। उन्होंने बताया कि एक महीने में कंपनी का गठन कर लिया जाएगा।

नई दिल्ली से बड़ा बोडाकी रेलवे जंक्शन
सीईओ ने बताया कि डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और दिल्ली – मुंबई इंडिस्ट्रयल कॉरिडोर की जरूरत के मुताबिक , बोडाकी रेलवे स्टेशन को अपग्रेड कर जंक्शन बनाया जाएगा। यह जंक्शन नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से काफी बड़ा होगा। जंक्शन बनने के बाद तमाम ट्रेन यहां रुकंेगी। जंक्शन के निकट बहुत बड़े साइज का एक बस अड्डा भी होगा। यहां से विभिन्न शहरों के लिए बसें चलेंगी। इस प्रोजेक्ट पर काम अगले महीने तक शुरू होने की संभावना है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/will-connect-gurgaon-delhi-and-faridabad/articleshow/16727858.cms

परी चौक तक मेट्रो की डीपीआर तैयार : सीईओ

Oct 5, 2012, 06.00AM IST

एक संवाददाता ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा में मेट्रो की डीपीआर तैयार हो गई है। मेट्रो नोएडा – ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस – वे से होते हुए फर्स्ट फेज में परी चौक तक आएगी। सीईओ रमा रमण ने न्यू हॉलैंड कंपनी में उद्यमियों के साथ मीटिंग में यह घोषणा की। मीटिंग मंे उद्यमियों ने सीईओ को कई समस्याएं गिनाईं। सीईओ रमा रमण ने उन्हें आश्वासन दिया कि हर समस्या को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित किया जाएगा। सीईओ ने ग्रेटर नोएडा में मेट्रो जल्द लाए जाने की मांग पर कहा कि इस पर अथॉरिटी काम कर रही है। मेट्रो की डीपीआर बनकर तैयार हो गई है। जैसे ही अथॉरिटी की अर्थिक स्थिति सुधर जाएगी , मेट्रो पर काम शुरू हो जाएगा।

एडीजी मेरठ मंडल जे . एल . त्रिपाठी ने उद्यमियों की सुरक्षा के मुद्दे पर कहा कि इसके लिए नोएडा , ग्रेटर नोएडा में सभी चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ट्रैफिक सिग्नल पर पुलिस के जवान तैनात किए जाएंगे। उन्हांेने कहा कि सूरजपुर में कलेक्ट्रेट के पास बन रहा एसएसपी का दफ्तर एक साल में बनकर तैयार हो जाएगा।

मीटिंग में उद्यमियों ने यूपीएसआईडीसी के रीजनल मैनेजर मयंक श्रीवास्तव पर धमकाने और रिश्वत मांगने के आरोप लगाए। साथ ही एनपीसीएल पर उद्योगों को कम बिजली देने का आरोप लगाया। आरोप पर डीएम एम . के . एस . सुदंरम ने एनपीसीएल और यूपीएसआईडीसी के अधिकारियों को अपनी छवि सुधारने के निर्देश दिए।

http://navbharattimes.indiatimes.com/preparation-of-dpr-of-pari-chowk-metro-ceo/articleshow/16674542.cms

Noida: Metro work connecting City Centre to Sector- 62 to start soon

Posted on: 14 Sep 2012, 10:01 AM

Noida: Sector-62 metro work to start soon

Noida: Work on the proposed Metro route from City Centre to Sector -62 in Noida is expected to start in the month of November. Decision in this regard would be taken in the board meeting slated for the next month. It is said that the work was to get off in October.

However, work may get off to a start in the month of November due to the organizing of Formula One Airtel Indian Grand Prix race.

Remarkably, the length of proposed metro route from the City Centre to Sector-62 is 6,675 meter.

This Metro route which stretches from City centre to Sector-62 Noida would have model town as its last station and it would be called Electronic City Station.

Moreover, the railway track in the city would be elevated one. There would be six stations on the proposed metro route after its City Centre station.

An expense of approximately Rs 1805 crore is expected to be incurred on it. As per the Detailed Project Report (DPR), the entire route will be an elevated one.

At first the Metro track was to be modeled on Central Verge. However, it was diverted to Green Belt. As a deep sewer line falls in the metro track, the track has to be diverted to sector-63 instead of central verge.

U-turns to be made at three and four intersections

The route in which the proposed metro would be going is road no-6 (Model Town to Sector-71)  and consists of three and four intersections. To streamline the traffic flow in these seven places, U-turns are to be made. As a result of which there would not be traffic chaos and at the same time the metro construction work would go rapidly.

Awareness campaign to start

An awareness campaign will be conducted before the start of metro work. People will be told as to where the diversions have been made on this road due to the construction of the metro work. At what time the maximum crowd will be there at which area and what other roads people can take will be informed during this awareness campaign.

More than three lakh and fifty thousand vehicles cross everyday

The study conducted by the IIT, Roorkee, revealed that more than 3 lakh 50 thousand vehicles cross the road no- 6 (From Model Town to Sector- 71) everyday. This includes Heavy Motor Vehicles (HMVs), Light Motor Vehicles (LMVS) along with cars. For a smooth traffic, route diversions will be made along with deployment of police personnel in the concerned area.

Extra Home guards to be deployed at divergent roads

As an alternative arrangement, several underpasses have been made to tackle the situation. For a free flow of traffic, extra home guards will be deployed at several routes to avert any kind of crowd mess.

JPN/ Bureau

http://post.jagran.com/noida-metro-work-connecting-city-centre-to-sector-62-to-start-soon-1347547761

Metro link to Sector 62 on fast track with alignment plan approvals

TNN Sep 4, 2012, 12.26AM IST

NOIDA: In a bid to fast track the extension of the Metro line from Noida City Center to Sector 62, touching NH-24, the Noida Authority held a review meeting on Monday to take stock of all technical glitches pertaining to the proposed line.

The change in alignment for the Metro line that was proposed by the Authority last month has been finalised and it has been decided that instead of being constructed on the right side of the green belt in the Flex crossing area, the line will now be constructed on the central verge of the Master Plan Road-III from Sector 32 onwards to avoid the high tension cables running over the green belt.

In the meeting, Authority officials also took notes on other technical aspects including level of the Metro track, curvature turnings of the track, presence of any properties or obstructions on the proposed route, the spots proposed for stations, etc.

The Authority has also decided that the alignment of proposed line must not disturb the existing commercial belt that surrounds all four sides of the proposed route. It will now inform the Delhi Metro Rail Corporation of all these points so that the latter can incorporate these in the Detailed Project Report.

"After several surveys and detailed inspections, it was finally decided that the Metro line will be constructed along the central verge as proposed earlier with some minor adjustments. We carried out detailed inspections to ensure that the Ganga water pipeline, gas pipelines, sewage lines, telephone cables, high tension power transmission lines, and private properties were not in the way of the Metro alignment," an Authority official said.

"The review meeting was held to take stock of all these matters and to focus on fast tracking the metro project," he said.

To be constructed at a cost of Rs 1,805 crore, the proposed line between City Center station and Sector 62 near Indirapuram in Ghaziabad will be a great relief to commuters from Noida and Ghaziabad. As per current plan, the extended route will have six stations at Sectors 34/51, 71/72, 61, Mamura, Fortis, and Electronic City.

Meanwhile, in the meeting on Monday, the Authority has also decided to fast track the redevelopment plan of the Sector 18 market. CEO Sanjeev Saran has directed the project engineers to tackle the redevelopment project on a "priority basis."

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-09-04/noida/33581155_1_metro-line-metro-alignment-noida-city-center

Noida to get monorail, swanky new buses

Darpan Singh, Hindustan Times
Noida, January 28, 2012Noida too is going to join the growing number of cities that will have a monorail system in the next few years. Once the phase 3 Metro expansion is complete, the Noida Authority will start building a monorail network.
The authority is currently working on the extension of two Metro

lines — from City Centre to NH-24 and from Botanical Garden to Kalindi Kunj. “These projects are expected to be completed in four years. Then, we will begin work on monorail,” authority chief executive officer SK Dwivedi said.

The Noida Authority is also working to improve its local bus network, which — going by its rickety fleet of state-run buses — is in a shambles.

Dwivedi also revealed that the existing rickety buses will be replaced by swanky ones, complete with global positioning system (GPS). These buses, he said, will run on rapid transit corridors.

“This will ease the perennial snarls and will also check accidents. We are formulating a special purpose vehicle to work on the upgrade,” the CEO said.

Meanwhile, Greater Noida officials said the work on the proposed Noida-Greater Noida Metro link has been delayed due to fund crunch. “The project is tentatively billed at Rs 5,000 crore,” said Greater Noida CEO Rama Raman.

http://www.hindustantimes.com/India-news/NorthIndia/Noida-to-get-monorail-swanky-new-buses/Article1-803092.aspx

Metro line between Noida, Greater Noida approved

Vandana Keelor, TNN Jul 10, 2012, 02.17AM IST

NOIDA: Nearly four months after the government in Uttar Pradesh changed hands, the three development authorities — Noida, Greater Noida and Yamuna Expressway — held their long-awaited board meetings on Monday. Metro connectivity remained the focus of Noida Authority at its 176th board meeting. Apart from approving the DPR for a Metro extension between Kalindi Kunj and Botanical Garden, Noida Authority also gave its nod to a 7km link to Noida Extension. An exclusive Metro route between Noida and Greater Noida also got the board's clearance.

For the year 2012-13, the Authority allotted a total budget of Rs 7,021 crore for Noida. Of this, nearly 43% (Rs 3,000 crore) was allocated for development and infrastructure, besides Rs 500 crore for Metro extension.

"The long-pending DPR of the 3.9km Metro route between Kalindi Kunj and Botanical Garden will now be forwarded to the state government for approval. After that an MoU will be signed and then we will release the funds for its commencement," said Sanjiv Saran, CEO, Noida Authority.

In an effort to provide Metro connectivity to lakhs of people who would reside in the 'affordable housing hub' Noida Extension in the next 2-3 years, the board approved a proposal to extend the City Center Metro line till the crossing of sectors 71 and 72. A DPR will soon be prepared for this line. While the stations will be marked soon, Noida Authority officials said at least two stations will fall in Noida Extension, near Gaur roundabout and Eco Village-III. "This 7km route will cost Rs 1,800 crore. Of this, Rs 1,100 crore will be shared between Noida and Greater Noida," Saran said.

A special Metro line connecting the twin cities also got the green signal. "We are working on a PPP model and studying the feasibility of constructing this 35km line. The project is estimated to cost Rs 200 crore per km," the CEO said.

The Authority fast-tracked proposals for the widening of two bridges over the Shahdara drain near Film City and before the Okhla Barrage. The board also approved the setting up of a centralized emergency helpline number that will cater to police, medical and fire emergencies. The number will be functional 24×7. "We are in the process of finalizing the blueprint of this project and should launch it on August 15," Saran said.

The Authority plans to establish a Rs 100 crore, IIT-Roorkee approved, UASB technology driven sewage disposal system, and identify a sanitary land fill site in Sector 123. Construction of underpasses, flyovers and foot over bridges across the city is also on the cards. Special schemes will be launched for banks and nursing homes which have been displaced after the Supreme Court ruling barring all commercial activity from non-conforming areas.

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-07-10/noida/32617850_1_noida-extension-greater-noida-39km-metro

Uttar Pradesh government agrees to Dwarka-Noida Metro line extension

Suhas Munshi  New Delhi, April 11, 2012 | UPDATED 12:18 IST

Clogged roads and shared autorickshaws may soon be a thing of the past for Noida residents with the Uttar Pradesh government giving its nod to connect the Noida City Centre with Sector 62.

The state government has given its go-ahead to the Delhi Metro's detailed project report on the proposed Metro link between the two points.

The proposed line, nearly 7-km long, will be an extension of the current Dwarka Sector 21- Noida City Centre line.

The route, once completed, will connect the key industrial and residential areas of Noida with the rest of the network in the National Capital Region. Areas that the proposed line will pass through include Noida Sector 52, Electronic City, ending at Noida sector 62.

Now that the DMRC has got the clearance from the state administration, the project report has been moved to the officials in the central government. It is likely to cost around Rs.1,850 crore.

"This is an important route as it covers densely populated as well as VIP areas. All stations have been designed to be built above the ground so that they do not impede the traffic flow. For passengers' comfort, we have proposed to introduce only 6 and 8-coach trains," a DMRC spokesperson said.

Read more at: http://indiatoday.intoday.in/story/uttar-pradesh-government-dwarka-noida-metro-line-extension/1/183909.html

 

UP tells Noida to zero in on 'top 5' projects

Darpan Singh, Hindustan Times
Noida, April 11, 2012

The Samajwadi Party (SP) government in Uttar Pradesh has made it clear that development of Noida is top priority for the party.
The state government has asked the Noida authority to provide a list of five development projects which are linked directly to the common man and need

immediate attention from Lucknow as well as the local administration.

Authority officials said the focus would be on decongesting the national highway-24, a new bridge over the Yamuna for better Noida-Delhi connectivity, new Metro lines, a solid waste management plant, a modern sewage treatment plant, besides some flyover and underpass projects.

When Akhilesh replaced Mayawati as chief minister, there were apprehensions in certain quarters that Gautam Budh Nagar (home district of Bahujan Samaj Party chief and former CM Mayawati's home district) comprising Noida and Greater Noida would lose the special status.

That the three assembly seats in the district did not elect even a single SP candidate in the recent assembly elections fuelled such feelings.  

The apprehensions further grew when all top officials of the Noida authority – replacements for chief executive officer and chairman are yet to come – and the police/civil administrations were changed and the government began a review of all of Mayawati's dream projects.

"But the new government clarified that electoral politics aside, there will not be any comprise with infrastructure development and quality of life in Noida," said a senior authority official. 

The scene in Greater Noida is not much different. "The chief minister has sought a report on all stuck infrastructure development projects, especially the one for Metro expansion," said a Greater Noida authority official.

A Metro expansion has been planned from Noida to Greater Noida. A detailed project report (DPR) is also ready. "The new government has put the Greater Noida Metro project on top of its priority. Fund crunch would not be allowed to halt the project any more. If need be, we will seek assistance from the Noida authority," said authority CEO Rama Raman.

The new industrial development commissioner of Uttar Pradesh, Anil Kumar Gupta, also recently visited Noida and asked senior officials here to accelerate the pace of development. He met officials of all the three industrial development authorities in Noida, Greater Noida and Yamuna Expressway and reviewed various development projects.

Areas of focus

–National highway 24: The link which touches Noida, Ghaziabad and takes motorists to Delhi, is highly congested and needs to be widened. Underpasses also need to be built. 

–Construction of a bridge (addition of four lanes to the existing one) over the Yamuna. The Delhi-Noida connectivity project will be an alternative to DND toll flyway and will cost Rs. 300 crore.

–The city generates 400 tones of waste every day but a solid waste management plant is yet to be put in place. Disposal has meant throwing garbage in vacant areas and pits.

–The Noida authority has planned to use a modern technology for treatment of sewage water. Now, there will not be emission of harmful gases such as methane.

–The focus will also be on building new flyovers, underpasses, besides adding green cover in the city.

http://www.hindustantimes.com/India-news/UttarPradesh/UP-tells-Noida-to-zero-in-on-top-5-projects/Article1-839113.aspx

प्रोजेक्टों की फंडिंग के लिए पीएम से मिलेंगे सीएम

11 Apr 2012, 0900 hrs IST  

विशेष संवाददाता ॥ लखनऊ

दिल्ली-एनसीआर मेट्रो रेल प्रोजेक्ट को मंजूर करवाने को लेकर सीएम अखिलेश यादव 14 अप्रैल को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात करेंगे। साथ ही इस प्रोजेक्ट के लिए केंद्र से पर्याप्त धन मुहैया करवाने की मांग भी करेंगे। इस प्रोजेक्ट के साथ ही गाजियाबाद के यूपी गेट से डासना तक और वजीराबाद से डासना तक के 2 सड़क परियोजना के लिए भी केंद्र से सहायता मांगी जाएगी।

सीएम के रूप में अखिलेश यादव की प्रधानमंत्री से यह पहली मुलाकात होगी। इस दौरान वे लखनऊ के मेट्रो रेल प्रोजेक्ट को शुरू करने एवं आर्थिक सहायता लेने का भी एक प्रस्ताव पीएम के सामने रखेंगे। इस प्रोजेक्ट में 12500 करोड़ रुपये में से 48 प्रतिशत धनराशि जापान इंटरनैशनल कोऑपरेटिव एजेंसी दे रही है। इसके अलावा आने वाली लागत की मांग केंद्र सरकार से की जाएगी।

बताया जा रहा है कि मनमोहन सिंह और अखिलेश यादव की यह मुलाकात अकेले में होगी। दूसरी तरफ, दिल्ली में होने वाली इस मुलाकात पर सभी राजनीतिक दलों के साथ-साथ देश के नौकरशाहों की भी नजर लगी है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि यूपी के प्रति केंद्र का भविष्य में कैसा रवैया होगा, यह इस मुलाकात की सफलता पर निर्भर करेगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/12614298.cms

DMRC approves extension of Noida & Greater Noida metro line

7 Apr, 2012, 09.29AM IST, PUNITA,TNN

Noida and Greater Noida are to get a new lifeline, as tracks are clear for the Metro line here.The authorities concerned have approved a major detailed extension of the Metro route connecting almost all of Noida and Greater Noida at a cost of Rs 10,000 crore, covering a total of 86km. The DMRC ( Delhi Metro Rail Corporation) has given a go-ahead to this project and it is likely to be completed by 2015.

Besides extending the existing City Centre Metro route connecting Kalindi Kunj and Botanical Garden, a new line from the City Centre station connecting Sector 32 to Sector 62 and touching NH-24 , was also approved. This new 6km route will be via Sector 71 crossing and will provide connectivity to Sectors 32, 34, 35, Hoshiarpur, Sectors 51, 52, 71, Greater Noida Extension Marg, Sarfabad, Sectors 60, 61, 62, 63 and NH-24 .

A new loop from Sector 71 via Sector 121 will then join the Greater Noida route between the City Centre and Bodaki railway station in Greater Noida. This route will be from the City Centre along the Greater Noida Expressway , touching Knowledge Park 4 via Pari Chowk and will finally end at Bodaki. The new loop has been added mainly to connect Noida Extension, which is near Sector 121, with Noida as well as with Greater Noida.

If the project runs on schedule, there will soon be a direct Metro connectivity between Noida and areas in South Delhi like Kalkaji, Malviya Nagar, Nehru Place, Green Park and Vasant Kunj. At present, commuters have to take the Noida-Dwarka route and get down at Rajiv Chowk station to change lines. Experts believe it will boost real estate market in Noida, Greater Noida and the neighbouring areas.

S K Diwedi, the chief executive officer of Noida, says: "The proposed line will be a part of the DMRC's larger plan to link Jahangirpuri and Kalindi Kunj. Noida Authority and DMRC officials are reviewing the plans twice in a month."

The new link will also be a part of DMRC's Phase III expansion plan, which will now cover 105km, instead of the earlier proposed 70km, to enter areas like Faridabad and Noida. In addition, Noida will also be floating the tender for the extension of the Metro line from Noida City Centre to Bodaki in Greater Noida.

Rama Raman, the chairman and chief executive officer of Greater Noida Industrial Development Authority (GNIDA), says: "Once the project is complete, it will be easy to move from Delhi to Noida-Greater Noida and Ghaziabad, as the authority has designed this Metro connectivity project.

The authority is approaching financial institutions for viability gap funds and tax exemptions to meet the requirement. According to the alignment, 22 Metro stations have been proposed in the 28kmlong Noida and Greater Noida Metro link, which costs around 5,500 crore. Nearly 65,000 passengers are expected to commute daily on this line. This Metro link will connect with Ghaziabad in the second phase of execution."

Proposed Metro stations in Greater Noida

City Centre (Sector 32), Sector 51, Sector 50, Sector 78, Sector 101, Sector 81, Dadri Road, Sector 83, Sector 137, Sector 143, Sector 147, Sector 144, Sector 153, Sector 149, Knowledge Park 2, Pari Chowk, Alpha 1 Alpha 2 and Bodaki (depot stations)

Daily commuters:

65,000 (during peak hours)

http://economictimes.indiatimes.com/news/news-by-industry/transportation/railways/dmrc-approves-extension-of-noida-greater-noida-metro-line/articleshow/12566900.cms

Noida plans Metro over elevated road

Saturday, 07 April 2012 01:09

Rakesh Ranjan/Parul Kohli | New Delhi/Noida

For the first time in India, commuters will have an elevated road and a Metro corridor built on the same Metro pillars.

This has been proposed between Noida City Center and Sector-62. A proposal in this regard has been made to the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC). If the Noida authority has its way, an elevated road would be

constructed vertically parallel to the Metro line passing through the heavily congested 6.6 km stretch.

Though final approval from DMRC is awaited, the authority officials said the first-of-its-kind structure would be the ultimate solution to traffic woes in this part of the city besides significantly cutting short the construction cost and time consumption.

The proposed Metro line would be a 6.6-km-long elevated corridor at an estimated budget of Rs1,800 crore. The proposed Metro corridor would have five new stations. The project is expected to be completed by 2016. As the authority officials pointed out, the elevated vehicle corridor from City Center to Sector-62 has to be constructed to decongest the area; constructing it along with the Metro corridor would save time and money. Subject to approval from the DMRC, the detailed plan of the elevated road would be submitted to the DMRC for further consideration.

“The elevated road will be 5.5 metre above the road surface. Similarly, the Metro viaduct will be at a height of another 5.5 metre from the elevated road. This would take the total height of the Metro corridor to 11 metres from the road surface,” said a Noida authority official.

Chandra Bhanu Singh, Deputy Chief Executive Officer, Noida authority said, “We are examining the Detailed Project Report (DPR) prepared by the Delhi Metro for the new corridor so as to find the possibilities of merging the two projects together.

A memorandum of understanding for execution of the Metro construction work will soon be signed between the authority and the DMRC. However, we have urged the DMRC to incorporate the elevated road project with approved plan.” Officials said the new project will be time-saving as it will require only one foundation for the two structures and also the same will be cost-efficient. An official said the Noida authority will spend over Rs1,000 crore on the project. As they claimed, the corridor will immensely benefit lakhs of people residing in areas like sectors 32, 34, 35, 50, 51, 52, 60, 61 and 62 among others. Some of these residential areas are posh localities. According to officials, this will also help in reducing traffic congestion on the roads connecting to NH 24 which witnesses heavy vehicular volume at any point of the time.

http://www.dailypioneer.com/home/online-channel/360-todays-newspaper/55837-noida-plans-metro-over-elevated-road.html

Metro to go deeper into Noida

Darpan Singh and Peeyush Khandelwal, Hindustan Times
Noida, April 03, 2012

The Delhi Metro rail Corporation (DMRC) has submitted a detailed project report (DPR) for the expansion of the Metro line in Noida from City Centre (Sector 32) up to Sector 62 (NH 24-Ghaziabad border). The new line would be a 6.5-km-long elevated corridor with an estimated budget of

R1,800 crore. The project is likely to be completed by 2016. “The DPR is being studied. A memorandum of understanding will soon be signed between the authority and the DMRC,” said CB Singh, deputy chief executive officer, Noida authority. 

There will be six new stations on the extended line, which is expected to resolve the problem of traffic congestion. People living on both sides of NH-24 will benefit from this project.

Ghaziabad extension

The Ghaziabad Development Authority (GDA) would hold a high-level meeting with DMRC officials and the UP chief secretary at Lucknow on Tuesday to discuss methods to expedite extension of the Metro line from Dilshad Garden to Arthala.

“We are confident that some concrete decision would be taken at the meet,” said GDA vice-chairman Santosh Kumar Yadav.

GDA officials would discuss the extension of the Metro line from Dilshad Garden in Delhi to Arthala (near Mohan Nagar) in Ghaziabad. The 7.31km extended line would have six stations. This route would largely cater to the trans-Hindon areas of Sahibabad, Vasundhara, Lajpat Nagar, Rajendra Nagar and Shalimar Garden.

The project has an estimated cost of R815 crore and the inability of GDA to solely fund it caused delays.

 

Greater Noida to Ghaziabad in 20 minutes

NOIDA: The Greater Noida Industrial Development Authority (GNIDA) and Ghaziabad Development Authority (GDA) have agreed to complete the construction of a 60-metre-wide and 12-km-long expressway between the two cities in the next six months. With this, the travel time between the two cities will reduce to 20 minutes.

The road links Vijay Nagar off NH-24 (Ghaziabad) and Gaur Sons crossing at Noida Extension, Greater Noida. From Noida Extension, another stretch takes motorists to Pari Chowk in Greater Noida.

GNIDA chairman Rama Raman and GDA vice-president Santosh Yadav met on Monday and cleared the project. The project had been delayed for the past 10 years because of land acquisition issues. Most of the project is ready, but a small portion (1.5km) falls in the abadi area of Ghaziabad. Of it, only 500 metre stretch is incomplete.

At present, it takes 60-90 minutes to reach Greater Noida via any of three routes.

http://www.hindustantimes.com/India-news/NewDelhi/Metro-to-go-deeper-into-Noida/Article1-834617.aspx

2016 तक नोएडा के सेक्टर-62 पहुंचेगी मेट्रो

नोएडा, संवाददाता : मेट्रो के जरिए नोएडा-गाजियाबाद को जोड़ने की दिशा में
दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने एक और मजबूत कदम बढ़ा दिया है।
डीएमआरसी ने इस रूट पर मेट्रो विस्तार के लिए सोमवार को प्राधिकरण को विस्तृत
परियोजना रिपोर्ट (डिटेल्ड प्रोजक्ट रिपोर्ट) सौंप दी है। डीपीआर में इस रूट
पर विस्तार का समय, स्टेशन की संख्या, मेट्रो कोच की संख्या, निर्माण की अवधि,
ट्रैक की कुल लंबाई और सड़क से इसकी ऊंचाई सहित निर्माण कार्य पर आने वाले कुल
खर्च का ब्योरा दिया गया है। प्राधिकरण ने डीपीआर को अध्ययन के लिए अपने
संबंधित विभाग को भेज दिया है। सभी विभाग से मंजूरी मिलने के बाद प्राधिकरण
इसे हरी झंडी दिखा देगा।

प्राधिकरण के उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी सीबी सिंह ने बताया कि सिटी सेंटर से
सेक्टर 62 (एनएच-24) तक मेट्रो विस्तार के दौरान छह स्टेशन बनेंगे। यह स्टेशन
सेक्टर 34, 52, 61, 59, 62 व एनएच-24 से सटी इलेक्ट्रानिक सिटी होंगे। मेट्रो
का यह पूरा रूट नोएडा में मौजूदा रूट की तरह एलिवेटेड होगा। इस पर यात्रियों
की संख्या काफी ज्यादा रहने का अनुमान है, लिहाजा डीएमआरसी इस रूट पर आठ कोच
वाली मेट्रो ट्रेन का संचालन करेगी। सिटी सेंटर से सेक्टर 62 मेट्रो विस्तार
के ट्रैक की कुल लंबाई 6.67 किलोमीटर होगी। इसके निर्माण पर कुल 1805 करोड़
रुपये खर्च किए जाएंगे। निर्माण कार्य अगले चार साल में मतलब 2016 तक पूरा
होगा।

डीएमआरसी द्वारा प्राधिकरण को सौंपी गई डीपीआर सेक्टर 62 तक ही है। हालांकि,
इससे पहले डीएमआरसी ने प्राधिकरण को इस रूट के लिए तकनीकी रिपोर्ट सौंपी थी,
उसमें संलग्न रूट मैप में इसी विस्तार को आगे बढ़ाकर वैशाली से जोड़ा जाना
प्रस्तावित है। सेक्टर 62 के बाद मेट्रो सीआइएसएफ कैंप के सामने से होती हुई
वैशाली तक जाएगी। इस रूट को दिल्ली से जोड़ने की कागजी प्रक्रिया पहले ही पूरी
हो चुकी है। डीएमआरसी इस रूट को दिल्ली से जोड़ने के लिए बॉटनिकल गार्डन से
कालिंदी कुंज तक के मेट्रो विस्तार की डीपीआर पहले ही प्राधिकरण को सौंप चुका
है। इस रूट पर निर्माण कार्य शुरू होने का इंतजार है। बॉटनिकल गार्डन से
कालिंदी कुंज और सिटी सेंटर से सेक्टर 62 होते हुए वैशाली तक मेट्रो पहुंचने
पर इस रूट पर यात्रियों की संख्या काफी ज्यादा रहेगी। इस रूट के जरिए
गाजियाबाद, नोएडा व दक्षिणी दिल्ली सीधे जुड़ जाएंगे। फिलहाल इस रूट पर सफर
करने वालों को काफी घूमकर जाना पड़ता है और रास्ते में कई जगह पर मेट्रो बदलनी
पड़ती है।

Dainik J

Noida Authority gives green signal to Delhi-Noida metro line expansion

Posted on: 14 Mar 2012, 09:38 AM

   Delhi-Noida metro expansion gets nod

Noida: In a big respite to the metro commuters visiting Noida and Delhi, the Noida Development Authority on Tuesday gave green signal to the DMRC‘s technical report on metro line expansion to sector 62.

As per the sources, the Delhi Metro Rail Corporation will submit the detailed project report (DPR) on the extension plan by next week.

The DMRC had given the technical report on the Delhi-Noida metro line extension project last week to the Noida Development Authority for its final nod.

As per the proposed plan, the existing Noida City Centre metro line will be connected to the Vaishali metro station. The proposed metro line will cover NH-24.

The construction on proposed extension project is likely to commence after the authority gives its final clearance to the DPR submitted by the DMRC next week.

JPN/Bureau

http://post.jagran.com/noida-authority-gives-green-signal-to-delhinoida-metro-line-expansion-1331664353

DMRC delays its DPR to Noida Authority

Posted by News Desk on 2012-03-14 16:37:51

 

Noida: Delhi Metro Rail Corporation is trying hard to proceed towards extension of Metro from Sector 32 Metro Station towards Sector 62. After getting nod over technical report the DMRC team is trying hard on Detailed Project Report but there is a delay of one week for completing the DPR. The Delhi Metro Rail Corporation has cleared that there are some changes to be made at the level of Chief Engineer; therefore the report will be sent by next week.

 Metro will cover a distance of 8 more kilometers in Noida. After that Metro will enter into the territory of Ghaziabad thus leaving the jurisdiction of Noida. Earlier on March 13 Noida Authority approved the technical report, DMRC has asked a week’s time before submitting the DPR. The Authority will spend Rs. 1200 crore for the construction of 8 kilo meter long Metro Line.

 The DMRC officials have informed that modifications are being made at some points. About three to four days will be required for modifications then the DPR will be sent to NA. The officials also said that the designs have also been finalised after the task of surveying was completed. Thus DMRC is pretty confident that the move will help in fast construction of the Metro track.

 The DCEO of NA, CB Singh hopes that the DMRC will hand over the DPR by March 19-20. Then the Authority will start the procedure after holding a meeting of officials.

http://newzstreet.com/noida/news.php?news_id=9756

 

 

सेक्टर-62 मेट्रो विस्तार की डीपीआर में अभी देर
एक सप्ताह करना होगा इंतजार,
मामूली संशोधन के बाद डीएमआरसी सौंपेगा रिपोर्ट
•अमर उजाला ब्यूरो
नोएडा। सेक्टर-32 सिटी सेंटर से मेट्रो आगे कदम बढ़ाने के लिए पूरी तरह
से जुट गई है। प्राधिकरण की तरफ से तकनीकी रिपोर्ट पर हरी झंडी दिखाने के
साथ ही डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट पर कार्रवाई जारी है। हालांकि अभी एक
सप्ताह और इंतजार करना पड़ेगा। इस संबंध में डीएमआरसी ने साफ कर दिया कि
चीफ इंजीनियर स्तर पर होने वाली कार्रवाई में कुछ बिंदुओं पर संशोधन किया
जाना है, इसलिए अगले सप्ताह रिपोर्ट सौंपी जाएगी।
नोएडा में मेट्रो आठ किलोमीटर का सफर और तय करेगी। इसके बाद ही शहर की
सीमा को पार करते हुए गाजियाबाद में उसके प्रवेश का रास्ता साफ होगा।
प्राधिकरण ने मंगलवार को तकनीकी रिपोर्ट को मंजूरी दे दी है, जिसके बाद
डीएमआरसी ने डीपीआर के लिए एक सप्ताह का समय मांगा है। आठ स्टेशन वाले इस
विस्तार में प्राधिकरण 1200 करोड़ रुपये खर्च करेगा। डीएमआरसी के
अधिकारियों ने बताया कि मेट्रो विस्तार की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट में
कुछ बिंदुओं पर संशोधन किया जा रहा है। हालांकि अन्य सभी भागों को तैयार
किया जा चुका है। इस संशोधन के काम को तीन से चार दिनों में पूरा कर लिया
जाएगा, जिसके बाद डीपीआर नोएडा को सौंप देंगे। उन्होंने बताया कि सर्वे
का काम पूरा करने के साथ ही डिजाइन भी बना लिया गया है, जिससे विस्तार के
काम को और तेजी से पूरा किया जा सके। इस प्रोजेक्ट में प्राधिकरण ने
डीएमआरसी को ही कंसलटेंट बना रखा है, जिसकी वजह से कार्यों को पूरा करने
में मदद मिल रही है।
इधर, नोएडा प्राधिकरण के डीसीईओ सीबी सिंह का कहना है कि डीएमआरसी ने 13
मार्च को डीपीआर देने की बात कही थी, लेकिन बाद में एक सप्ताह का और समय
मांगा गया है। उम्मीद की जा रही है कि 19-20 मार्च को रिपोर्ट मिल जाएगी,
जिसके बाद प्राधिकरण एक बैठक करके आगे की कार्रवाई शुरू करेगा।
•चीफ इंजीनियर स्तर पर हो रही है पूरी कार्रवाई
•तकनीकी रिपोर्ट पर प्राधिकरण ने लगाई मोहर

http://epaper.amarujala.com/svww_zoomart.php?Artname=20120314a_002105…

डीएमआरसी ने प्राधिकरण को सौंपी तकनीकी रिपोर्ट
आठ नए स्टेशनों के लिए काम शुरू

नोएडा। सेक्टर-62 मेट्रो विस्तार के लिए डीएमआरसी एक-एक कर कदम बढ़ा रहा है। डीएमआरसी ने सोमवार को विस्तार से संबंधित तकनीकी रिपोर्ट नोएडा प्राधिकरण को सौंप दी। साथ ही प्राधिकरण ने तकनीकी जांच के लिए सिविल विभाग को रिपोर्ट सौंप दी है, जिससे मेट्रो लाइन को बिछाने से पहले सभी पहलुओं पर गहनता से इस संबंध में विचार विमर्श किया जा सके। इसके अलावा आठ नए स्टेशनों के लिए स्थान चिह्नित करने का काम शुरू किया गया है।

सेक्टर-32 सिटी सेंटर से मेट्रो को आठ किलोमीटर आगे बढ़ते हुए सेक्टर-62 तक लाने की योजना है। यहां पर आठ स्टेशन बनाए जाएंगे। इससे नोएडा के कई आवासीय, औद्योगिक और संस्थागत सेक्टरों को जोड़ा जा सकेगा, वहीं इंदिरापुरम के कई हिस्सों को भी लाभ होगा। मालूम हो कि डीएमआरसी ने फरवरी के तीसरे सप्ताह में प्राधिकरण को डीपीआर सौंप दी थी। अब उसने मेट्रो विस्तार की तकनीकी रिपोर्ट में इंजीनियरिंग विभाग से जुड़े सभी सवालों के जवाब दिए गए हैं। साथ ही विस्तार का डिजाइन भी सौंप दिया गया है। प्राधिकरण के सीईओ कैप्टन एसके द्विवेदी ने बताया कि मेट्रो विस्तार पर गंभीरता से कार्रवाई हो रही है। इसके लिए अनुमानित बजट पहले ही जारी हो चुका है। बजट को लेकर कोई दिक्कत नहीं है। तकनीकी रिपोर्ट सीसीडी को भेज दी गई है, जिससे हर पहलू की जांच हो सकें। डीपीआर पहले ही आ चुकी है। तकनीकी रिपोर्ट पर मंजूरी मिलने के साथ ही एमओयू कर लिया जाएगा, जिससे निर्माण कार्य शुरू हो सके।
•सीसीडी को भेजी गई सेक्टर-62 मेट्रो विस्तार की रिपोर्ट
•सीईओ ने कहा अनुमानित बजट पहले ही जारी हो चुका है। कोई दिक्कत नहीं है।

गाजियाबाद के लिए भी खोला गया विकल्प
रिपोर्ट में सेक्टर-62 मेट्रो विस्तार के साथ-साथ इंदिरापुरम होते हुए गाजियाबाद का विकल्प भी खोल दिया गया है। तकनीकी रिपोर्ट ेके साथ दी गई डिजाइन में मॉडल टाउन से दाएं मुड़कर एनएच-24 पार कर सीआईएसएफ की ओर से मेट्रो को गाजियाबाद पहुंचाया जाएगा।

Source: Amar Ujala

नोएडा से गाजियाबाद की ओर बढे़ मेट्रो के कदम

नोएडा मेट्रो ने नोएडा से गाजियाबाद जाने की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने प्राधिकरण को सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से मॉडल टाउन (एनएच-24) तक मेट्रो विस्तार की तकनीकी रिपोर्ट सौंप दी है। इसमें मेट्रो के रूट सहित अन्य तकनीकी जानकारियां शामिल हैं। अगले सप्ताह डीएमआरसी इस रूट पर विस्तार की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) भी प्राधिकरण को सौंप देगा। दिल्ली से पहली बार बाहर निकलकर मेट्रो ने नोएडा में 12 नवंबर 2009 को प्रवेश किया था। शहर वालों के लिए यह बहुप्रतिक्षित और बड़ा तोहफा था। तभी से मेट्रो को पूरे शहर में चलाने की मांग उठने लगी थी। प्राधिकरण ने पिछले वर्ष मेट्रो के नए रूट पर विस्तार को मंजूरी देते हुए डीएमआरसी को इसके लिए कंसल्टेंट नियुक्त किया था। डीएमआरसी ने पिछले माह बॉटनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन से सरिता विहार (दिल्ली) तक के विस्तार की डीपीआर प्राधिकरण को सौंपी थी, जिस पर कुछ दिन पहले ही प्राधिकरण ने सहमति प्रदान कर दी है।

अब इस लाइन पर निर्माण के लिए निविदा जारी होने और फिर काम शुरू होने का इंतजार है। इसके साथ ही प्राधिकरण ने सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से मॉडल टाउन तक के विस्तार की भी कवायद शुरू कर दी थी। जनवरी में प्राधिकरण ने इसके लिए पत्र लिख डीएमआरसी से स्थल निरीक्षण करने के बाद तकनीकी रिपोर्ट मांगी थी। डीएमआरसी ने प्राधिकरण को अलाइंगमेंट ड्राइंग के साथ इस रूट के लिए भी तकनीकी रिपोर्ट सौंप दी है। इसमें मेट्रो विस्तार का पूरा नक्शा खींचा गया है। इसके मुताबिक मेट्रो सिटी सेंटर से आगे बढ़कर सेक्टर-71 चौराहा होते हुए मुख्य मार्ग के ऊपर (एलिवेटेड) से मॉडल टाउन तिराहे तक जाएगी। डीएमआरसी ने मेट्रो को मॉडल टाउन तिराहे से थोड़ा सा दाहिने और फिर बाएं मोड़कर सीआइएसएफ कैंप के सामने से गाजियाबाद के वैशाली मेट्रो स्टेशन तक जोड़ने का भी डिजाइन तैयार कर लिया है। सिटी सेंटर से मॉडल टाउन तक के इस रूट पर करीब आधा दर्जन स्टेशन प्रस्तावित हैं।

डीएमआरसी अधिकारियों के मुताबिक वह अगले सप्ताह तक इस रूट पर विस्तार की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट भी प्राधिकरण को सौंप देंगे। इसमें रूट के सभी मेट्रो स्टेशन की स्थिति सहित ट्रैक की कुल लंबाई व इसके निर्माण में आने वाले खर्च का विस्तृत ब्यौरा शामिल होगा। प्राधिकरण के उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी (डीसीईओ) सीबी सिंह ने बताया कि डीएमआरसी से प्राप्त तकनीकी रिपोर्ट व अलाइंगमेंट ड्राइंग को संबंधित विभागों के पास अध्ययन के लिए भेज दिया गया है।

Source: Dainik Jagran

एनएच-24 तक फर्राटा भरेगी मेट्रो

14 Feb 2012, 0400 hrs IST,टाइम्सऑफइंडिया.कॉम  

प्रमुख संवाददाता
नोएडा॥ शहर के लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब मेट्रो का सफर सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से नोएडा-इंदिरापुरम बॉर्डर तक होगा। सात किलोमीटर लंबे इस रूट का आखिरी स्टेशन एनएच-24 के पास होगा। इस रूट का सर्वे पूरा हो गया है। डीएमआरसी के डायरेक्टर (इन्फ्रास्ट्रक्चर) एस. डी. शर्मा ने बताया कि डीपीआर (डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट) 15 मार्च तक अथॉरिटी में जमा हो जाएगी। इस तरह नोएडा एंट्री पॉइंट में न्यू अशोक नगर से लेकर एनएच-24 तक मेट्रो आधे रिंग रेलवे का रूप ले लेगी। इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद इस रूट की कुल लंबाई करीब 14 किमी के करीब होगी। सिटी सेंटर से नोएडा-इंदिरापुरम बॉर्डर तक 5 नए स्टेशन प्रस्तावित हैं। हालांकि फाइनल डीपीआर के समय इसमें फेरबदल संभव है। बता दें कि अथॉरिटी ने इस प्रोजेक्ट की डीपीआर के लिए डीएमआरसी को लगभग 28 लाख रुपये दिए थे।

5 स्टेशन होंगे इस रूट पर
नोएडा अथॉरिटी में इन्फ्रास्ट्रक्चर डिपार्टमेंट के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार नोएडा अथॉरिटी ने सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से सेक्टर-62 में एनएच-24 तक मेट्रो रूट को बढ़ाने का प्रस्ताव पिछले साल पारित किया था। अथॉरिटी अफसर चाह रहे हैं कि कालिंदी कुंज से बॉटैनिकल गार्डन तक के रूट के निर्माण कार्य के साथ इस रूट पर भी एमओयू साइन हो जाएं। अथॉरिटी और डीएमआरसी के संयुक्त सर्वे से मिली जानकारी के अनुसार इस रूट पर 5 स्टेशन होंगे। ये सेक्टर-52, सेक्टर-61 (साईं मंदिर के पास), सेक्टर-60 ( मामूरा चौक के पास), सेक्टर-62 (फोर्टिस हॉस्पिटल के पास) व मॉडल टाऊन चौकी ( एनएच-24 के पास) पर प्रस्तावित किए गए हैं। इन स्टेशनों की लोकेशन में थोड़ा बहुत फेरबदल हो सकता है।

2 स्टेशन होंगे कालिंदी कुंज रूट पर
कालिंदी कुंज रूट पर दो स्टेशन होंगे। यहां बॉटैनिकल गार्डन पर मौजूद स्टेशन के अलावा एक अन्य स्टेशन सेक्टर-44 की तरफ बनेगा। इसका नाम भी नैशनल बॉटैनिकल गार्डन स्टेशन होगा। इन दोनों स्टेशनों के बीच एलिवेटेड टै्रक से आने-जाने की व्यवस्था पर विचार हो रहा है। इसके अलावा दूसरा स्टेशन महामाया फ्लाईओवर से आगे शाहदरा डे्रन से पहले सेक्टर-94 में होगा। इस का नाम ओखला बर्ड सैंक्चुरी होगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/11876245.cms

 

सेक्टर-६२ मेट्रो विस्तार की डीपीआर जनवरी में

Story Update : Thursday, January 19, 2012    2:16 AM

 

नोएडा। शहर में मेट्रो विस्तार को लेकर कार्रवाई तेज कर दी गई है। इसके लिए प्राधिकरण ने टीओआर जारी करते हुए डीएमआरसी से सेक्टर-६२ मेट्रो विस्तार की डीपीआर मांगी। इसके लिए १५ जनवरी की तारीख तय हुई। बुधवार को दोनों विभागों के बीच हुई बैठक के बाद डीएमआरसी के अफसरों ने महीने के अंत तक डीपीआर देने की बात कही है। इस रूट पर आठ किलोमीटर का सर्वे समाप्त हो चुका है, कुछ बिंदुओं पर रिपोर्ट तैयार करने के बाद डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट सौंप दी जाएगी। वहीं, प्राधिकरण ने ८० लाख रुपये का भुगतान कर दिया है। आठ किमी के विस्तार पर १५० करोड़ रुपये प्रति किमी के हिसाब से खर्च आने की उम्मीद जताई जा रही है, जबकि इस रूट पर यात्रियों की संख्या में ३५ से ४० फीसदी तक बढ़ेगी।
सिटी सेंटर से आगे बढ़कर सेक्टर-६२ तक जाने वाली मेट्रो लाइन के लिए भी प्राधिकरण काफी संजीदा है। इस संबंध में डीसीईओ की अध्यक्षता में डीएमआरसी के साथ मंत्रणा हुई। इसमें टर्म ऑफ रिफरेंस (टीओआर) के तहत डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट मांगी गई है, जिसके जवाब में डीएमआरसी अफसरों ने कहा कि महीने के अंत तक सभी प्रक्रिया पूरी करते हुए डीपीआर सौंप देंगे। इस संबंध में प्राधिकरण अधिकारियों का कहना है कि शहर के अंदरूनी हिस्सों को मेट्रो से जल्द से जल्द जोड़ने की कवायद है, जिससे भविष्य में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को और सुदृढ़ किया जा सके। प्राधिकरण को डीएमआरसी द्वारा दी गई सूचना में कहा गया है कि इस रूट का सर्वे किया जा रहा है। अधिकांश क्षेत्र में यह काम पूरा भी हो चुका है। आठ किलोमीटर लंबी इस लाइन से कहां और कितना लाभ होगा इसका आकलन हो रहा है। वहीं, इस विस्तार के बाद नोएडा एक्सटेंशन से होते हुए बोड़ाकी रेलवे स्टेशन की राह आसान हो जाएगी और नए विकल्प भी खुल सकेंगे।

http://www2.amarujala.com/city/Noida/Noida-17136-73.html

Work on R874 crore Noida-south Delhi Metro stretch to begin in January

Darpan Singh darpan.singh@hindustantimes.com

NOIDA:

15 Dec 11

Work on the Noida-south Delhi Metro line will begin from January next year, a Noida Authority official said on Wednesday. The new line will, however, be opened for public only by 2016.

Presenting the detailed project report (DPR) before Noida Authority officials on Wednesday, the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) said the 3.9 km line between Noida's Botanical Garden and Kalindi Kunj in Delhi would cost R874 crore.

The cost will be borne by the authority. The line will have three stations: Botanical Garden, Amity School and Kalindi Kunj.

As of now, the Delhi Metro enters Noida and Ghaziabad in UP via east Delhi. The new line will mean a direct link with south Delhi areas such as Kalkaji, Malviya Nagar, Green Park and Vasant Kunj.

Currently, commuters have to take the Noida-Dwarka route and get down at Rajiv Chowk to board the train to south Delhi. Similarly, commuters from Badarpur coming to Noida have to change at Central Secretariat. The new plan will make these trips shorter.

“The new line will be built as part of the third phase of DMRC's expansion plans to enter outer Delhi areas. We will study the DPR from the point of view of technical and financial feasibility,“ said Chandra Bhanu Singh, deputy chief executive officer, Noida Authority.

“The execution of the project will begin after the authority and DMRC sign a memorandum of understanding (MoU).
Tenders will be floated in January,“ he added.

The authority and DMRC will meet again on December 22 to fine-tune the project. “This line will help commuters going to south Delhi and the airport in saving time. Once the line opens, more people from Delhi will shift to Noida and Greater Noida. This will also ease vehicular pressure on roads,“ Singh said.

Noida-Kalindi Kunj Metro plan gets boost

Vandana Keelor, TNN | Dec 15, 2011, 02.23AM IST

NOIDA: Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) made a presentation before Noida Authority for the 4km metro route between Botanical Garden and Kalindi Kunj as part of its phase-III plan, on Wednesday.

While the technical and financial feasibility studies are expected to be completed in another week, the final approval and signing of MoU will soon follow.

The DMRC handed over the detailed project report ( DPR) to the officials of Noida Authority for the 3.9km route, which is estimated to cost Rs 874 crore and expected to be complete by 2016. "It has been decided that the Centre will grant Rs 114 crore for the project, while the Authority will bear a cost of Rs 457 crore besides the cost of the land which is about Rs 65 crore," said CB Singh, deputy chief executive officer of Noida. "The rolling stock for the DMRC has been fixed at Rs 151 crore," Singh said. "The alignment for the track is being finalized and will be discussed during the next scheduled meeting on December 22," Singh added. Once completed, commuters will no longer have to travel to Rajiv Chowk Metro station to connect to line 2 (Huda City Centre to Jehangirpuri) as the proposed phase-III extension line will form a ringed route.

The proposed line will be connecting Botanical Garden station with Hauz Khas station via Amity University, Kalindi Kunj and Kalkaji temple station. Commuters will get three exchange points on this route.

Kalindi Kunj station will provide a link to Badarpur Metro and Faridabad, whereas the Kalkaji temple station will connect to Central Secretariat Metro station. The third junction will be Hauz Khas station where commuters will be able to change for Metro heading towards Huda City Centre and Jahangirpuri Metro stations.

http://timesofindia.indiatimes.com/city/delhi/Noida-Kalindi-Kunj-Metro-plan-gets-boost/articleshow/11113301.cms

874 करोड़ खर्च कर बिछेगा मेट्रो ट्रैक

15 Dec 2011, 0400 hrs IST  

विनोद शर्मा ॥ नोएडा

नोएडा को साउथ दिल्ली व इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट से जोड़ने वाले रूट से लिंक करने के लिए 3.9 किलोमीटर लंबे मेट्रो टै्रक पर बुधवार को डीएमआरसी ने अथॉरिटी ऑफिसर में प्रेजेंटेशन दिया। रिपोर्ट के अनुसार कालिंदी कुंज से नैशनल बॉटैनिकल गार्डन तक करीब 874 करोड़ की लागत आने का अनुमान लगाया गया है। इस रूट पर बोटेनिकल गार्डन और कालिंदी कुंज के बीच में सिर्फ एक मेट्रो स्टेशन होगा। यह स्टेशन सेक्टर -124 के पास होगा। प्रोजेक्ट मार्च 2016 तक पूरा हो जाएगा। डीएमआरसी ने अथॉरिटी से डीपीआर जल्द अप्रूव करने को कहा ताकि इस पर काम शुरू हो सके। इस मुद्दे पर अगली मीटिंग 22 दिसंबर को होगी।

डीएमआरसी की डीपीआर के मुताबिक कुल 874 करोड़ की लागत वाले इस प्रोजेक्ट में अथॉरिटी का शेयर सिर्फ 52 पर्सेंट यानी 457.6 करोड़ होगा। भारत सरकार इसमें करीब 114.4 करोड़ बतौर ग्रांट देगी। डीएमआरसी की तरफ से प्रोजेक्ट पर 151 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। केंद्र व राज्य सरकार को टैक्स के रूप में 85.2 करोड़ रुपये का अनुमान लगाया गया है। अथॉरिटी 8 पर्सेंट हिस्से के रूप में डीएमआरसी को टै्रक व स्टेशन के लिए 65 करोड़ की जमीन फ्री में देगी। मीटिंग में डीएमआरसी के डायरेक्टर ( प्रोजेक्ट ) एस . डी . शर्मा , अथॉरिटी से चीफ प्रोजेक्ट इंजीनियर संतराम सिंह , सीनियर प्रोजेक्ट इंजीनियर संदीप चंद्रा समेत कई अफसर मौजूद थे।

स्टूडेंट्स के लिए खास होगा रूट

बॉटैनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज होते हुए जनकपुरी वेस्ट को कनेक्ट करने वाला मेट्रो रूट स्टूडेंट्स के लिए खास होगा। इस रूट पर नोएडा पीजी कॉलेज , एमिटी यूनिवर्सिटी , जामिया यूनिवर्सिटी , आईआईटी व डीयू का साउथ कैंपस पड़ेगा। यह रूट एनसीआर के स्टूडेंट्स के लिए ब्रिज का काम करेगा।

मेट्रो का होगा पहला रिंग रेल नेटवर्क

इस प्रोजेक्ट के पूरा होने पर मेट्रो रेल का पहला रिंग नेटवर्क बनकर तैयार हो जाएगा। अगर भविष्य में डीएमआरसी कोई ऐसा रूट चलाती है जो नोएडा से चलकर नोएडा में ही खत्म होगा या जनकपुरी से शुरू होकर जनकपुरी में ही खत्म होगा।

लिंक होंगे कई एक्सप्रेस – वे और सड़कें

इस टै्रक के तैयार होने के बाद यह दिल्ली से बाहर निकलने वाले एनसीआर के खास मथुरा रोड , गुड़गांव रोड़ , नजफगढ़ रोड व नोएडा – ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस – वे के साथ ही दादरी रोड को भी एक – दूसरे से लिंक करेगा। यह टै्रक सेक्टर -62 के पास लिंक होने के बाद एनएच -24 से भी जुड़ेगा।

क्या कहती है सर्वे की रिपोर्ट

डीएमआरसी के लिए सेंट्रल रोड रिसर्च इंस्टिट्यूट की ओर से किए गए सर्वे के मुताबिक बॉटैनिकल गार्डन से साउथ दिल्ली की तरफ जाने वाले पैसेंजरों की तादाद वर्ष 2016 में 24551 और 2021 में 29815, 2026 में 34647 और 2031 में 39970 होगी। एमिटी स्टेशन के नाम से सेक्टर -124 में प्रस्तावित मेट्रो स्टेशन से सफर करने वालों की तादाद वर्ष 2016 में 21503, 2021 में 28579, 2026 में 34285 और 2031 में 39342 होगी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/11111686.cms

In-principle nod to extend Kalindi Kunj metro line

Last Updated: Thursday, December 15, 2011, 08:56

Noida: Noida Authority Thursday gave its nod in principle to Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) for extending the Kalindi Kunj metro line here.

The approval came from Noida Authority CEO Rama Raman after DMRC presented a detailed project report on Kalindi Kunj extension plan at a meeting here.

 

Slated to be completed by 2016, the project is estimated to cost Rs 874 crore.

From Kalindi Kunj to Botanical Garden, the metro line would be 3.9 km long with two stations at Amity School and Kalindi Kunj. The poposed line would connect Sarita Vihar and Kalkaji-Nehru Place.

The CEO directed the chief project engineer to study the report and also look into the facilities to be provided for it. The next review meeting is scheduled to be held next week.

PTI

http://zeenews.india.com/news/uttar-pradesh/in-principle-nod-to-extend-kalindi-kunj-metro-line_746996.html

एनसीआर का बंधन और मजबूत करेगी मेट्रो

21 Nov 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स  

पूनम गौड़॥ गुड़गांव
एनसीआर के अधिकांश इलाकों को एक दूसरे से जोड़ने का काम डीएमआरसी 2012 से शुरू कर देगी। 2016 में जब मेट्रो का तीसरा फेज पूरा होगा तब बहादुरगढ़, गुड़गांव, फरीदाबाद और नोएडा के कई हिस्से दिल्ली से इस तरह से जुड़ जाएंगे कि एक से दूसरे शहर में जाना और आसान हो जाएगा। डीएमआरसी ने तमाम प्रोजेक्टों से जुड़ी अपनी डीपीआर केंद्र सरकार को भेज दी है। इनमें से कई को मंजूरी मिल चुकी है। इसके अलावा कुछ डीपीआर को अंतिम रूप दिया जा रहा है। थर्ड फेज में मेट्रो को एनसीआर के अंदर तक लाने की तैयारियां तेज कर दी गई हैं।

फरीदाबाद और बहादुरगढ़ के लिए डीपीआर तैयार कर डीएमआरसी ने मिनिस्ट्री ऑफ अर्बन डिवेलपमेंट को सौंप दी है, वहीं गुड़गांव में इफ्को चौक-द्वारका सेक्टर-21 मेट्रो लाइन का सर्वे पूरा कर लिया गया है। उधर, नोएडा सेक्टर 62 तक मेट्रो के विस्तार के लिए रूट सर्वे शुरू हो चुका है। इसको अंतिम रूप देने की प्रक्रिया चल रही है।

डीएमारसी से मिली जानकारी के अनुसार, उच्चाधिकार मंत्री समूह (ईजीओएम) ने एनसीआर को जोड़ने वाली लाइनों को थर्ड फेज में ही पूरा करने को कहा है। इसके बाद ही डीएमआरसी ने एनसीआर में मेट्रो के नेटवर्क बढ़ाने की तैयारियां तेज कर दी हैं। डीएमआरसी अधिकारियों के अनुसार, ईजीओएम ने कहा है कि एनसीआर में जाने वाली मेट्रो के लिए अलग प्रपोजल बनाया जाए और उसे जल्दी ही ईजीओएम के पास भेजा जाए। इस समय जितने भी अलाइनमेंट उनके पास आए हैं सभी को फाइनल करने की प्रक्रिया चल रही है।

फरीदाबाद तक मेट्रो के एक्सटेंशन को ईजीओएम की मंजूरी थर्ड फेस में मिल चुकी है। हरियाणा सरकार ने अपने हिस्से का बजट भी डीएमआरसी को सौंप दिया है। यह बदरपुर मेट्रो का विस्तार होगा।

डीएमआरसी के अनुसार मुंडका मेट्रो के इस विस्तार के लिए फिलहाल अलाइनमेंट को फाइनल करने का काम चल रहा है। मुंडका कॉरिडोर को टीकरी बॉर्डर के रास्ते घेवरा होते हुए बहादुरगढ़ तक ले जाना है। इसके अलावा यमुना बैंक कॉरिडोर को भी नोएडा सिटी सेंटर से विस्तार देकर नोएडा सेक्टर-32 होते हुए नोएडा सेक्टर 62 तक विस्तार देना है। इसके लिए भी डीएमआरसी स्टडीज में जुटी है। मुकुंदपुर-यमुना विहार कॉरिडोर को तीसरे चरण में शामिल शिव वहार तक ले जाना है। इसके लिए स्टडीज लगभग पूरी हो चुकी हैं। यहां तीन किलोमीटर तक विस्तार मेट्रो को दिया जाएगा।

डीएमआसी के अनुसार ईजीओएम से निर्देश मिलने के साथ ही अब वाईएमसीए चौक ( फरीदाबाद ) के बाद इफको चौक – द्वारका सेक्टर 21, मुंडका से बहादुरगढ़ , नोएडा सिटी सेंटर से नोएडा सेक्टर 62 और यमुना विहार से शिव विहार तक मेट्रो की पूरी रिपोर्ट एक अलग प्रपोजल के रूप में ईजीओएम को मंजूरी के लिए सौंपने की तैयारी चल रही है।

अहम यह है कि इस अलग प्रपोजल को भी डीएमआरसी थर्ड फेस में शामिल करने के लिए ईजीओएम को सौंपेंगी । डीएमआरसी के अनुसार तीसरे चरण का काम 2012 तक शुरू करना है। लिहाजा अब एनसीआर के रूटों की सभी डीपीआर का काम तेजी से चल रहा है और इनमें आगामी दो से तीन महीने में पूरा करने की कोशिश है।

क्या है स्थिति
मुंडका – बहादुरगढ़ वाया टीकरी बॉर्डर

लंबाई : 11 किलोमीटर

स्टेटस – डीपीआर शहरी विकास मंत्रालय और हरियाणा सरकार को अक्टूबर के आखिरी सप्ताह में सौंप दी गई

प्रस्तावित स्टेशन – मुंडका इंडस्ट्रियल एरिया , घेवरा , टीकरी बॉर्डर ( दिल्ली की तरफ ), मुंडका इंडस्ट्रियल एस्टेट , बस स्टैंड , सिटी पार्क ( हरियाणा )

—–

यमुना विहार – शिव विहार

लंबाई – 3 किलोमीटर

स्टेशन – तय होने की प्रक्रिया में

स्टेटस – भौगोलिक सर्वे पूरा कर लिया गया है। रूट की जनरल अलाइनमेंट ड्राइंग तैयार है। जल्द रिपोर्ट सौंपने की तैयारी।

——

द्वारका – नजफगढ़

लंबाई – 5.5 किलोमीटर , पूरी तरह एलिवेटेड

प्रस्तावित स्टेशन – द्वारका , नजफगढ़ डिपो , म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन , नजफगढ़

स्टेटस – डीपीआर बनाई जा चुकी है। कॉपी शहरी विकास मंत्रालय को भेजी जा चुकी है।

—–

बदरपुर – वाईएमसीए चौक

लंबाई -13.875 किलोमीटर

प्रस्तावित स्टेशन – एनएचपीसी चौक , मेवला महाराजपुर , सेक्टर 37 ए , बडकल मोड़ , ओल्ड फरीदाबाद , अजरौंदा , फरीदाबाद न्यू टाउन , वाईएमसीए चौक

स्टेटस – ईजीओएम से मंजूरी मिल चुकी है। हरियाणा सरकार से काम शुरू करने की सहमति मिल चुकी है। एग्रीमेंट इसी महीने साइन होने की उम्मीद है।

—-

द्वारका सेक्टर -21 से इफ्को चौक

लंबाई – 11.63 किलोमीटर

स्टेशन – सेक्टर 23( पालम विहार ), सेक्टर -18 गुड़गांव और इफ्को चौक

स्टेटस – डीपीआर पर काम चल रहा है और इसी महीने हरियाणा सरकार को सौंपने की कोशिश है।

—–

नोएडा सिटी सेंटर – सेक्टर 62

लंबाई – लगभग 8 किलोमीटर

स्टेटस – डीपीआर पर काम चल रहा है

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/10805105.cms

अथॉरिटी, डीएमआरसी खर्च करेंगे 50-50

19 Nov 2011, 0400 hrs IST  

आशीष दुबे ॥ नोएडा

कालिंदी कुंज से बॉटैनिकल गार्डन मेट्रो रूट के लिए यमुना पर बनने वाले पुल के लिए अथॉरिटी को सिर्फ 50 पर्सेंट खर्च ही उठाना पड़ेगा। सूत्रों के अनुसार डीएमआरसी पुल का 50 पर्सेंट खर्च उठाने को तैयार हो गई है। करीब 67 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इसी पुल के जरिए कालिंदी कुंज से बॉटैनिकल गार्डन स्टेशन तक मेट्रो पहुंचेगी। 3.8 किलोमीटर लंबे ट्रैक की डीपीआर (डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट) अगले सप्ताह अथॉरिटी को सौंपी जाएगी। सूत्रों के अनुसार पुल की कीमत और खर्चा कौन उठाएगा, इसको तय करने के चलते डीपीआर सौंपने में कुछ दिनों की देरी हुई है।

अथॉरिटी अधिकारियों के अनुसार पिछले दिनों डीएमआरसी और अथॉरिटी के बीच हुई बैठक में पुल का खर्चा उठाने को लेकर वार्ता हुई थी। मेट्रो अधिकारियों ने पुल का पूरा खर्च नोएडा अथॉरिटी के नाम पर लिख रखा था। जिस पर अथॉरिटी अधिकारियों ने आपत्ति जताई थी। चूंकि यमुना पर बनने वाला पुल नोएडा के इलाके में आता था, इसलिए मेट्रो अधिकारियों ने खर्च अथॉरिटी को वहन करने की रिपोर्ट तैयार की थी। अथॉरिटी की ओर से पुल का पूरा खर्च उठाने से इनकार करने के बाद 50-50 पर्सेंट खर्चा उठाने पर सहमति बनी। अब डीपीआर में बदलाव कर कॉस्टिंग के आधार पर इसे तैयार कराया जा रहा है।

अथॉरिटी के डिप्टी सीईओ सी. बी. सिंह ने बताया कि अगले सप्ताह की शुरुआत में डीपीआर अथॉरिटी को मिलेगी। इसके बाद लाइन पर काम शुरू किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से सेक्टर-62 तक जाने वाली मेट्रो लाइन की डीपीआर पर भी काम शुरू कर दिया गया है। इस डीपीआर को अगले 4 महीने के बाद सौंपा जा सकता है।
http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/10784547.cms

New Metro lines connecting more NCR areas

Rumu Banerjee, TNN Nov 8, 2011, 01.56AM IST

NEW DELHI: The NCR concept just got a shot in the arm. In a bid to connect the various parts of Delhi with the neighboring areas of Bahadurgarh, Noida, Gurgaon as well as Faridabad, the Delhi Metro will be going further inside these NCR areas in the third phase of its network. While the detailed project reports (DPR) for the extensions to Gurgaon, Faridabad and Bahadurgarh is ready and have been sent to the ministry of urban development for approval, the alignment for extension to Noida's sector 62 is still under finalization. Work on all the connecting extensions to the NCR areas is expected to be undertaken by 2012, to be part of the Delhi Metro's phase III construction.

With these alignments, the Delhi Metro will be blurring the state lines further and underlining the NCR concept, say officials. Said a spokesperson from the Delhi Metro Rail Corporation, "The empowered group of ministers (EGoM) has directed that the lines (connecting the NCR) may be considered for inclusion in Delhi Metro Phase III and a separate proposal be brought for consideration of the EGoM. We are in the process of finalizing all the alignments at present." The alignments include the extension of the existing Mundka corridor (Mundka-Inderlok) to Bahadurgarh, crossing the Tikri Border via Ghevra. The other line extension is that of the Yamuna Bank corridor to Noida's sector 62 via sector 32. This corridor at present is till Noida City Center. Another line extension – of the new Mukundpur-Yamuna Vihar corridor of Phase III on to Shiv Vihar, an expansion by 3km, will also bring the outskirts of Delhi into closer contact with the central parts.

That's not all. As reported by TOI earlier, the extension of the Dwarka sector 21-Noida City Center line to IFFCO Chowk via Palam Vihar along with the extension of the Badarpur corridor to YMCA Chowk in Faridabad is also on the cards. This is besides the new corridor from Dwarka to Najafgarh, stretching over 13.875km, which has been sent to the ministry of urban development already for approval. Sources in Delhi Metro said that these alignments had been also clubbed with the three new extensions – Bahadurgarh, Noida sector 62 and Shiv Vihar, as a separate proposal for EGoM approval. "The proposal is for inclusion in the Delhi Metro Phase III, which means that work will need to be started by 2012. The DPRs of all these alignments have been put on fast-track," said the Delhi Metro official.

The alignments are in varying stages of planning and finalization, say officials. While the DPR for the Mundka-Bahadurgarh corridor was submitted to the MoUD and the Haryana government in the last week of October, the DPR for the Dwarka-Najafgarh and the Dwarka-IFFCO Chowk (Gurgaon) corridors are ready and have been sent for approval to the government for approval. The Faridabad extension has already gotten the green signal from the EGoM. However, the surveys for alignment finalization for both the Yamuna Vihar-Shiv Vihar as well as the Noida sector 62 lines are still underway. While the report on the former alignment is expected to be submitted by November 15, the DPR for the latter is still to be finished

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2011-11-08/delhi/30373057_1_ymca-chowk-extension-ncr

Metro to link Noida to south Delhi

Darpan Singh, Hindustan Times
Noida, November 10, 2011

The Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) will begin work on a Noida-south Delhi link from January.

Having prepared a DPR, the DMRC has already set up its office in sector 19 to start the construction. The Noida authority will bear the project cost (Rs 786 crore) for the 3.76-km

line between Noida’s Botanical Garden and Kalindi Kunj in Delhi.

This will mean a direct link with areas such as Kalkaji, Malviya Nagar, Green Park and Vasant Kunj. Currently, people have to take Noida-Dwarka route and get down at Rajiv Chowk station to change lines.

The DMRC is also preparing a DPR to extend the Metro line in Noida up to the Ghaziabad border at sector 62 (NH 24). Work will start early next year. After this extension, Metro will cut Noida into two, providing a boost to intra-city connectivity.

Currently Noida has six stations of Delhi Metro with the service ending at sector 32. The existing line caters only to 55 immediate and adjoining sectors. About 35 more sectors need to be linked to Metro to relieve people of travelling woes.

“The sector 62 line is on top of our priority. Several pre-construction exercises have begun. The Noida authority has accepted the terms of references sent by the DMRC. We have sent our consent to the plan. The authority has also paid Rs 80 lakh for the DPR,” said authority’s deputy chief executive

http://www.hindustantimes.com/India-news/UttarPradesh/Metro-to-link-Noida-to-south-Delhi/Article1-767488.aspx

मेट्रो प्रोजेक्ट की स्पीड बढ़ी

15 Sep 2011, 0400 hrs IST  

विनोद शर्मा ॥ नोएडा

नोएडा अथॉरिटी ने साफ कर दिया है कि उसका फोकस एनएच-24 से पैसेंजरों को फरीदाबाद और गुड़गांव जाने वाले मेट्रो ट्रैक को लिंक करने का है। लिहाजा सेक्टर-62 से सिटी सेंटर तक और नैशनल बॉटैनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज तक लिंक करने वाले टै्रक की तस्वीर तैयार होने लगी है। अथॉरिटी ने इन दोनों प्रोजेक्टों के लिए डीपीआर फाइनल कर बजट को लेकर हामी भर दी है। दिवाली के आसपास अथॉरिटी और डीएमआरसी के बीच एमओयू साइन हो सकता है। डीएमआरसी ने फेज तीन के प्रोजेक्ट में जनकपुरी से कालिंदी कुंज तक प्रस्तावित मेट्रो टै्रक को नैशनल बॉटैनिकल गार्डन तक लाने के लिए यमुना पर प्रस्तावित नए मेट्रो ब्रिज का टेंडर जारी कर दिया है। यह टेंडर 24 अक्टूबर को खोला जाएगा। डीएमआरसी के प्लान के अनुसार यमुना पर नया ब्रिज ओखला बैराज से 85 मीटर दूर प्रस्तावित है।

नोएडा अथॉरिटी के चेयरमैन बलविंदर कुमार ने बताया कि अथॉरिटी मेट्रो के मौजूदा प्लान में नैशनल बॉटैनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज तक लिंक करने वाले प्रोजेक्ट और सिटी सेंटर से सेक्टर-62 में एनएच-24 को जोड़ने वाले रूट को प्राथमिकता देगी। नैशनल बॉटैनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज तक लिंक करने वाले रूट की प्राइमरी रिपोर्ट में 3.76 किलोमीटर लंबे टै्रक के निर्माण पर करीब 786 करोड़ की लागत का अनुमान लगाया गया है। इसकी डीपीआर के लिए अथॉरिटी ने 33 लाख रुपये दे दिए हैं। डीएमआरसी के अधिकारियों ने अथॉरिटी से जितनी भी सूचनाएं मांगी थीं वे सभी उपलब्ध करा दी गई हैं। उन्होंने बताया कि संभवत अगले कुछ दिनों में बॉटैनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज तक के मेट्रो टै्रक का टेंडर भी जारी कर दिया जाए। फेज तीन के तहत अथॉरिटी ने डीएमआरसी से सिटी सेंटर स्टेशन से सेक्टर-62 तक मेट्रो टै्रक को भी इसी प्रोजेक्ट में शामिल करने का अनुरोध किया है ताकि दोनों काम एकसाथ शुरू हो जाएं।

यमुना ब्रिज का टेंडर जारी

डीएमआरसी ने ओखला बैराज से लगभग 85 मीटर दूर यमुना पर मेट्रो टै्रक का ब्रिज बनाने की प्लानिंग की है। इसके लिए 19 सितंबर से डीएमआरसी से टेंडर मिलेंगे। 5 अक्टूबर को इसकी प्रीबिड़ मीटिंग होगी। इसके बाद ब्रिज का टेंडर 24 अक्टूबर को शाम 3 बजे खुलेगा। इस ब्रिज को करीब दो साल में बनाने का टारगेट रखा जाएगा।

ग्रेनो जाने वाले टै्रक में देरी

चेयरमैन बलविंदर कुमार ने माना है कि सेक्टर -51 से ग्रेनो जाने के लिए जिस टै्रक की प्लानिंग की गई थी। उसका काम शुरू होने की फिलहाल संभावना नहीं है। इस पर लगभग पांच हजार करोड़ खर्च आना है। नोएडा – ग्रेनो अथॉरिटी को संयुक्त रूप से इस प्रोजेक्ट पर खर्च करना है। ग्रेनो अथॉरिटी में जिस स्थिति में है , उसे देखते हुए फिलहाल यह काम शुरू कराने का कोई संकेत नहीं ह ै।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/9983390.cms

नोएडा-ग्रेटर नोएडा : तैयार है क्नेक्टिविटी प्लान

24 Sep 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स  

नोएडाग्रेटर नोएडा में प्रॉपर्टी खरीदने वालों के लिए अच्छी खबर है। आनेवाले दिनों में इन दोनों शहरों को एनसीआर के अन्य शहरों से बेहतर तरीके से जोड़ने के लिए नोएडा – ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने एक प्लान तैयार किया है। इस प्लान में रोड और मेट्रो , दोनों प्रकार के नेटवर्क पर फोकस किया गया है।

नोएडा – ग्रेटर नोएडा में 28 किमी के मेट्रो नेटवर्क के अलावा 6 बड़ी और प्रमुख सड़कों की प्लानिंग है। नोएडा – ग्रेटर नोएडा को मेट्रो के द्वारा नोएडा एक्सटेंशन से भी जोड़ने की प्लानिंग है। जीनआईडीए ( ग्रेटर नोएडा डिवेलपमेंट अथॉरिटी ) के सीईओ का कहना है कि दिल्ली और एनसीआर के बीच मेट्रो नेटवर्क का डीपीआर ( डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट ) तैयार व अप्रूव हो चुका है। अब फंड जुटाया जा रहा है।

प्लानिंग के मुताबिक 28 किमी के नोएडा – ग्रेटर नोएडा लाइन पर 19 स्टेशन होंगे। इस पर करीब 5 हजार करोड़ की लागत आने का अनुमान है। इस लइन के लिए मिट्टी परीक्षण जल्द ही शुरू होने की संभावना है। नोएडा – ग्रेटर नोएडा को एनसीआर के अन्य शहरों जैसे गाजियाबाद , फरीदाबाद , गुड़गांव आदि से बेहतर तरीके से जोड़ने के लिए एक कनेक्टिविटी चेन का प्रस्ताव है। इसके तहत अधिकारियों ने दो मेट्रो लिंक का प्रस्ताव रखा है।

पहले लिंक के तहत सेक्टर 32 या सिटी सेंटर तक जा रही मेट्रो को सेक्टर 62 तक ले जाने का प्रस्ताव है और आगे इसे दिल्ली के गाजीपुर से जोड़ने की सोची गई है। यह मेट्रो लाइन गाजीपुर , कल्याण पुरी , मयूर विहार फेज -1, सराय काले खां , मूलचंद , एम्स और भीकाजी कामा आदि इलाकों को कवर करेगी। मेट्रो लिंक 2 को सेक्टर 18 से बढ़ा कर एनएच -8 तक ले जाने की तैयारी है। इसी के जरिए गुड़गांव और फरीदाबाद से नोएडा – ग्रेटर नोएडा को क्रमश : सेंट्रल सेक्रेटेरियट और बदरपुर के जोड़ने की सोची गई है।

डिवेलपमेंट के तीन फेज
इस मेट्रो प्रोजेक्ट को गाजियाबाद में तीन फेज में अमल में लाया जा रहा है। पहले फेज में वैशाली तक मेट्रो की शुरुआत हो चुकी है। 2.8 किमी लंबी इस लिंक लाइन से राजीव चौक ( कनॉट प्लेस ) का सीधा जुड़ाव है। इसे आगे इंदिरापुरम तक बढ़ा कर नोएडा सेक्टर 62 के रास्ते सेक्टर 32 से जोड़ा जाएगा। यह एक्सटेंशन फेज 2 का हिस्सा है। इसके लिए डीएमआरसी और गाजियाबाद डिवेलपमेंट अथॉरिटी के द्वारा सर्वे का काम किया जा चुका है। वैशाली – इंदिरापुरम लाइन बाद में नोएडा क्रॉसिंग -62, प्रताप विहार , शाहपुर के रास्ते महरौली से जोड़ी जाएगी। इस लाइन की लंबाई 16 किमी होगी। फेज 3 में गाजियाबाद बस स्टैंड और कश्मीर गेट के बीच जुड़ाव होगा। यह साइन 12 किमी लंबी होगी। इस पर करीब 18 सौ करोड़ रुपये के खर्च का अनुमान है।

नोएडा – ग्रेटर नएडा और गाजियाबाद के अधिकारियों ने क्नेक्टिविटी को नए सिरे से परिभाषित करने की योजना बनाई है। इसके तहत गाजियाबाद में 17 नए फ्लाईओवरों का निर्माण किया जाएगा। तीन फ्लाईओवर तो अगले पांच साल में ही बन जाएंगे। इसलके लिए यूपी स्टेट बिर्ज कारपोरेशन के साथ एक समझौता किया गया है।

सड़क नेटवर्क
जहां तक सड़क नेटवर्क की बात है तो परथला से जेवर के बीच 130 मीटर चौड़ी सड़क बनाई जाएगी। इसकी लंबाई 28 किमी होगी। हापुड़ से परी चौक के बीच 213 किमी लंबी और 105 मीटर चौड़ी सड़क बनेगी। नूर नगर से एलजी चौक के बीच 60 मीटर चौड़ी सड़क प्रस्तावित है। इसी तरह एक और 60 मीटर चौड़ी सड़क सैनी से कुरी खेड़ा तक 2013 में बन तक तैयार हो जाएगी। इन सभी सड़कों को नोएडा – ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन , एक्सप्रेस – वे और ईस्टर्न पेरिफेरियल से जोड़ा जाएगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/10078991.cms

कागजों से उतरकर पटरी पर कब आएगी मेट्रो

1 Sep 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स  

प्रोजेक्ट प्रोफाइल
मेट्रो प्रोजेक्ट की रूपरेखा बनी – 2005 में
अनुमानित लागत – 5 हजार करोड़
डेडलाइन – 2014
नोएडा से बोडाकी तक होंगे – 22 स्टेशन
सिटी सेंटर से सेक्टर-82 एक्सप्रेस-वे तक – 13 स्टेशन
ग्रेटर नोएडा में होंगे – 9 स्टेशन

.
क्या है वर्तमान स्थिति
नोएडा से ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो लाने की कवायद ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने 2005 में शुरू की। ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो लाने के लिए निर्माण का जिम्मा दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) को देने का निर्णय लिया गया है। अथॉरिटी ने डीएमआरसी को ही टेक्निकल कंसलटेंट भी नियुक्त किया है। डीएमआरसी अथॉरिटी को रिक्वेस्ट फॉर प्रप्रोजल (आरएफपी) सौंप चुकी है। हालांकि मेट्रो प्रोजेक्ट पर टेक्निकल रिपोर्ट मिलना अभी बांकी है। टेक्निकल रिपोर्ट मिलने के बाद ही निर्माण कार्य शुरू करने की तारीख फाइनल हो सकेगी। अथॉरिटी ने निर्माण करने वाली कंपनी के लिए आवश्यक शर्तें भी तय कर ली हैं। निर्माण कंपनी के लिए उस भूमि का भी चयन कर लिया गया है जो कंपनी को निर्माण के बदले दिया जाएगा। अथॉरिटी ने 2014 तक मेट्रो को नोएडा से ग्रेटर नोएडा लाने का लक्ष्य रखा है।

मेट्रो का प्रस्तावित रूट
नोएडा से ग्रेटर नोएडा बोडाकी तक कुल 22 स्टेशन होंगे। इसमें नोएडा सिटी सेंटर से लेकर सेक्टर -82 एक्सप्रेस – वे तक मेट्रो के 13 स्टेशन होंगे। बाकी 9 स्टेशन ग्रेटर नोएडा में होंगे। मेट्रो नोएडा के सिटी सेंटर , सेक्टर -49, 50, 51, 78, 81, 83, 137, 143, 151, 182 व नोएडा – ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस – वे होते हुए नॉलेज पार्क -1, 2, परी चौक , अल्फा -1, 2, डेल्टा -1, नॉलेज पार्क -4, आरसी ग्रीन व बोडाकी तक आएगी।

क्या होगा फायदा
ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो आने से यह शहर सही मायनों में एनसीआर के अन्य शहरों से जुड़ जाएगा , खासकर दिल्ली से इसकी कनेक्टिविटी बेस्ट हो जाएगी। हर रोज शहर से लाखों लोग दिल्ली और एनसीआर में जॉब के लिए जाते हैं। इस समय उन्हें आने – जाने में काफी समय लगता है। मेट्रो के आने से आवाजाही करना आसान हो जाएगा और समय की बचत होगी। वहीं लाखो लोग शहर के इन्फ्रास्ट्रक्चर को देखकर यहां मकान लेना चाहते हैं , लेकिन मेट्रो की कनेक्टिविटी न होने के कारण कई लोग पीछे हट जाते हैं। ऐसे में यदि मेट्रो यहां आती है , तो शहर में और तेजी से विकास होगा। इसके अलावा यहां पढ़ाई के लिए आने वाले स्टूडेंट्स के लिए भी शहर में आना आसान हो जाएगा।

देरी की वजह
दरअसल मेट्रो को लेकर अथॉरिटी में कन्फ्यूजन की स्थिति शुरू से ही बनी रही। पहले यहां मेट्रो लाने की बात की गई , फिर अचानक से शहर में मोनो रेल चलाने की बात हुई। इसके बाद फिर अथॉरिटी ने अपना सुर बदला और मेट्रो चलाने की बात कही। निर्माण एजेंसी को लेकर भी करीब 1 साल तक कन्फ्यूजन रहा। पहले गुड़गांव की तर्ज पर किसी निजी एजेंसी से मेट्रो का निर्माण कराने का विकल्प रखा गया। बाद में डीएमआरसी से निर्माण कराने पर सहमति बनी। अब नोएडा एक्सटेंशन की टेंशन ने इस प्रोजेक्ट पर ब्रेक लगा रखा है। दरअसल इसकी वजह से अथॉरिटी वित्तीय संकट से जूझ रही है। ऐसे में मेट्रो प्रोजेक्ट शुरू करना तो दूर अथॉरिटी के पास गांव में विकास के लिए भी पैसे नहीं हैं। दबी जुबान अथॉरिटी अफसर स्वीकार करते हैं कि ऐसी ही स्थिति रही तो मेट्रो प्रोजेक्ट और लेट हो सकता है।
प्रस्तुति : पवन सिंह

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/9812467.cms

NOIDA-GREATER NOIDA AND GHAZIABAD ON TRAFFIC-FREE DRIVE

GNIDA has planned four underpasses, two elevated roads and an extension of Metro link for Noida-Greater Noida and Ghaziabad and a DPR has already been approved, says A K TIWARY

Noida-Greater Noida and Ghaziabad are on a decongestion drive and are moving ahead to declog the roads and highways leading up to Delhi. The Greater Noida Industrial Development Authority (GNIDA) has planned to build four underpasses, two elevated roads and an extension of Metro link for the purpose.

A detailed project report (DPR) for these projects has already been approved. Noida-Greater Noida authority is approaching the departments concerned to raise funds. If these projects see the light of day, property rates in this region may double.

Rama Raman, CEO of GNIDA, says: “After submission of the DPR, we are approaching financial institutions for viability gap funds and tax exemptions to meet the requirement. According to our plan, 16 Metro stations have been proposed in the 28km-long Noida-Greater Noida Metro link, which will cost around Rs 4,000 crore. Nearly 65,000 daily commuters are expected to use the facility during peak hours. Soil testing and other project-related work is expected to commence this November and the whole line is slated to be completed by 2012.

This proposed Metro link will connect Ghaziabad in the second phase of the plan. To connect the twin cities to all the other NCR cities like Ghaziabad, Gurgaon and Faridabad, GNIDA has made out a proposal – the chain of connectivity – which has already discussed with the DMRC.
For the chain of connectivity, GNIDA has proposed two new Metro links which cover all the major areas of Delhi and the NCR.

Under the new Metro Link 1, existing Metro terminal at Sector 32 (City Centre) will be extended up to Sector 62 and further connect Ghazipur (Delhi). This new link will cover G h a z i p u r, K a lya n p u r i , Mayur Vihar Phase1, Sarai Kale Khan, Moolchand, AIIMS and Bhikaji Kama Place. And through a new Metro Link 2, Sector 18 will be extended up to NH8. It will cover AIIMS, Okhla, Nehru Place, Malviya Nagar and Vasant Kunj.

 

 

This will further connect to Gurgaon and Faridabad via Central Secretariat and Badarpur. In addition, the Metro project is to be implemented in Ghaziabad in three phases. The first link to Vaishali is already underway. The 2.52km-long Metro link will originate from Anand Vihar, which is directly linked to Rajiv Chowk via Vikas Marg. The estimated cost of Anand Vihar-Vaishali Sector is Rs 300 crore. For this, the UP government has paid half of the amount to DMRC. This route will go up to Indirapuram, which connects to Noida Sector 32 via Sector 62.

Extension of Vaishali-Indirapuram Metro route is now under progress. Further, Vaishali-Indirapuram will link to Mehrauli via Noida crossing 62, CISF, Pratap Vihar, Dundahera and Shahapur in Phase 2. The length of this line is 16km. The total travel time to Rajiv Chowk is 35 minutes. In Phase 3, the Metro will connect Ghaziabad bus stand to ISBT (Kashmere Gate). The length of this line will be 12km. To improve the city-level infrastructure, Noida and Ghaziabad entered a new phase of development with intense planning and implementation civic and social infrastructure. In Ghaziabad, road infrastructure is slated for a major boost with 17 flyovers, including three clovers leaf ones, to be implemented over the next five years.

An MoU has been signed with the UP State Bridge Corporation Ltd (which made the AIIMS and Dhaula Kuan flyover in Delhi) for five more flyovers, including a clover leaf at Meerut road crossing. Apart from this, the Metro link will provide a network and not just as a token presence in the region. The city will benefit from the 6/8-lane expressway linking Delhi to Meerut, Hapur and Bulandshahar. These three expressways, as well as the Delhi Metro peripheric (planned along the lines of the Paris peripheric) will be part of the new development in Ghaziabad. The Metro touching the Anand Vihar bus terminal is making headway. Like Noida and Greater Noida authority, the Ghaziabad Development Authority’s (GDA) proposal of an express highway linking Meerut crossing to NH 24 will create integrated flyovers at all level crossings. In addition to the Metro service, the Northern Railway project (Integrated Railway-Bus Transport system) will make commuting easy between Ghaziabad and Delhi.

Proposed Metro stations in Greater Noida

City Centre (Sector 32), Sector 51, Sector 52, Sector 78, Sector 81, Sector 83, Sector 137, Sector 143, Sector 151, Knowledge Park 1, Knowledge Park 2, Parichowk, Alpha 1, Alpha 2, Delta, Knowledge Park 4, Recreational Green and Boraki Daily commuters: 65,000 (peak hour)

 

Another proposed Metro link

New Metro Link 1
Noida’s Sector 62 to NH 24 via Ghazipur, Kalyanpuri, Mayur Vihar Phase 1, Sarai Kale Khan, Moolchand, AIIMS and Bhikaji Kama Place
New Metro Link 2
Noida’s Sector 18 to NH 8 via AIIMS, Okhla, Nehru Place, Malviya Nagar and Vasant Kunj

QUICK BITES

AFTER SUBMISSION OF THE DPR, GNIDA IS APPROACHING FINANCIAL INSTITUTIONS FOR VIABILITY GAP FUNDS AND TAX EXEMPTIONS TO MEET THE REQUIREMENT

Source:

http://epaper.timesofindia.com/Daily…=1289638681078

www.hindustantimes.com/Greater-Noida-is-next-stop/Article1-621878.aspx

http://www.indianexpress.com/news/In-2-yrs–Metro-could-reach-Greater-Noida/706819/

Please refer to below Noida Master Plan Map for 2031 for the exact Greater Noida  route on Noida side

Master-Plan-2031-Draft-noida

 

Further Reads:

Plans for Noida Metro Extension to Sec 62 and NH-24 Widening

http://noidaplots.wordpress.com/2010/11/03/noida-metro-extension-to-sec-62-n-nh24/

Related Posts: