Faridabad Metro Approved by Centre

Faridabad Metro-YMCA Chowk-Badarpur-Route

Faridabad and Bahadurgarh-Metro-Map

New-Delhi-Metro-Links for NCR Towns

Faridabad-Map-Key-plan

Delhi metro to extend to Faridabad, work expected to complete by 2017

GURGAON, June 23, 2014

Updated: June 23, 2014 09:36 IST

Ashok Kumar

Haryana Chief Minister Bhupinder Singh Hooda on Sunday laid the foundation stone for the extension of metro rail from YMCA Chowk to Ballabhgarh in Faridabad.

Rs.564 crore sanctioned

An amount of Rs.564 crore has been sanctioned for the project. The construction will be done by March 2017.

Speaking on the occasion, Mr. Hooda said the project will provide an international-level travelling facility to the people of Delhi, Faridabad and Ballabgarh.

In final phase

Two new stations at NCB Colony and Ballabgarh will be set up on this metro line. The extension work of the Delhi Metro project from Badarpur to YMCA Chowk in Faridabad is in its final phase.

13.87 km-long route

The 13.87 km-long Delhi to Ballabhgarh metro rail project will cost Rs.2,494 crore of which Haryana Government has spent Rs.1,557 crore.

http://www.thehindu.com/news/cities/Delhi/delhi-metro-to-extend-to-faridabad-work-expected-to-complete-by-2017/article6140778.ece

Haryana to Fund Metro from YMCA Chowk to Faridabad

Cities | Press Trust of India | Updated: May 14, 2014 20:54 IST

Chandigarh The Haryana government on Wednesday approved a proposal to fund the extension project of the Delhi Metro from YMCA Chowk to Faridabad in order to provide Metro rail connectivity to the commuters in the state.

A decision to this effect was taken at a meeting of the state Cabinet in Chandigarh on Wednesday, an official release issued here said.

The Central government has given in principle, an approval for the project, it said.

A sum of Rs. 130.80 crore would be the financial implication of this project. The Badarpur-Faridabad Metro line till YMCA chowk is likely to be completed by September 2014, it said.

http://www.ndtv.com/article/cities/haryana-to-fund-metro-from-ymca-chowk-to-faridabad-524413

Faridabad: Not so far away

Sanjiv Bajaj : Sat Dec 15 2012, 09:30 hrs

Faridabad is one of the major industrial hubs in NCR. It lies on Delhi-Agra highway at a distance of 30 km from Delhi. We can say that this city enjoys a great geographical advantage of being located close to the Capital and the suburbs of Noida and Gurgaon.

Road projects

In the near future, Mathura road leading up to Faridabad will emerge as a commercial corridor. It already has Delhi Metro connectivity. The city is also emerging as the NCR’s next big site for residential developments within next few years, as some of the biggest names in the real estate business have commenced projects here. This city will have very good connectivity with Kundli and other areas of NCR as it would be connected by the upcoming Kundli-Manesar-Palwal (KMP) Expressway.

Faridabad, where large scale residential and commercial development began barely six-seven years ago, has now developed into an attractive destination for end-users. With high property rates in Gurgaon and Noida, Faridabad comes as a profitable and affordable locality for real estate investors and buyers.

With the completion of the Badarpur flyover the huge traffic jams are over. The proposed FNG Expressway is being planned to link the town with Noida and Greater Noida. The other link connecting Faridabad to Gurgaon is being widened into a four-lane road.

This easy connectivity i.e. with Delhi, Noida and Gurgaon has attracted buyers, investors and developers in large numbers. The development of Mathura Road in Faridabad into a six-lane expressway and the proposed underpass at Ashram Chowk will boost connectivity in the near future.

Delhi Metro Phase III (to be completed by 2014), is already under progress, which will connect Delhi to Faridabad by linking Badarpur, NHPC Chowk, Badkal Chowk, Old Faridabad and YMCA Chowk and will bring more infrastructure development to the city.

Fast-paced development

The sectors that are being developed along this corridor are 1, 2, 8-10, 15, 28, 29, 37. The new developments which are coming up in Sectors 75–90 that lies opposite the Agra Canal are considered to be most valuable areas for real estate investment. Sectors like 87–89 have greater potential as these areas will be close to two forthcoming highways.

With an increase in this connectivity, the industrial and commercial activities are also growing at a fast pace. The administration authorities around this area are more focused on a comprehensive and multi-dimensional development of environment, infrastructure and economy.

Faridabad is already home to many MNCs such as Whirlpool, Larsen and Toubro, Goodyear, Escorts and Eicher. With an increasing number of companies shifted their offices here, the demand for housing is increasing.

With the rise in demand, projects like The Resort and Pratham which were launched at the price range of Rs 2,200 per sq ft are now selling around the range of Rs 4,000 per sq ft. The prices in this area are still reasonable, if compared to other areas of Noida and Gurgaon. The property rates of this area have showed stable to positive values in rates and have witnessed an average hike of 20 per cent per annum since last 3-4 years.

The first developer to move in this area was BPTP, which is now developing BPTP Parklands covering approximately 1,700 acres spread over Sectors 75-77, 80-86, 88 and 89.

This was followed by the entry of other players like SRS Real Estate, Puri Constructions, Omaxe, Ansals, KLJ Group & Pal Infrastructure. Currently these residential projects are selling in the range of Rs 3,500-6,000 per sq ft depending upon their location, developer and stage of construction.

New Faridabad is offering apartments at much more affordable prices that are well within the reach of working professionals. With an investment period of 3-5 years, one can expect a minimum of 25-35 per cent returns.

A word of caution: Some projects are getting delayed but one can still invest by looking at the developers’ past credentials.

In future, with the development of urban infrastructure projects being developed under JNNURM scheme (expected to complete by mid-2013), the city will be having excellent infrastructural facilities, which will result in greater growth. — The author is MD, Bajaj Capital. With inputs from Sunil Agarwal, Principal Advisor – Bajaj Capital Realty

http://www.indianexpress.com/news/faridabad-not-so-far-away/1045453/0

Faridabad-Gurgaon monorail planned

Press Trust of India : Faridabad, Mon Dec 10 2012, 01:15 hrs

 

http://static.indianexpress.com/frontend/iep/images/dot.jpgHaryana Chief Minister Bhupinder Singh Hooda on Sunday announced that his government is considering introducing a monorail between Faridabad and Gurgaon to accelerate the pace of development in the area. The modalities of the project would be worked out, he said. He also said efforts were being made to extend the Metro line up to Ballabhgarh.

http://www.indianexpress.com/news/faridabadgurgaon-monorail-planned/1042846/

Metro work starts on Badarpur-Faridabad

New Delhi, Aug 14, 2012, DHNS :

Metro has started work at the 14-km Badarpur-Faridabad corridor by shifting major electrical lines and transformers to facilitate the construction.

Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) authorities are taking special measures to ensure minimum inconvenience to people during the process.

This 14-km corridor which connects the Capital with Faridabad is likely to be ready by 2016 and would benefit thousands of people.

It will have nine stations and is an extention of the operational 20.16 km long Central Secretariat-Badarpur corridor which was further extended from Central Secretariat to Kashmere Gate covering 9.36 km.

Metro will be running from Kashmere Gate to YMCA Chowk with a length of 43.40 km covering 32 stations once it becomes functional.

A 220 KV and a 66 KV double circuit transmission line will be raised for the construction of viaduct and proposed NHPC Chowk station.

Shifting of electrical utilities in this corridor is a challenge for DMRC engineers as all 517 piers are affected and infringing with 2/3 circuits of overhead 11 KV electrical lines and underground cables is difficult.

“Space for shifting of electrical utilities is not available at several locations. The electrical installations will be shifted after land is made available for which HUDA has already been requested, said a DMRC official.

“This is the first time in DMRC’s history that the electrical lines are being infringed throughout the corridor at all piers and station locations,” added the official.

The official said DMRC has already started shifting of 11 KV/LT electrical lines and 63 pole mounted sub stations close to the Faridabad Metro alignment.

http://www.deccanherald.com/content/271737/metro-work-starts-badarpur-faridabad.html

Faridabad-Metro-sign-off-Ceremony

मेट्रो निर्माण कार्य ने पकड़ी रफ्तार

Story Update : Tuesday, April 03, 2012     12:01 AM

 

फरीदाबाद। औद्योगिक नगरी को मेट्रो सेवा की सुविधा देने के लिए मेट्रो का निर्माण करने वाली कंपनी ने अपनी गति को बढ़ा दिया है। इसके तहत मैग्पाई चौक के पास पिलर का बेस तैयार कर क्राउन इंटीरियर के निकट मेट्रो पिलर खड़ा करने के लिए पाइलिंग का काम शुुरू कर दिया गया है।
प्रदेश सरकार से एमओयू होने के दूसरे दिन से मेट्रो निर्माण कंपनी एलएंडटी ने मैग्पाई चौक के पास मेट्रो पिलर खड़ा करने का काम शुरू किया। कई दिन पाइलिंग करने के बाद मेट्रो के पहले पिलर को खड़ा करने के लिए जमीन के अंदर जाल डालने का काम पूरा कर लिया गया। यहां पिलर खड़ा करने में अभी समय लगेगा, क्योंकि जो जाल डाला गया है, उसमें प्रयोग की गई सामग्री के सूख कर पुख्ता होने में 15 दिन इंतजार किया जाएगा। ऐसे में कंपनी की ओर से अन्य जगहों पर पाइलिंग का काम शुरू किया जाएगा।
इस कड़ी में एलएंडटी लिमिटेड के अधिकारियों ने मैग्पाई से काम उठाकर बदरपुर बॉर्डर स्थित क्राउन इंटीनियर के सामने पाइलिंग का काम शुुरू कर दिया है। अधिकारियों का कहना है कि जमीन के अंदर बेस बनाने के बाद करीब 15 दिन का समय बेस को मजबूती देने के लिए दिया जाता है।
13.87 किलोमीटर तक बनने वाले मेट्रो कॉरीडोर पर 500 पिलर व पुल खड़ा किया जाना है, जिसके लिए कंपनी को 20 माह की समय सीमा दी गई है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रवक्ता हिमांशु शर्मा ने बताया कि प्रोजेक्ट को समय से पूरा करने की चुनौती मेट्रो प्रशासन के सामने है। इसको लेकर एलएंडटी कंपनी के अधिकारी काफी गंभीर हैं। जल्द से जल्द पिलर खड़ा करने के लिए बेस तैयार किया जा रहा है।

http://www.amarujala.com/state/Haryana/53114-7.html
 

Alignment tangle affects work on Faridabad Metro

Prabhu Razdan, Hindustan Times
Faridabad, March 29, 2012

Construction on the Badarpur-Faridabad link of the Delhi Metro that began on Wednesday was brought to a halt for a couple of hours, allegedly at the behest of National Highway Authority of India (NHAI) officials. Officials of the Delhi Metro  Rail Corporation (DMRC) and the Haryana

Urban Development Authority (HUDA), including Metro chief Mangu Singh, participated at a bhoomi puja close to Mathura Road. The work went on without interruption till 6pm.

However, trouble began when employees of a consulting agency hired by the NHAI and that of Mathura-based M/s Shoba Ram Sharma Contractors arrived at the spot and said work should be halted. They said they were acting on the orders of the NHAI project director, Mathura.

They distributed among mediapersons a letter written by KK Gupta, team leader of a Nagpur-based private consultancy agency. “It has been noticed that the DMRC has started construction of Metro rail on Eastern side of NH2 from Delhi-Haryana border to YMCA Chowk,” the letter said.

“The project director… has intimated that although in principle it has been agreed that construction of metro will be within ROW of NH2, but exact alignment has yet to be decided keeping in view the proposed expansion of the road and allied works like construction of service road and drain,” it added.

“As such, he has given the instruction that no work of the DMRC is to be allowed till the time proper sanction and demarcation of the DMRC route is given by them,” it said.

The letter has been addressed to M/s Shoba Ram Sharma Contractors, Mathura.

DMRC denied having received any notice. “First, we have not received any notice. If we receive it, we will consult the Haryana government and reply accordingly,” DMRC spokesperson Anuj Dayal said. “There is no confusion on alignment of this project as the meeting that cleared it was chaired by the NHAI chairman himself’.

Work reportedly resumed around 8pm after the DMRC assured of sorting out the matter at the earliest.

http://www.hindustantimes.com/India-news/Haryana/Alignment-tangle-affects-work-on-Faridabad-Metro/Article1-832329.aspx

Metro takes first step in building a link to Faridabad from Badarpur

It’s good news for Faridabad residents. The Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) on Thursday started the piling work on the Badarpur-YMCA Chowk (Faridabad) corridor.

The work began near Sector 28 in Faridabad, on the Mathura Road National Highway. Piling is the core activity required for carrying out foundation work of Metro pillars.

DMRC officials maintained that the average height of pillars on this corridor will be approximately nine metres and over 500 pillars will be erected to make the viaduct for the corridor.

The piling work was undertaken on Thursday in the presence of DMRC managing director Mangu Singh, as well as directors and other senior officials of the DMRC and Haryana Urban Development Authority (HUDA).

Delhi Metro will be using specially designed pre-cast U shaped girders to complete the viaduct in 20 months. This is the first time in DMRC history that a single span of approximately 27 metres in length will be used.

The Badarpur-Faridabad link is an extension of the existing Central Secretariat-Badarpur corridor and will be integrated with it after completion. The Haryana government signed the MoU with DMRC for extension on March 26.

The extension will be constructed at a cost of Rs 2,494 crore. The land required for the construction will be provided free of cost by the Haryana government to DMRC on a lease basis.

This fully elevated corridor will have nine stations, and likely to be operational by 2014.

Source:  http://www.indianexpress.com/news/me…darpur/929855/

Efforts on to resolve Metro-NHAI tangle

Prabhu Razdan, Hindustan Times
Faridabad, March 29, 2012

As work on the 13.8-kilometre Badarpur-Faridabad metro line remained suspended since Wednesday night, the Haryana Urban Development Authority (HUDA), the nodal agency implementing the project in the NCR town, has informed Haryana government about the sudden development. Officials said the

Haryana government was taking up with the matter with the National Highway Authority of India (NHAI). “I talked to the HUDA administrator, who is the nodal officer for this project, she informed the state government and I am told the government is taking up the matter with NHAI,” said Rakesh Gupta, deputy commissioner, Faridabad.

In a letter, the highway body has reminded DMRC of a meeting held on February 27, 2012, in the HUDA office, Faridabad. “It was decided in the meeting that DMRC would not carry out any work in the right of way (ROW) of NHAI till the alignment is finalised. However, it is sorry to point out that DMRC has started work in the ROW of NHAI without getting any prior approval,” project director CMU Mathura wrote in the letter to AK Gupta, chief project manager, DMRC.

“You are requested to immediately stop the work in the ROW of NHAI till permission is granted,” the letter said. DMRC confirmed receiving the letter.

Sources said some DMRC officials visited the spot to take stock of the situation.

“We have received a notice from NHAI and replied,” said Kumar Keshav, director (projects), DMRC. “We told them work began after proper approval,” he said, adding, “I believe work may have been stopped due to some other reasons, not NHAI.”

http://www.hindustantimes.com/India-news/NewDelhi/Efforts-on-to-resolve-Metro-NHAI-tangle/Article1-832768.aspx

Construction work on Badarpur-Faridabad Metro link begins

Thu, Mar 29 2012 12:03 IST | 23 Views | Add your comment

New Delhi, March 28

The Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) Wednesday began construction work for a nearly 14-km link to connect the satellite town Faridabad in Haryana with the national capital.

The foundation laying for the pillars of the 13.875 km stretch began Wednesday at Faridabad in the presence of Delhi Metro managing director Mangu Singh and officials of the Haryana government.

"Over 500 pillars will be erected to make the viaduct for this Metro corridor. The average height of the pillars on this corridor will be approximately nine metres," a Metro statement said.

The Badarpur-Faridabad link is an extension of the existing Metro line 6 (Violet Line), which currently runs from Central Secretariat to Badarpur. The line will be extended to Faridabad, an industrial and residential town in Haryana, neighbouring Delhi.

"On this corridor, Delhi Metro will be using specially designed pre-cast U-shaped girders to complete the viaduct in a short time of 20 months. This is for the first time in Delhi Metro's history where a single span of approximately 27 metres in length and weighing about 160 tonnes will be used," a DMRC spokesman said.

According to the Detailed Project Report (DPR), the daily ridership of the Metro corridor is expected to be 2.14 lakh, after commissioning of the corridor for the public.

"The fully elevated corridor will be completed by 2014 and it will have nine Metro stations, connecting Badarpur and YMCA Chowk in Faridabad," the statement said.

The stations are Sarai Khwaja, NHPC Chowk, Mewla Maharajpur, Sector 27-A, Badhkhal Modh, Old Faridabad, Ajraunda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

http://www.prokerala.com/news/articles/a290322.html

Faridabad Metro link gets nod

NEW DELHI: The Delhi Metro's extensions into the national capital region got a shot in the arm on Monday with the Haryana government signing an MoU with the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) for the extension of the Central Secretariat-Badarpur line.

The 13.8km corridor, which is part of the Phase III of the Delhi Metro network, will have nine stations and will terminate at YMCA Chowk. Work on the extension has already started, with DMRC awarding the tender for the construction in February this year.

The fully-elevated corridor, the longest Metro line in the NCR, will be constructed at an estimated cost of Rs 2,494 crore and is expected to be commissioned by 2014, said a DMRC spokesperson. According to the detailed project report (DPR), the daily ridership of the 13.875 km metro corridor is expected to be 2.14 lakhs in 2014 after commissioning of the corridor. The corridor will be a standard gauge corridor, that is of 1435 mm. The stations on the corridor are Sarai, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector 27 A, Badkal Mor, Old Faridabad, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

Added the DMRC spokesperson, "The funding pattern of the corridor is such that the Haryana government will give Rs 1,472.4 crore, which is excluding the cost of land. The government of India will pitch in with Rs 536.6 crore while DMRC will put in Rs 400 crore in the form of rolling stock."The required land for the construction of the project is being provided free of cost by the Haryana government to DMRC on lease basis, the official added.

A train maintenance depot will also be constructed near Sector 20 A in Faridabad and will be called Ajronda Depot. The work has commenced for the boundary wall, added the Delhi Metro spokesperson. The corridor will cover a distance of approximately 43.40km from Kashmere Gate to YMCA Chowk in Faridabad.

Link: http://timesofindia.indiatimes.com/c…w/12422035.cms

बदरपुर से मंडी हाउस तक मेट्रो 2014 के अंत तक

Source: बिजनेस भास्कर नई दिल्ली   |   Last Updated 01:45(01/02/12)

बड़ा प्रोजेक्ट
फेज-3 के तहत 2016 तक दिल्ली में 103 किलोमीटर का मेट्रो नेटवर्क बिछाया जाएगा। केंद्रीय सचिवालय-मंडी हाउस लाइन, केंद्रीय सचिवालय-कश्मीरी गेट कॉरिडोर का हिस्सा होगा जो मौजूदा बदरपुर-केंद्रीय सचिवालय रूट से जुड़ जाएगा।

आठ डिब्बों की मेट्रो जून से
मेट्रो ट्रेनों में यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए डीएमआरसी भीड़-भार वाले कॉरिडोर पर इस साल जून से आठ डिब्बों की मेट्रो शुरू करेगा। इस तरह से सभी चार या छह डिब्बों वाली ट्रेनें आठ डिब्बों में तब्दील हो जाएंगी। यह जानकारी डीएमआरसी के एमडी मंगू सिंह ने दी।

चीन की कंपनियों पर टिप्पणी नहीं
मेट्रो के प्रोजेक्ट में चीन की कंपनियों के शामिल होने पर डीएमआरसी प्रमुख ने कहा कि हम किसी के नाम का उल्लेख नहीं करना चाहते। हम सिर्फ काम को परखते हैं। हमारी इतनी कठोर शर्तें हैं कि ठेका कंपनियों का इसका पालन करना पड़ता है।

इस रूट पर मेट्रो के दो स्टेशन बनेंगे
बदरपुर से वैशाली-द्वारका रूट तक जाने वाले मेट्रो यात्रियों का सफर तीन साल में बहुत आसान हो जाएगा। उन्हें वैशाली/नोएडा-द्वारका रूट पर जाने के लिए 2014 के अंत तक सिर्फ एक जंक्शन मंडी हाउस पर मेट्रो बदलना पड़ेगा। अभी उन्हें केंद्रीय सचिवालय और भीड़-भार वाले राजीव चौक दो स्टेशनों पर ट्रेन बदलने की जहमत उठानी पड़ती है।

इस समस्या का समाधान निकालने के लिए दिल्ली मेट्रो कॉरपोरेशन ने फेज-3 प्रोजेक्ट के तहत केंद्रीय सचिवालय से मंडी हाउस तक 3 किलोमीटर लंबे सुरंग कॉरिडोर के निर्माण का काम मंगलवार को शुरू किया। बोरिंग के जरिए बनने वाली इस लंबी सुरंग के जरिए बनने वाले इस कॉरिडोर में दो स्टेशन होंगे जो 2014 के अंत तक बनकर तैयार हो जाएंगे।इस रूट के चालू हो जाने पर राजीव चौक पर रोज उमडऩे वाली 4 लाख यात्रियों की भीड़ को संभालना आसान हो जाएगा।

 

जर्मन कंपनी हेरेननेक्ट ने सुरंग बनाने की टनलिंग मशीन मुहैया कराई है और इस चेन्नई में एकत्र करने के बाद मंगलवार को मध्य दिल्ली स्थित चेम्सफोर्ड क्लब और प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के निकट इसे जमीन के अंदर उतारा गया। उम्मीद है कि प्रस्तावित जनपथ स्टेशन तक यह सुरंग जून 2012 तक बन जाएगी।

साइट पर आमंत्रित संवाददाताओं को डीएमआरसी के एमडी मंगू सिंह ने बताया कि फेज-3 का यह बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा है। सिंह ने कहा, हम फेज-3 में 20 से अधिक टनेल बोरिंग मशीनों (टीबीएम) का इस्तेमाल करेंगे। फेज-3 के तहत 2016 तक दिल्ली में 103 किलोमीटर का मेट्रो नेटवर्क बिछाया जाएगा। केंद्रीय सचिवालय-मंडी हाउस लाइन, केंद्रीय सचिवालय-कश्मीरी गेट कॉरिडोर का हिस्सा होगा जो मौजूदा बदरपुर-केंद्रीय सचिवालय रूट से जुड़ जाएगा।

तीन किलोमीटर लंबे इस रूट के चालू हो जाने पर मंडी हाउस इंटर चेंज स्टेशन बन जाएगा जहां से यात्रियों को आनंद विहार, नोएडा या द्वारका रूट की मेट्रो मिलेगी। इस कॉरिडोर के बनने के बाद यात्री राजीव चौक स्टेशन की भीड़ से बच जाएंगे। सिंह ने बताया कि पुरानी दिल्ली, जहां कई पुरानी और पुरातत्व महत्व वाली इमारतें हैं, से गुजरने वाले इस कॉरिडोर में सुरंग बनाने के लिए टीबीएम की इस्तेमाल होगा।

ये टीबीएम अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर की मदद से चलाई जाएगी और इसमें सुरंग का निशाना काफी हद तक सटीक रहेगा। यह टीबीएम अगले तीन दिनों में सुरंग के भीतर अपनी जगह पर पहुंच जाएगी। केंद्रीय सचिवालय से जनपथ तक सुरंग की लंबाई 924 मीटर होगी और इसकी खुदाई में कम से कम दो टीबीएम का इस्तेमाल किया जाएगाा।

http://business.bhaskar.com/article/2014-by-the-end-of-the-mandi-house-metro-to-badarpur-2809567.html

कश्मीरी गेट से 90 मिनट में फरीदाबाद पहुंचाएगी मेट्रो

Story Update : Wednesday, February 01, 2012     1:35 AM

 

नई दिल्ली। मेट्रो ने यात्रियों को कश्मीरी गेट से फरीदाबाद नब्बे मिनट में पहुंचाने की तैयारी शुरू कर दी है। बदरपुर से केंद्रीय सचिवालय की लाइन को कश्मीरी गेट तक विस्तार देने के लिए टनल बोरिंग मशीन मंगलवार को जमीन के नीचे उतारी गई। जबकि बदरपुर से फरीदाबाद को जोड़ने वाले कॉरिडोर का टेंडर अवार्ड कर दिया गया है। करीब 44 किमी के इस पूरे कॉरिडोर पर यात्री नब्बे मिनट में कश्मीरी गेट से फरीदाबाद पहुंच सकेंगे। कॉरिडोर का इस्तेमाल 2016 तक दैनिक करीब 6 लाख लोग करेंगे। केंद्रीय सचिवालय से कश्मीरी गेट कॉरिडोर के निर्माण पर करीब 1700 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।
डीएमआरसी के प्रबंध निदेशक मंगू सिंह ने बताया कि दोनों कॉरिडोर का निर्माण दिसंबर, 2015 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। केंद्रीय सचिवालय से कश्मीरी गेट (9.37 किमी) कॉरिडोर पर सुरंग बनाने के लिए मशीन जमीन के नीचे उतारी गई है। वहीं, बदरपुर से फरीदाबाद (14 किमी) के सेक्शन का टेंडर संबंधित कंपनी को अवार्ड कर दिया गया है। लोगों के लिए केंद्रीय सचिवालय से मंडी हाउस तक का हिस्सा 2015 तक और बाकी हिस्सा 2016 तक खोलने का लक्ष्य रखा गया है। सेक्शन के मंडी हाउस और कश्मीरी गेट इंटरचेंज स्टेशन के यूनिक फीचर्स होंगे। फेस-तीन के सभी कॉरिडोर लोगों के लिए मार्च, 2016 तक खोलने का लक्ष्य रखा गया है। एनसीआर में मेट्रो नोएडा, गाजियाबाद व गुड़गांव में दस्तक दे चुकी है। केंद्रीय सचिवालय से बदरपुर (20.16 किमी) का कॉरिडोर यात्रियों को दिल्ली से फरीदाबाद बार्डर पर पहुंचा रहा है। कश्मीरी गेट स्टेशन पर एक साथ तीन लाइन का इंटरचेंज हब होगा। जबकि मंडी हाउस का इंटरचेंज स्टेशन गुड़गांव और फरीदाबाद से आने वालों को द्वारका या नोएडा की तरफ जाने की राह आसान करेगा। इतना ही नहीं राजीव चौक स्टेशन की भीड़ भी इससे कम होगी।
सेक्शन से कहां पहुंचना होगा आसान
ली मेरीडियन, इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट, शास्त्री भवन, कृषि भवन, रॉयसीना रोड, फिरोजशाह रोड, अशोक रोड, मंडी हाउस, लेडी इरविन कालेज, डालमिया हाउस, हिमाचल भवन, तिलक ब्रिज रेलवे स्टेशन, आईटीओ, आईपी एस्टेट, डीडीयू मार्ग, बहादुर शाह जफर मार्ग, दिल्ली गेट, समता स्थल, डा अंबेडकर स्टेडियम, मौलाना आजाद मेडिकल कालेज, दरियागंज, जामा मस्जिद, दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी, सीताराम बाजार, लालकिला, लाजपत राय मार्केट, चांदनी चौक, भागीरथ पैलेस, कश्मीरीगेट, मोरी गेट।
कौन-कौन से हैं स्टेशन
केंद्रीय सचिवालय, जनपथ, मंडी हाउस, आईटीओ, दिल्ली गेट, जामा मस्जिद, लाल किला, कश्मीरी गेट।

http://www.amarujala.com/state/Delhi/50879-4.html

 

RECORD CORRIDOR NCR's longest Metro line in Faridabad

Subhendu Ray subhendu.ray@hindustantimes.com

NEW DELHI:

The longest Metro corridor in the national capital region (NCR) -about 14km ong -will be built in phase 3 n Faridabad.

The elevated Metro corridor till YMCA Chowk in Faridabad-the extension of line 6 Central Secretariat­Badarpur) -is going to be the longest expansion taken up in the NCR region so far by the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) and was cleared recently.

The route length of 13.9kilometre swill put Faridabad ahead of Gurgaon, Noida and Ghaziabad. The total Metro network in Noida is 7km, Gurgaon 7.5km and Ghaziabad 2.57km.

“The documents for memorandum of understanding with Haryana for Faridabad metro have been prepared and we are awaiting a date from the Haryana government for its signing. Earlier, the central group of ministers had cleared the proposed corridor,“ said Anuj Dayal, DMRC spokesperson.

“This corridor, with nine stations, will be constructed on the lines of the Noida corridor. We will bear 80% of the cost, while the Delhi government will bear the remaining part,“ said an official of the Haryana government.

Delhi Metro officials said that work on this corridor would be done at a war footing and completed by 2016 -the deadline for completion of other corridors under phase 3.

The Haryana government will soon start the process of acquiring land for this R2,533 crore project, sources said. DMRC has started the tender process for this corridor, so work can be immediately begun after land is acquired.

Tenders for construction of eight elevated station buildings, including architectural finishing, water supply, sanitary installation and external development work, at Old Faridabad, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk on BadarpurFaridabad corridor have been floated.

http://epaper.hindustantimes.com/PUBLICATIONS/HT/HD/2012/01/23/ArticleHtmls/RECORD-CORRIDOR-NCRs-longest-Metro-line-in-Faridabad-23012012004005.shtml?Mode=1#

Now, Metro link up to Ballabgarh

Prabhu Razdan , Hindustan Times
Faridabad, December 09, 2011As the process of extension of Metro Rail line to Faridabad has already been started, the authorities have now recommended extension of this line up to Ballabgarh township.

“The proposal to extend Metro line up to Ballabgarh has been sent to Haryana government three to four days

ago,” said Rakesh Gupta, deputy commissioner, Faridabad. Extension of Metro line from Badarpur to YMCA Chowk in Faridabad is already at an advanced stage with almost all agencies having given its approval. “Because of growing demand from the residents of Ballabgarh, I thought it is better to recommend to the state government extension of this Metro link up,” Gupta said.

Meanwhile, Haryana Urban Development Authority Faridabad, has already taken a decision to hand over land to DMRC for setting up of nine Metro stations between Badarpur and YMCA Chowk in Faridabad .

The 13.8-km-long Metro line to Faridabad will be elevated with nine stations including Sarai, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector 27A, Badkal Mor, Old Faridabad, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

http://www.hindustantimes.com/India-news/Haryana/Now-Metro-link-up-to-Ballabgarh/Article1-779748.aspx

Badarpur-Faridabad Metro link cleared

TUHIN DUTTA

Posted: Dec 15, 2011 at 0104 hrs IST

Gurgaon The Metro link between Badarpur in Delhi and YMCA Chowk in Faridabad got Haryana Cabinet approval on Wednesday. The Cabinet, which met under Haryana Chief Minister Bhupinder Singh Hooda, approved the project at a revised cost of Rs 2,494 crore.

The elevated corridor, an extension of the existing Line 6 (Central Secretariat-Badarpur), will run on a standard gauge. The Delhi Metro has shortlisted nine stations for the corridor: Sarai, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector-27A, Badkal Mor, Faridabad Old, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

The tenders for a section of the 13.87-km corridor have already been floated. According to officials, contracts for four out of nine stations are likely to be finalised by the first week of January.

An official said the total cost includes Rs 85 crore towards cost of land, Rs 1,639 crore as cost of network (excluding taxes in the ratio of 80:20), Rs 261 crore as central taxes to be shared between state and the Centre at 20:80 ratio, Rs 109 crore state taxes and Rs 400 crore as cost of rolling stock.

The Haryana government will contribute Rs 1,557.4 crore within a period of three years (2011 to 2014).

The Cabinet also approved the draft of Memorandum of Understanding (MoU) to be signed by the Ministry of Urban Development and Haryana government for a Metro link from Sikanderpur station to NH8 in Gurgaon.

The MoU will be signed on Thursday in the presence of Union minister Kamal Nath and Hooda. Rapid Metro officials said the project was on track, but an MoU is necessary to start operations. The Rapid Metro will have six stations, and is coming up with an investment of Rs 1,088 crore.

With the completion of Badarpur-Faridabad corridor, the Metro will be connecting Delhi to three cities in the NCR — Noida and Gurgaon are already on Metro map.

http://static.expressindia.com/expressindia/images/zero.gif http://www.expressindia.com/latest-news/badarpurfaridabad-metro-link-cleared/887954/

A bit late in the day, Centre clears Rapid Metro project

TNN | Dec 15, 2011, 05.36AM IST

GURGAON: All decks have finally been cleared for the operation of Rapid Metro, the city's first private Metro rail network.

Haryana chief minister Bhupinder Singh Hooda and Union Urban Development minister Kamal Nath will sign a memorandum of understanding (MoU) in Delhi on Thursday. According to sources, the MoU, giving a green signal to the Rapid Metro's operation, had long been pending for clearance with the Urban Development ministry. The project was aimed at starting simultaneously with the Delhi Metro's Gurgaon line to act as a feeder line for the lakhs of commuters in the city.

Though, the MoU didn't pose any hindrance in its construction activities, its operation was not possible unless the ministry signed it. The state and Centre took time in finalizing a policy for the first-of-its-kind privately built and run Metro service so that the model can be implemented in similar such projects in the future, said the sources.

The project had also been sent for financial reviews and to the Law ministry for framing of rules and regulations. Meanwhile, the detailed project report for the second phase on Golf Course Road was also approved and tendering is expected to happen soon. A detailed project report for the third phase in Udyog Vihar is still awaited. Rapid Metro was an initiative of the DLF group in 2007 end. However, it later got in to an agreement with IL&FS and as on date is a silent partner in the project. Although the project planning began in 2008, it has remained stuck in one or the other "technical snags" ever since.

Dwarka line soon

The Centre and the Haryana government will also sign an MoU to start another Metro line from Gurgaon to Dwarka," said Union urban development minister Kamal Nath. "Phase III of the Metro has started and this would be very important in providing important infrastructure to people," Nath said. "Similarly, we are looking at expediting Phase IV as much as we can," he added.

Nod to Metro work in Faridabad

The state cabinet has given its approval to the extension of Delhi Metro from Badarpur to YMCA Chowk in Faridabad at revised cost of Rs 2,494 crore. The state will contribute Rs 1,557.40 crore within a period of 3 years. Of the total amount, infrastructure development fund will contribute Rs 778.70 crore, state government Rs 280.32 crore, HUDA Rs 311.48 crore and HSIIDC Rs 186.90 crore.

 

http://timesofindia.indiatimes.com/city/gurgaon/A-bit-late-in-the-day-Centre-clears-Rapid-Metro-project/articleshow/11114583.cms

 

मेट्रो की अलाइनमेंट पर उठाई आपत्ति

Story Update : Thursday, December 15, 2011     12:01 AM

 

फरीदाबाद। मेट्रो को आगे बढ़ने में इस बार एनएचएआई ने बाधा खड़ी कर दी है। एनएचएआई ने डीएमआरसी से साफ कह दिया है कि वह मेट्रो की अलाइनमेंट से सहमत नहीं है। इसलिए डीएमआरसी हाइवे के दूसरी ओर मेट्रो को लाने का अलाइनमेंट तैयार करे। वहीं डीएमआरसी के अधिकारी का कहना है कि इतना आगे बढ़ने के बाद अलाइनमेंट बदलने का अब सवाल ही नहीं उठता। दोनों विभागों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि अब उच्च स्तर पर ही यह मसला सुलझेगा।
शुरुआती दौर में डीएमआरसी इसे राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच में लाना चाह रहा था। लेकिन एनएचएआई इस पर सहमत नहीं हुआ। इसका मुख्य कारण था राष्ट्रीय राजमार्ग दो का सिक्स लेन होना और इस पर फरीदाबाद में कई फ्लाईओवर बनने हैं। बीच में मेट्रो के आने से इस पर असर पड़ता। ऐसे में या तो फ्लाईओवर टाले जाते या फिर मेट्रो को फ्लाईओवर के भी ऊपर से लाना पड़ता। इसलिए बीच से लाने का विचार छोड़ दिया गया।
डीएमआरसी(दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन) ने मेट्रो का जो अलानइमेंट तय किया है, उसके अनुसार, मेट्रो दिल्ली आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर बाईं (दिल्ली से आने वाले रास्ते पर) ओर आएगी। लेकिन नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) इसके लिए तैयार नहीं है।
एनएचएआई से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि जिस ओर मेट्रो लाने के लिए डीएमआरसी ने अलाइनमेंट तय किया है, वह हमारे लिए सही नहीं है। इससे सिक्स लेन के कार्य में परेशानी पैदा होगी। मंगलवार को हुई बैठक में इस बारे में अवगत करा दिया गया है।
उधर, डीएमआरसी के अधिकारी का कहना है कि अलाइनमेंट बदलने का अब सवाल ही नहीं उठता। हालांकि दोनों विभागों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि मसला तो सुलझना ही है, लेकिन अब यह उच्च स्तर पर ही सुलझाया जाएगा।

प्रोजेक्ट लागत —२५३३ करोड़
हरियाणा का हिस्सा –१५८८ करोड़
केंद्र का हिस्सा ——५४५ करोड़
डीएमआरसी -४०० करोड़

प्रोजेक्ट पर कितना आगे बढ़ चुकी है डीएमआरसी
-एलाइनमेंट तय
-स्टेशन के स्थल तय
-स्टेशन निर्माण के टेंडर निकाले
-३० जून २०१३ तक स्टेशन निर्माण की डेडलाइन

एलाइमेंट की खास बात
-९ मीटर का बनाया जाएगा सामान्य मेट्रो कॉरीडोर
-१३ मीटर हो जाएगी क्रॉसिंग पर कॉरीडोर की ऊंचाई

http://www.amarujala.com/state/Haryana/45664-7.html

 

DELAY IN SIGNING MOU STALLS METRO TO FARIDABAD

Prabhu Razdan prabhu.razdan@hindustantimes.com

FARIDABAD:

11 Dec 2011

We are waiting for Haryana government's nod in this direction.

K U M A R K E S H AV director, planning, DMRC

The delay in signing of a Memorandum of Understanding (MoU) between Haryana government and the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) is delaying Metro's expansion to Faridabad.

However, sources said that meeting of officials of National Highway Authority of India (NHAI), DMRC and Haryana Urban Development Authority (HUDA) is scheduled for Tuesday in connection with the Metro project up to YMCA crossing in Faridabad.

“Once the MoU between the DMRC and Haryana government is signed, we will move ahead with this project,“ said Kumar Keshav, Director Projects and Planning DMRC.
“We are waiting for Haryana government's nod in this direction,“ he added.

It may be mentioned that the NHAI has already okayed DMRC's proposal for change of alignment from middle of the National Highway number two to left side of National Highway from Badarpur side.

This change, the officials said was imperative in view of NHAI's plans to widen the National Highway and the same will not hamper work of both the agencies.

The 13.8-km Metro line from Badarpur to Faridabad 's YMCA Chowk will be elevated with nine stations.

 
 

http://www.hindustantimes.com/India-news/UttarPradesh/Delay-in-signing-MoU-stalls-metro-to-Faridabad/Article1-780693.aspx

मेट्रो का डबल धमाका, सभी 9 स्टेशनों पर एफओबी

7 Dec 2011, 0400 hrs IST

सचिन हुड्डा ॥ फरीदाबाद

शहर को दो हिस्सों में बांट रहे नैशनल हाइवे से सबसे बड़ी परेशानी फुट ओवरब्रिज (एफओबी) न होने के चलते है। हालांकि बदरपुर फ्लाइओवर बनाने वाली कंपनी ने सराय ख्वाजा पर फुटओवर ब्रिज बनाया है, इसके बावजूद शहर के बीचों बीच से गुजर रहे हाइवे पर अन्य किसी स्थान पर यह सुविधा नहीं है। नैशनल हाइवे को सिक्स लेन किए जाने की योजना में भी शहर के बीच से गुजर रहे हाइवे पर एफओबी बनाने का प्रावधान नहीं रखा गया है। शहरवासियों की यह परेशानी अब आने वाली मेट्रो काफी हद तक हल कर देगी। नैशनल हाइवे पार करने के लिए लोगों को हाइवे पर दौड़ती गाडि़यों के बीच से नहीं गुजरना होगा। दिल्ली से आगरा जाते समय फरीदाबाद के एक को छोड़कर सभी मेट्रो स्टेशन बाइर्ं तरफ बनने हैं। ऐसे में हाइवे के दूसरी तरफ बनने वाली पार्किंग से लोगों को मेट्रो स्टेशन तक लाने के लिए फुटओवर ब्रिज बनाए जाएंगे, जिससे लोग न केवल मेट्रो स्टेशनों तक पहुंच सकेंगे, साथ ही नैशनल हाइवे को भी बड़ी आसानी से पार कर सकेंगे।

सीधे पार्किंग में पहुंचाएंगे एफओबी

फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत यहां 9 मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित हैं, जिसमें सराय ख्वाजा, एनएचपीसी, मेवला महाराजपुर, सेक्टर 27 ए, बड़खल, ओल्ड फरीदाबाद, अजरौंदा, न्यू टाउन (बाटा) और वाईएमसीए मेट्रो स्टेशन शामिल हैं। इनमें से सराय ख्वाजा का मेट्रो स्टेशन दिल्ली से आते समय नैशनल हाइवे के राइट साइड में बाकी 8 मेट्रो स्टेशन नैशनल हाइवे के लेफ्ट साइड में बनाए जाएंगे। इन सभी मेट्रो स्टेशनों पर नैशनल हाइवे के दोनों तरफ पार्किंग होगी। एक पार्किंग एलिवेटिड मेट्रो स्टेशनों के नीचे बनेगी तो दूसरी पार्किंग स्टेशन के सामने नैशनल हाइवे के पार बनाई जाएगी। नैशनल हाइवे पार करके स्टेशन तक पहुंचने में लोगों को परेशानी न हो, इसके लिए हर स्टेशन से दूसरी तरफ की पार्किंग को जोड़ने के लिए फुट ओवरब्रिज बनाया जाएगा।

टिकट जोन बाहर बनाए जाएंगे

फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर ए . के . गुप्ता ने बताया कि मेट्रो स्टेशनों से नैशनल हाइवे के दूसरी तरफ जाने के लिए जो फुटओवर ब्रिज बनाए जाएंगे वे टिकट जोन से बाहर रखे जाएंगे। एफओबी का इस्तेमाल करने के लिए कोई टिकट नहीं लेना पड़ेगा। जो लोग मेट्रो में नहीं जाना चाहते और केवल नैशनल हाइवे पार करना चाहते हैं वे भी उन फुट ओवर ब्रिज का इस्तेमाल कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि फरीदाबाद से होकर गुजरने वाला नैशनल हाइवे बहुत व्यस्त है , लेकिन अभी तक फरीदाबाद में केवल एक ही एफओबी है। हमने मेट्रो स्टेशनों के डिजाइन में फुट ओवर ब्रिज की लोकेशन ऐसी रखी है कि मेट्रो में सफर करने वालों के साथ दूसरे लोग भी इनका इस्तेमाल कर सकेंगे।

आएगी हादसों में कमी

गलत तरीके से नैशनल हाइवे पार करते समय आए दिन लोग हादसों का शिकार होते रहते हैं। नैशनल हाइवे सिक्स लेन हो जाने के बाद ट्रैफिक और तेज गति से नैशनल हाइवे पर दौड़ेगा , इससे हादसों की संभावनाएं और बढ़ सकती हैं। ऐसे में हादसों पर लगाम कसने के लिए ये एफओबी काफी कारगर साबित होंगे।

जल्द होगा स्टेशनों का निर्माण शुरू

ए . के . गुप्ता का कहना है कि फरीदाबाद के मेट्रो स्टेशन दिल्ली और गुड़गांव के स्टेशनों से बेहतर होंगे। इन स्टेशनों में लोगों को वहां से ज्यादा सुविधाएं मिलेगी। उन्होंने बताया कि एनएचपीसी चौक , मेवला महाराजपुर , सेक्टर 27 ए और बड़खल पर बनने वाले मेट्रो स्टेशनों के टेंडर आमंत्रित कर दिए हैं। 90 करोड़ में बनने वाले इन स्टेशनों का काम जनवरी में शुरू कर दिया जाएगा। इसके अलावा चार स्टेशनों के टेंडर अगले सप्ताह तक आमंत्रित कर लिए जाएंगे। एक स्टेशन के टेंडर आमंत्रित करने में अभी समय लेगा , उसके डिजाइन में कुछ बदलाव किया जा रहा है।

 

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/11008970.cms

 

Work on Faridabad line begins next year

Sweta Dutta

 06 Dec 2011 New Delhi:

Work on the 13.87-km Metro corridor, linking Badarpur to Faridabad, is set to begin early next year. The tenders for a section of the line have already been floated.

According to officials, contracts for four out of nine stations are likely to be finalised by the first week of January.

The elevated corridor, which is an extension of the existing Line 6 (Central Secretariat-Badarpur), will run on a standard gauge.

Delhi Metro has shortlisted nine stations for the corridor: Sarai, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector-27A, Badkal Mor, Faridabad Old, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

Tenders for stations at NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector-27A and Badkal Mor have been floated, officials said. The stipulated time period for completion of the project is 18 months from award of contract.

Officials said if the project is awarded by early-January, this section of the corridor will be complete by mid-2013.

Authorities are also preparing to float tenders for the rest of the corridor, which has received all the requisite approvals including a nod from the Ministry of Urban Development and the Empowered Group of Ministers.

With the completion of this corridor, the Metro will be connecting Delhi to three cities in the NCR — Noida and Gurgaon are already on Metro map.

Under Metro’s Phase-III, there is another proposal to link Kalindi Kunj-Botanical Garden in Noida route to South Delhi.

After completion of this line and the Faridabad corridor, travel time between Gurgaon and Faridabad will be approximately an hour, with two interchanges at Kalkaji and Hauz Khas. To reach Noida’s Botanical Garden station from Faridabad, it will take 50 minutes through an interchange at Kalkaji.

The estimated cost of the project is Rs 2,533 crore, of which Rs 100 crore has been allocated by the Centre.

http://www.indianexpress.com/news/work-on-faridabad-line-begins-next-year/884412/0

एनसीआर में सबसे सुरक्षित और ज्यादा तेज होगी अपनी मेट्रो

Story Update : Friday, December 02, 2011     12:01 AM

 

फरीदाबाद। दिल्ली, गुड़गांव और नोएडा में दौड़ रही मेट्रो से अपनी मेट्रो ज्यादा सुरक्षित और तेज होगी। यह सब होगा आधुनिक तकनीक सीबीटीसी (कम्युनिकेशन बेस्ड ट्रेन कंट्रोल) के जरिए। फिलहाल दिल्ली मेट्रो में सीएटीसी (कंटीन्युअस ऑटोमैटिक ट्रेन कंट्रोल सिस्टम) से संचालन हो रहा है। फरीदाबाद की मेट्रो में अत्याधुनिक सिग्नल प्रणाली अपनाई जा रही है। यही नहीं, तुरंत रोकने और गंतव्य तक पहुंच कर स्टेशन तक आने में उसे दिल्ली की तुलना में समय भी कम लगेगा।
फरीदाबाद में मेट्रो को घूमकर प्लेटफार्म पर आने में अभी तक दौड़ रही मेट्रो से कम समय लगेगा। इसके लिए अंतिम स्टेशन के आगे जहां मेट्रो को घूमकर आना पड़ता है, वहां ज्यादा लाइन बनाई जा रही हैं, जिससे मेट्रो को घूमने में आसानी होगी। इसका एक फायदा यह भी होगा कि मेट्रो और ज्यादा चक्कर लगा सकेगी।

यात्रियों की संख्या और बढ़ेगी
वाईएमसीए (फरीदाबाद) से बदरपुर तक मेट्रो को लगभग १.७५ लाख से २ लाख यात्री रोजाना मिलने की उम्मीद है। हालांकि मेट्रो ने वर्ष २००९-२०१० में जो सर्वे कराया था, उसमें उसका अनुमान था कि इस रूट पर रोजाना 1 से १.५ लाख यात्री मिलेंगे। लेकिन मेट्रो के आने तक इसकी संख्या में इजाफा होना स्वाभाविक है। डीएमआरसी के प्रवक्ता हिमांशु का कहना है कि फिलहाल बदरपुर से चलने वाली मेट्रो को करीब एक लाख यात्री रोजाना मिल रहे हैं। हिमांशु ने बताया कि इसमें ज्यादातर फरीदाबाद के हैं। जब मेट्रो फरीदाबाद से चलेगी तो यह संख्या और बढ़ेगी।

अब पुरानी पड़ गई सीएटीसी तकनीक
सीएटीसी प्रणाली में ओसीसी (ऑपरेशन कंट्रोल सेंटर) स्टेशन के कंप्यूटर रूम को सूचना देता था। फिर स्टेशन कंप्यूटर रूम उस सूचना को ट्रैक सर्किट तक पहुंचाता था। ट्रैक सर्किट से चल कर वह सूचना मेट्रो के ऑपरेटर केबिन में लगे कंप्यूटर में पहुंचती थी। इस सिस्टम की सबसे बड़ी कमी यह थी कि सूचना के पहुंचने में थोड़ा वक्त लगता था।

सीबीटीसी से होगी समय की बचत
सीबीटीसी प्रणाली में ट्रैक सर्किट की भूमिका हटा ली गई है। अब स्टेशन कंप्यूटर रूम किसी भी सूचना को मेट्रो के ऑपरेटर केबिन में लगे कंप्यूटर तक सीधे संदेश देगा। इस तरह मेट्रो का ऑपरेटर केबिन और स्टेशन का कंप्यूटर रूम दोनों एक-दूसरे से रेडियो के जरिए सीधे बातचीत कर सकेंगे, जिससे सूचना के आदान-प्रदान में समय की बचत होगी।

नई तकनीक के फायदे
-आगे की मेट्रो की दूरी मेट्रो चालक को पता चल जाएगी, जिससे वह अपनी स्पीड तय कर सकेगा
-तेज रफ्तार पर भी लगेगा आसान ब्रेक
-सिग्नल की दूरी सीएटीसी की तुलना में कम
-सीएटीसी की तुलना में मेंटेनेंस कम
-मेट्रो चालक के सिस्टम में खराबी आने पर कुछ ही समय में हो जाएगा री स्टोर
-मेट्रो चलने के दौरान होगी उच्च स्तर की सुरक्षा
-ऑटोमेटिक कंट्रोल सिस्टम होगा

http://www.amarujala.com/state/Haryana/43968-7.html

 

एनसीआर का बंधन और मजबूत करेगी मेट्रो

21 Nov 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

पूनम गौड़॥ गुड़गांव
एनसीआर के अधिकांश इलाकों को एक दूसरे से जोड़ने का काम डीएमआरसी 2012 से शुरू कर देगी। 2016 में जब मेट्रो का तीसरा फेज पूरा होगा तब बहादुरगढ़, गुड़गांव, फरीदाबाद और नोएडा के कई हिस्से दिल्ली से इस तरह से जुड़ जाएंगे कि एक से दूसरे शहर में जाना और आसान हो जाएगा। डीएमआरसी ने तमाम प्रोजेक्टों से जुड़ी अपनी डीपीआर केंद्र सरकार को भेज दी है। इनमें से कई को मंजूरी मिल चुकी है। इसके अलावा कुछ डीपीआर को अंतिम रूप दिया जा रहा है। थर्ड फेज में मेट्रो को एनसीआर के अंदर तक लाने की तैयारियां तेज कर दी गई हैं।

फरीदाबाद और बहादुरगढ़ के लिए डीपीआर तैयार कर डीएमआरसी ने मिनिस्ट्री ऑफ अर्बन डिवेलपमेंट को सौंप दी है, वहीं गुड़गांव में इफ्को चौक-द्वारका सेक्टर-21 मेट्रो लाइन का सर्वे पूरा कर लिया गया है। उधर, नोएडा सेक्टर 62 तक मेट्रो के विस्तार के लिए रूट सर्वे शुरू हो चुका है। इसको अंतिम रूप देने की प्रक्रिया चल रही है।

डीएमारसी से मिली जानकारी के अनुसार, उच्चाधिकार मंत्री समूह (ईजीओएम) ने एनसीआर को जोड़ने वाली लाइनों को थर्ड फेज में ही पूरा करने को कहा है। इसके बाद ही डीएमआरसी ने एनसीआर में मेट्रो के नेटवर्क बढ़ाने की तैयारियां तेज कर दी हैं। डीएमआरसी अधिकारियों के अनुसार, ईजीओएम ने कहा है कि एनसीआर में जाने वाली मेट्रो के लिए अलग प्रपोजल बनाया जाए और उसे जल्दी ही ईजीओएम के पास भेजा जाए। इस समय जितने भी अलाइनमेंट उनके पास आए हैं सभी को फाइनल करने की प्रक्रिया चल रही है।

फरीदाबाद तक मेट्रो के एक्सटेंशन को ईजीओएम की मंजूरी थर्ड फेस में मिल चुकी है। हरियाणा सरकार ने अपने हिस्से का बजट भी डीएमआरसी को सौंप दिया है। यह बदरपुर मेट्रो का विस्तार होगा।

डीएमआरसी के अनुसार मुंडका मेट्रो के इस विस्तार के लिए फिलहाल अलाइनमेंट को फाइनल करने का काम चल रहा है। मुंडका कॉरिडोर को टीकरी बॉर्डर के रास्ते घेवरा होते हुए बहादुरगढ़ तक ले जाना है। इसके अलावा यमुना बैंक कॉरिडोर को भी नोएडा सिटी सेंटर से विस्तार देकर नोएडा सेक्टर-32 होते हुए नोएडा सेक्टर 62 तक विस्तार देना है। इसके लिए भी डीएमआरसी स्टडीज में जुटी है। मुकुंदपुर-यमुना विहार कॉरिडोर को तीसरे चरण में शामिल शिव वहार तक ले जाना है। इसके लिए स्टडीज लगभग पूरी हो चुकी हैं। यहां तीन किलोमीटर तक विस्तार मेट्रो को दिया जाएगा।

डीएमआसी के अनुसार ईजीओएम से निर्देश मिलने के साथ ही अब वाईएमसीए चौक ( फरीदाबाद ) के बाद इफको चौक – द्वारका सेक्टर 21, मुंडका से बहादुरगढ़ , नोएडा सिटी सेंटर से नोएडा सेक्टर 62 और यमुना विहार से शिव विहार तक मेट्रो की पूरी रिपोर्ट एक अलग प्रपोजल के रूप में ईजीओएम को मंजूरी के लिए सौंपने की तैयारी चल रही है।

अहम यह है कि इस अलग प्रपोजल को भी डीएमआरसी थर्ड फेस में शामिल करने के लिए ईजीओएम को सौंपेंगी । डीएमआरसी के अनुसार तीसरे चरण का काम 2012 तक शुरू करना है। लिहाजा अब एनसीआर के रूटों की सभी डीपीआर का काम तेजी से चल रहा है और इनमें आगामी दो से तीन महीने में पूरा करने की कोशिश है।

क्या है स्थिति
मुंडका – बहादुरगढ़ वाया टीकरी बॉर्डर

लंबाई : 11 किलोमीटर

स्टेटस – डीपीआर शहरी विकास मंत्रालय और हरियाणा सरकार को अक्टूबर के आखिरी सप्ताह में सौंप दी गई

प्रस्तावित स्टेशन – मुंडका इंडस्ट्रियल एरिया , घेवरा , टीकरी बॉर्डर ( दिल्ली की तरफ ), मुंडका इंडस्ट्रियल एस्टेट , बस स्टैंड , सिटी पार्क ( हरियाणा )

—–

यमुना विहार – शिव विहार

लंबाई – 3 किलोमीटर

स्टेशन – तय होने की प्रक्रिया में

स्टेटस – भौगोलिक सर्वे पूरा कर लिया गया है। रूट की जनरल अलाइनमेंट ड्राइंग तैयार है। जल्द रिपोर्ट सौंपने की तैयारी।

——

द्वारका – नजफगढ़

लंबाई – 5.5 किलोमीटर , पूरी तरह एलिवेटेड

प्रस्तावित स्टेशन – द्वारका , नजफगढ़ डिपो , म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन , नजफगढ़

स्टेटस – डीपीआर बनाई जा चुकी है। कॉपी शहरी विकास मंत्रालय को भेजी जा चुकी है।

—–

बदरपुर – वाईएमसीए चौक

लंबाई -13.875 किलोमीटर

प्रस्तावित स्टेशन – एनएचपीसी चौक , मेवला महाराजपुर , सेक्टर 37 ए , बडकल मोड़ , ओल्ड फरीदाबाद , अजरौंदा , फरीदाबाद न्यू टाउन , वाईएमसीए चौक

स्टेटस – ईजीओएम से मंजूरी मिल चुकी है। हरियाणा सरकार से काम शुरू करने की सहमति मिल चुकी है। एग्रीमेंट इसी महीने साइन होने की उम्मीद है।

—-

द्वारका सेक्टर -21 से इफ्को चौक

लंबाई – 11.63 किलोमीटर

स्टेशन – सेक्टर 23( पालम विहार ), सेक्टर -18 गुड़गांव और इफ्को चौक

स्टेटस – डीपीआर पर काम चल रहा है और इसी महीने हरियाणा सरकार को सौंपने की कोशिश है।

—–

नोएडा सिटी सेंटर – सेक्टर 62

लंबाई – लगभग 8 किलोमीटर

स्टेटस – डीपीआर पर काम चल रहा है

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/10805105.cms

 

New Metro lines connecting more NCR areas

Rumu Banerjee, TNN Nov 8, 2011, 01.56AM IST

NEW DELHI: The NCR concept just got a shot in the arm. In a bid to connect the various parts of Delhi with the neighboring areas of Bahadurgarh, Noida, Gurgaon as well as Faridabad, the Delhi Metro will be going further inside these NCR areas in the third phase of its network. While the detailed project reports (DPR) for the extensions to Gurgaon, Faridabad and Bahadurgarh is ready and have been sent to the ministry of urban development for approval, the alignment for extension to Noida's sector 62 is still under finalization. Work on all the connecting extensions to the NCR areas is expected to be undertaken by 2012, to be part of the Delhi Metro's phase III construction.

With these alignments, the Delhi Metro will be blurring the state lines further and underlining the NCR concept, say officials. Said a spokesperson from the Delhi Metro Rail Corporation, "The empowered group of ministers (EGoM) has directed that the lines (connecting the NCR) may be considered for inclusion in Delhi Metro Phase III and a separate proposal be brought for consideration of the EGoM. We are in the process of finalizing all the alignments at present." The alignments include the extension of the existing Mundka corridor (Mundka-Inderlok) to Bahadurgarh, crossing the Tikri Border via Ghevra. The other line extension is that of the Yamuna Bank corridor to Noida's sector 62 via sector 32. This corridor at present is till Noida City Center. Another line extension – of the new Mukundpur-Yamuna Vihar corridor of Phase III on to Shiv Vihar, an expansion by 3km, will also bring the outskirts of Delhi into closer contact with the central parts.

That's not all. As reported by TOI earlier, the extension of the Dwarka sector 21-Noida City Center line to IFFCO Chowk via Palam Vihar along with the extension of the Badarpur corridor to YMCA Chowk in Faridabad is also on the cards. This is besides the new corridor from Dwarka to Najafgarh, stretching over 13.875km, which has been sent to the ministry of urban development already for approval. Sources in Delhi Metro said that these alignments had been also clubbed with the three new extensions – Bahadurgarh, Noida sector 62 and Shiv Vihar, as a separate proposal for EGoM approval. "The proposal is for inclusion in the Delhi Metro Phase III, which means that work will need to be started by 2012. The DPRs of all these alignments have been put on fast-track," said the Delhi Metro official.

The alignments are in varying stages of planning and finalization, say officials. While the DPR for the Mundka-Bahadurgarh corridor was submitted to the MoUD and the Haryana government in the last week of October, the DPR for the Dwarka-Najafgarh and the Dwarka-IFFCO Chowk (Gurgaon) corridors are ready and have been sent for approval to the government for approval. The Faridabad extension has already gotten the green signal from the EGoM. However, the surveys for alignment finalization for both the Yamuna Vihar-Shiv Vihar as well as the Noida sector 62 lines are still underway. While the report on the former alignment is expected to be submitted by November 15, the DPR for the latter is still to be finished

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2011-11-08/delhi/30373057_1_ymca-chowk-extension-ncr

वाईएमसीए मेट्रो की राह से रोड़ा हटाने की तैयारी
5 Nov 2011, 0400 hrs IST

गूंजेगी सीटी

डीएमआरसी ने मेट्रो के रास्ते में आने वाली तारों और लाइनों को शिफ्ट करने की जिम्मेदारी ली

-अलाइनमेंट के रास्ते में आने वाली गैस पाइपलाइनों को भी किया जाएगा शिफ्ट

-संबंधित विभाग के निर्देश पर डीएमआरसी करेगा शिफ्टिंग का काम

-बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक मेट्रो कॉरीडोर के सिविल वर्क के लिए 400 करोड़ का बजट

एनबीटी न्यूज॥ फरीदाबाद

बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक मेट्रो का काम शुरू करने के लिए डीएमआरसी ने तैयारियां शुरू कर दी है। सेक्टर-12 में हूडा के दफ्तर पर गुरुवार को डीएमआरसी, हूडा, बिजली विभाग और नगर निगम के अधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें मेट्रो अलाइनमेंट के रास्ते में आने वाली बिजली की तारों, सीवर, पानी की पाइपलाइन और गैस लाइनों को शिफ्ट करने पर चर्चा की गई। डीएमआरसी ने खुद इन सभी बाधाओं को रास्ते से हटाने की जिम्मेदारी ली। गौरतलब है कि बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक 13.87 किमी लंबे मेट्रो कॉरिडोर के सिविल वर्क के लिए 400 करोड़ का बजट रखा गया है।

दिल्ली से आते समय नैशनल हाइवे के लेफ्ट साइड में मेट्रो का अलाइनमेंट तय किया गया है। इसमें कई जगहों पर बिजली, टेलीफोन की तारें, सीवर लाइन, पानी की पाइपलाइन और गैस लाइन आदि आ रही है। मेट्रो का निर्माण शुरू होने से पहले इन लाइनों को शिफ्ट करना जरूरी है। मीटिंग में डीएमआरसी अधिकारियों ने संबंधित विभागों के अफसरों के सामने यह विकल्प भी रखा कि यदि वह खुद अपनी लाइनों और तारों को शिफ्ट करना चाहते हैं तो वो कर सकते हैं। इसके लिए डीएमआरसी की तरफ से उन्हें पैसा दे दिया जाएगा, लेकिन बाद में समय बचाने के उद्देश्य से डीएमआरसी ने खुद सभी लाइनों व तारों को शिफ्ट करने की जिम्मेदारी ले ली, जबकि गैस लाइनों को शिफ्ट करने में संबंधित विभाग की मदद ली जाएगी। संबंधित विभाग के अधिकारी डीएमआरसी को निर्देश देंगे कि लाइन को कहां से कहां शिफ्ट करना है? डीटीपी संजीव मान ने बताया कि डीएमआरसी ने खुद सभी लाइनों और तारों को शिफ्ट करने की जिम्मेदारी ली है। इस काम को जल्दी ही पूरा कर लिया जाएगा। इससे मेट्रो का काम भी जल्द शुरू होगा।

कॉरिडोर के लिए खोले टेंडर

जहां एक ओर मेट्रो के रास्ते में आने वाली दिक्कतों को दूर करने की तैयारी की जा रही हैं। वहीं दूसरी तरफ निर्माण कार्य शुरू करने के लिए टेंडर प्रक्रिया भी जारी है। वाईएमसीए तक मेट्रो कॉरिडोर के सिविल वर्क के लिए टेंडर खोल दिए गए हैं। मेट्रो डिपो की चारदीवारी और लैंड लेवलिंग के लिए भी टेंडर खोले गए हैं। डीएमआरसी से प्रवक्ता हिमंाशु ने बताया कि अब केवल टेक्निकल परीक्षण किया जा रहा है। जल्द ही निर्माता कंपनी का चयन कर लिया जाएगा। मेट्रो स्टेशनों के निर्माण के लिए जल्द ही टेंडर आमंत्रित किए जाएं गे।

http://navbharattimes.indiatimes.com/ar … 608938.cms

 

Good News for Greater Faridabad (Naharpar)
सचिन हुड्डा ॥ फरीदाबाद
फरीदाबाद के लोगों के साथ-साथ नहर पार डिवेलप हो रहे ग्रेटर फरीदाबाद के लोगों की भी मेट्रो तक आसानी से पहुंच होगी। ग्रेटर फरीदाबाद को फरीदाबाद से जोड़ने के लिए बाईपास रोड पर 5 अलग-अलग पुल आगरा व गुड़गांव नहर पर बनाए जा रहे हैं। पहले यह पुल सिर्फ ग्रेटर फरीदाबाद को फरीदाबाद से जोड़ने का काम करते, लेकिन हूडा ने एनएच-2 पर बनने वाले मेट्रो स्टेशनों की पोजिशन को ध्यान में रखते हुए इन पुलों की लोकेशन की तलाश की है। इन पुलों के बन जाने के बाद ग्रेटर फरीदाबाद में डिवेलप होने वाले 15 सेक्टरों और दर्जनों हाउसिंग प्रोजेक्टों में रहने वाले लाखों लोगों का मेट्रो स्टेशनों तक पहुंचना आसान हो जाएगा।

जीपीएस से तलाशी गई लोकेशन
आगरा और गुड़गांव नहर पर हूडा ने 6 पुलों से फरीदाबाद से ग्रेटर फरीदाबाद की कनेक्टिविटी की योजना बनाई है। इसके लिए जीपीएस से हूडा ने पुलों की लोकेशन तलाशी है। इन लोकेशंस के हिसाब से एक पुल पहले ही नहर पार डिवेलप कर रही बिल्डर कंपनी आगरा और गुड़गांव नहर पर बना चुकी है। अब हूडा को पांच पुल बनाने हैं। हूडा के अनुसार इन सभी पुलों की लंबाई लगभग 150 मीटर होगी और एक पुल के निर्माण में लगभग 15 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

मेट्रो स्टेशनों की दूरी होगी कम
इन पुलों के बन जाने के बाद जहां ग्रेटर फरीदाबाद से फरीदाबाद की कनेक्टिविटी बेहतर होगी, वहीं ग्रेटर फरीदाबाद में रहने वालों को फरीदाबाद में बनने वाले मेट्रो स्टेशनों तक पहुंचने में आसानी होगी। हूडा ने पुलों का निर्माण करने के लिए फरीदाबाद की तरफ से बाईपास रोड पर मिलने वाली कई मुख्य डिवाइडिंग रोड का चुनाव किया है। ये सभी डिवाइडिंग रोड नैशनल हाइवे पर सभी मुख्य चौराहों पर आकर मिलती हैं जिनके आसपास मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित हैं।

यहां यहां बनेंगे पुल
दिल्ली की तरफ से आते समय सबसे पहले कनेक्टिविटी प्रस्तावित बड़खल मेट्रो स्टेशन के पास होगी। नहर पार के सेक्टर -87 के पास मास्टर रोड से पुल बनाया जाएगा जो फरीदाबाद सेक्टर – 29 और भूड़ कॉलोनी की डिवाइडिंग रोड पर आकर मिलेगा। यह रोड सीधा बड़खल चौक पर आकर मिलता है , जहां मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित है।

दूसरा पुल ग्रेटर फरीदाबाद के सेक्टर 86-87 की डिवाइडिंग रोड से शुरू होकर आगरा और गुड़गांव नहर के ऊपर से बाईपास रोड पर फरीदाबाद में सेक्टर 17 और 18 के डिवाइडिंग रोड पर आकर मिलेगा। यह रोड सीधा ओल्ड फरीदाबाद चौक पर आकर मिलता है , जहां पर मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित है।

इसके बाद एक पुल नहर पार मास्टर रोड को फरीदाबाद से सेक्टर 17 और 14 की डिवाइडिंग रोड को जोड़ेगा। यह रोड सेक्टर 16 ए और 15 ए के पास आकर एनएच पर मिलेगा। यहां से कुछ ही दूरी पर अजरौंदा मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित है। सेक्टर 14 और 13 की डिवाइडिंग रोड पर पहले ही एक पुल बना हुआ है जो ग्रेटर फरीदाबाद में जाकर मिलता है। यह पुल नैशनल हाइवे पर सेक्टर 12 के पास आकर मिलता है। जहां से न्यू टाउन ( बाटा ) और अजरौंदा मेट्रो स्टेशनों की दूरी काफी कम रह जाएगी।

एक पुल ग्रेटर फरीदाबाद से सेक्टर 75 और 80 की डिवाइडिंग रोड पर मास्टर रोड को बाईपास पर फरीदाबाद से सेक्टर 8 और 9 की डिवाइडिंग रोड पर जोड़ेगा। यह रोड सीधा नैशनल हाइवे के वाईएमसीए चौक पर आकर मिलेगा जहां पर मेट्रो का अंतिम स्टेशन प्रस्तावित है।

अंतिम पुल ग्रेटर फरीदाबाद के सेक्टर -74 और 75 की डिवाइडिंग रोड को फरीदाबाद के सेक्टर 8 और 3 की डिवाइडिंग रोड से जोड़ेगा। यह रोड सीधा नैशनल हाइवे पर गुडइयर चौक पर मिलता है। यहां से वाईएमसीए मेट्रो स्टेशन की दूरी काफी कम हैै।

जल्द शुरू होगा काम
हूडा प्रशासक अजित बालाजी जोशी का कहना है कि ग्रेटर फरीदाबाद जल्द ही डिवेलप हो जाएगा और यह फरीदाबाद का काफी विकसित क्षेत्र होगा। इसलिए यहां के लोगों को भी बेहतर सुविधाएं मिलनी चाहिए। इसे ध्यान में रखते हुए हमने पुलों के लिए ऐसी लोकेशन तलाशी है . जहां से फरीदाबाद से तो ग्रेटर फरीदाबाद की कनेक्टिविटी बेहतर हो सके , साथ में मेट्रो स्टेशनों से भी ग्रेटर फरीदाबाद सीधा कनेक्ट हो सके। जिन चौराहों पर से पुल आकर मिलेंगे , उन सभी चौराहों के आसपास ही मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित हैं। इससे लोगों को काफी सहूलियत होगी। उन्होंने बताया कि पुलों का बजट तैयार किया जा रहा है। बजट को मंजूरी मिलने के बाद जल्द की इनके निर्माण का काम शुरू कर दिया जाएगा।

अनुमानित दूरी
बड़खल चौक से बाईपास रोड की अनुमानित दूरी लगभग डेढ़ किमी

ओल्ड फरीदाबाद से बाईपास की अनुमानित दूरी लगभग डेढ़ किमी

सेक्टर 16- ए पर बने चौराहे से बाईपास रोड की दूरी लगभग डेढ़ किमी

सेक्टर -12 के पास बने चौराहे से बाईपास रोड की दूरी लगभग डेढ़ किमी

बाईएमसीए चौक से बाईपास रोड की दूरी लगभग पौने दो किमी

गुडईयर चौक से बाईपास रोड की अनुमानित दूरी लगभग ढाई कि मी

 

http://navbharattimes.indiatimes.com/de … 404011.cms

मेट्रो ः ओएचई डिजाइन को टेंडर अगले माह

Story Update : Wednesday, October 12, 2011    12:01 AM

 

फरीदाबाद। मेट्रो प्रोजेक्ट के थर्ड फेस पर काम शुरू करने को लेकर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने तैयारियां तेज कर दी हैं। कॉरिडोर के सिविल वर्क्स के साथ-साथ बिजली के बंदोबस्त पर काम शुरू हो गया है, जिसके तहत डीएमआरसी अब ओएचई (ओवर हेड इक्यूपमेंट) सिस्टम का डिजाइन तैयार करने के लिए टेंडर जल्द आमंत्रित करने जा रहा है। तीन नवंबर को टेंडर खोले जाएंगे।
थर्ड फेस के तहत दो लॉट में ओएचई का डिजाइन तैयार किया जाएगा। पहले लॉट में जनकपुरी-बादली कॉरिडोर, मंडी हाउस से कश्मीरी गेट और मुकुंदपुर से यमुना विहार कॉरिडोर पर ओएचई का डिजाइन तैयार किया जाएगा, जबकि दूसरे लॉट में जनकपुरी-कालिंदी कुंज-बोटेनिकल गार्डन और बदरपुर-वाईएमसीए कॉरिडोर के लिए ओएचई सिस्टम का डिजाइन तैयार किया जाएगा। डिजाइन तैयार करने के लिए टेंडर आमंत्रित कर दिए गए हैं। डीएमआरसी प्रवक्ता के मुताबिक, थर्ड फेस के ओएचई सिस्टम का डिजाइन तैयार करने के लिए ४२ सप्ताह का समय कांट्रेक्टर को दिया जाएगा।
२५ केवी लाइन से मेट्रो को बिजली सप्लाई की जाएगी। कहां-कहां २२०/६६/३३ केवी के सबस्टेशन बनाए जा सकेंगे, कहां-कहां एचटी (हाई टेंशन) और एलटी (लॉ टेंशन) लाइनों का प्रयोग किया जाएगा, इसका गहन अध्ययन कर डिजाइन तैयार किया जाएगा। मेट्रो के लिए डीएमआरसी अपने सबस्टेशन स्थापित करेगा, लेकिन सबस्टेशनों को बिजली सप्लाई हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम (एचवीपीएन) द्वारा की जाएगी। एचवीपीएन अपने पल्ला और ईदगाह सबस्टेशन से डीएमआरसी को लिंक देकर सप्लाई देगा।

http://www.amarujala.com/city/Faridabad/Faridabad-14694-139.html

 

 

NEW DELHI, October 10, 2011

Elevated metro corridor to Faridabad coming up

Staff Reporter

The Delhi Metro will extend up to neighbouring Faridabad during Phase-III of its construction through a completely elevated corridor covering about 14 km. The route will be an extension of the existing Line 6 (Central Secretariat-Badarpur corridor) and will be built on standard guage.

Haryana-Delhi project

“The Faridabad corridor will have a total of nine stations — Sarai, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector 27-A, Badkal More, Faridabad (Old), Ajronda, Faridabad (New Town) and YMCA Chowk,” said a Delhi Metro Rail Corporation spokesperson.

The proposal to extend the metro to Faridabad got the Central Government approval in August. The total cost of the project will be Rs.2,533 crore, with 80 per cent funding being provided by the Haryana Government and remaining 20 per cent by the Delhi Government.

“The land for the project will be provided by the Haryana Government, and the Centre and the Haryana Government will bear the taxes in 80:20 ratio respectively,” added the spokesperson. The project will be exempt from State taxes.

The depot will come up near Faridabad Sector 20-A and the receiving sub-station will be located at Sarai.

The Faridabad link will prove to be an important link for the Delhi Metro, with its daily ridership expected to go up to around 1.79 lakh.

http://www.thehindu.com/news/cities/Delhi/article2525063.ece

कम होगी दिल्ली और फरीदाबाद की दूरी

3 Oct 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

फरीदाबाद।। नैशनल हाइवे पर ट्रैफिक का दबाव कम करने और ग्रेटर फरीदाबाद की दिल्ली और नोएडा से बेहतर कनेक्टिविटी के लिए हूडा ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। इन्हीं प्रयासों के तहत 14 अक्टूबर को हूडा अधिकारी यूपी के अधिकारियों के साथ मीटिंग करेंगे। इसमें आगरा नहर के साथ बन रहे कालिंदी बाईपास को फोर लेन बनाने और नोएडा व फरीदाबाद को जोड़ने के लिए यमुना पर बनने वाले पुलों के विषय पर चर्चा की जाएगी।

आगरा नहर के एक तरफ बाईपास रोड का निर्माण किया जा रहा है। वहीं कालिंदी कुंज से फरीदाबाद होते से पलवल तक जाने वाले 42 किलोमीटर लंबे बाईपास बनाने की योजना लगभग 10 साल पहले बनाई गई थी। कालिंदी कुंज से पल्ला तक करीब 14 किलोमीटर लंबी सड़क दिल्ली सरकार को बनानी है, इससे आगे पलवल तक सड़क बनाने के लिए हरियाणा सरकार को खर्च करना है।

आगरा नहर के दोनों तरफ यूपी वन विभाग और सिंचाई विभाग की जमीन है। फिलहाल यूपी की जमीन पर आगरा नहर के साथ फरीदाबाद की सीमा में पलवल से लेकर चंदावली तक सिंगल रोड का निर्माण किया गया है। यह रोड भी काफी पहले बनी हुई है इसलिए यह बिल्कुल टूट चुकी है। अब टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग ने इस सड़क को फोर लेन करने का प्रस्ताव उच्च अधिकारियों के सामने रखा है। लेकिन इसके लिए यूपी के अधिकारियों से सड़क बनाने की मंजूरी लेना जरूरी है। इसलिए 14 अक्टूबर को हूडा अधिकारियों ने यूपी के अधिकारियों के साथ मीटिंग फिक्स की है, जिसमें इस मुद्दे पर बातचीत की जाएगी।

वहीं दूसरी तरफ नोएडा और फरीदाबाद को जोड़ने के लिए यमुना पर दो पुल बनाए जाने हैं। यूपी के अधिकारियों ने इन पुलों को अपने मास्टरप्लान 2031 में शामिल किया हुआ है। लेकिन फरीदाबाद की तरफ से इन पुलों की लोकेशन साफ नहीं है, जिसके चलते इन पुलों पर कोई लंबी चर्चा नहीं हो पाई है। लेकिन 14 अक्टूबर पुलों की लोकेशन पर भी चर्चा की जाएगी। हूडा प्रशासक अजित बालाजी जोशी ने बताया कि हम जल्द ही ग्रेटर फरीदाबाद को डिवेलपमेंट का काम शुरू करने जा रहे हैं। इसलिए ग्रेटर फरीदाबाद की दिल्ली, फरीदाबाद, नोएडा आदि शहरों के बेहतर कनेक्टिविटी के लिए रास्ते खोजना शुरू कर दिया है। इसलिए इस मीटिंग में कनेक्टिविटी के अहम मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/10208794.cms

मेट्रो स्टेशनों और साइटों का किया दौरा

30 Sep 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

सचिन हुड्डा
फरीदाबाद।। डीएमआरसी की इंजीनियरिंग और आर्किटेक्ट टीम ने बुधवार को फरीदाबाद में स्टेशनों की साइटों का दौरा किया। मेट्रो कंस्ट्रक्शन के समय एनएचएआई और डीएमआरसी में तालमेल बैठाने के लिए तालमेल कमिटी का भी गठन किया गया है। उधर , खबर है कि हूडा डीएमआरसी को नवंबर के अंत तक जमीन उपलब्ध करवा देगा।

तालमेल कमिटी का हुआ गठन
फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के नोडल ऑफिसर और हूडा प्रशासक अजित बालाजी जोशी ने बताया कि फरीदाबाद में मेट्रो और एनएचएआई सिक्स लेन का काम एक साथ शुरू होगा। काम के दौरान असुविधा न हो , इसलिए फाइनेंस कमिश्नर ने आदेश दिया था कि एक तालमेल कमिटी का गठन किया जाए। लिहाजा चार लोगों की इस कमिटी में एनएचएआई , डीएमआरसी और हूडा के सीनियर अधिकारियों को शामिल किया गया है। प्रदेश सरकार के पास कमिटी का ब्यौरा तैयार कर भेजा गया है।

आर्किटेक्ट टीम ने किया दौरा
स्टेशनों का डिजाइन तैयार करने के लिए बुधवार को डीएमआरसी की इंजीनियरिंग टीम और आर्किटेक्ट टीम ने फरीदाबाद मेट्रो साइट का दौरा किया। फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर ए . के . गुप्ता ने बताया कि मेट्रो के अलाइनमेंट में क्या – क्या दिक्कतें आ सकती हैं , कॉरिडोर के निर्माण के दौरान हाइवे इस्तेमाल करने वालों को कोई परेशानी न हो , इसका निरीक्षण किया गया। डीएमआरसी के अधिकारियों ने सराय ख्वाजा स्टेशन साइट , एनएचपीसी चौक ओल्ड फरीदाबाद और अजरौंदा चौक पहुंचकर स्टेशन व मेट्रो अलाइनमेंट साइट को देखा।

अक्टूबर के मध्य तक जारी होंगे टेंडर
फरीदाबाद मेट्रो लाइन के सिविल वर्क के लिए 400 करोड़ के टेंडर आमंत्रित किए हैं। इस पैसे से मेट्रो का पुल बनाया जाएगा। पुल के लिए 18 अक्टूबर को टेंडर छोड़ा जाएगा। जिसे टेंडर मिलेगा , उस कंपनी को 20 महीने में काम पूरा करना होगा। इससे पहले डिपो साइट के लिए टेंडर खोला जाएगा। सेक्टर -20 ए में 50 एकड़ जमीन पर डिपो साइट का निर्माण होना है। इसकी चारदीवारी और मिट्टी की लेवलिंग के लिए 23 करोड़ के टंेडर मांगे गए हैं। 4 अक्टूबर को टेंडर छोड़े जाएंगे। कंपनी को यह काम एक साल में करना होगा। ए . के . गुप्ता ने बताया कि टेंडर जारी होने के बाद जल्द काम शुरू हो जाएगा। टेंडर जारी होने तक एमओयू भी मिल जाएगा।
http://navbharattimes.indiatimes.com/de … 172664.cms

तैयार किए जा रहे मेट्रो स्टेशन के डिजाइन

24 Sep 2011, 0400 hrs IST

डीएमआरसी ने बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक एलीवेटिड मेट्रो लाइन के लिए स्टेशनों का डिजाइन तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। डीएमआरसी अधिकारियों के अनुसार अगले 15 दिनों में स्टेशनों का डिजाइन तैयार कर लिया जाएगा। उम्मीद है कि तब तक मेट्रो के लिए हरियाणा सरकार से एमओयू भी मिल जाएगा, जिसके बाद पैसा जारी हो जाएगा और निर्माण कार्य तेजी से शुरू किया जा सकेगा।

फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर ए. के. गुप्ता ने बताया कि हमने हूडा को स्टेशनों के लिए जमीन ट्रांसफर करने के लिए बोल दिया है, इसके साथ ही मेट्रो स्टेशनों के लिए डिजाइन तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि 15 दिनों में सभी स्टेशनों का डिजाइन पूरा कर लिया जाएगा, जिसके बाद स्टेशनों के निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। साथ ही हूडा ने भी स्टेशनों के लिए जमीन एक्वायर करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/ar … 093762.cms

मेट्रो स्टेशन के मिट्टी परीक्षण का कार्य पूरा

Sep 24, 05:13 pm

बदरपुर से वाइएमसीए तक बनने वाले नौ मेट्रो स्टेशनों से डीएमआरसी ने मिट्टी के नमूने ले लिए हैं। अब इन नमूनों को जांच के लिए दिल्ली स्थित एक प्रयोगशाला में भेजा जाएगा। इसके बाद मेट्रो रेल के पिलर का भार व क्षमता तय की जाएगी। उसके बाद मेट्रो स्टेशनों के डिजाइन तैयार किए जाएंगे।

गौरतलब है कि अगस्त की शुरुआत में डीएमआरसी ने मिट्टी परीक्षण का काम फरीदाबाद की ओर आते हुए सराय ख्वाजा पर दाई तरफ और अन्य स्टेशनों के लिए बाई तरफ शुरू किया था। सभी स्टेशनों के स्थल से मिट्टी के नमूने लेने के लिए विभाग के पास करीब एक महीने का समय था, लेकिन बरसात के कारण काम लंबित होता गया। कुछ दिनों पहले मिट्टी परीक्षण के स्थल से डीएमआरसी का सामान भी चोरी हो गया था, जिस कारण काम करीब तीन-चार दिन रुका रहा। अब यह कार्य पूरा कर लिया गया है। विभाग ने नौ स्टेशनों से कुल 27 नमूने लिए हैं। इससे पहले विभाग मेट्रो की अलाइनमेंट और डिपो के लिए मिट्टी परीक्षण का काम कर चुका है। यह मेट्रो स्टेशन सराय ख्वाजा, एनएचपीसी चौक, मेवला महाराजपुर, सेक्टर 27ए, बड़खल चौक, ओल्ड फरीदाबाद, अजरौंदा, फरीदाबाद न्यू टाउन और वाइएमसीए चौक पर बनने हैं। बता दें कि 4 अक्टूबर को मेट्रो डिपो और 18 अक्टूबर को मेट्रो पुलों के टेंडर खोल दिए जाएंगे, जिसमें इनका निर्माण करने वाली कंपनी का नाम तय हो जाएगा।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/h … 60742.html

HUDA to give DMRC 12 acres for Badarpur-Faridabad link

Prabhu Razdan, Hindustan Times
Faridabad, September 18, 2011

The Haryana Urban Development Authority has decided to hand over about 12 acres of land in Faridabad to set up Metro stations for the Badarpur-YMCA chowk link to the DMRC. The decision was taken at a meeting between senior officials of DMRC and HUDA late Friday evening. Nine metro

stations will be constructed on this line in Faridabad.

“The decision is being forwarded to the state government for final approval and once that is done, the MoU between DMRC and HUDA will be signed,” Ajit Balaji Joshi, administrator HUDA, Faridabad, said.

“We have lined up another meeting with the DMRC next week. All these efforts are being made to ensure speedy work on the Metro link, which is likely to begin very soon,” Joshi added.

The National Highway Authority of India (NHAI) has already cleared the fresh alignment of the Metro link from left side of NH 2 from Badarpur, as proposed by the DMRC. “Now our next step is to start tendering the process,” said a senior DMRC official.

The DMRC had changed the alignment a few months ago. According to the earlier plan, the Metro would have run in the middle of the National Highway. This proposal had been rejected by the DMRC on the grounds that the widening of the highway will be badly affected.

A technical team of DMRC had then proposed alignment from left side of the highway. This proposal had been pending with the NHAI since some months. The 13.8km-long Metro line to Faridabad will be elevated with nine stations including Sarai, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector 27A, Badkal Mor, old Faridabad, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

http://www.hindustantimes.com/HUDA-to-give-DMRC-12-acres-for-Badarpur-Faridabad-link/Article1-747110.aspx

 

मेट्रो निर्माण की स्पीड पर लग सकता है ब्रेक
फरीदाबाद, जागरण संवाद केंद्र :

राज्य सरकार ने मेट्रो रेल के लिए तैयार मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर शीघ्र हस्ताक्षर नहीं किए तो मेट्रो निर्माण की स्पीड पर ब्रेक लग सकते हैं।

यूं तो डीएमआरसी के अधिकारी फरीदाबाद मेट्रो रेल योजना की टेंडर प्रक्रिया और भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया में तेजी दिखा रहे हों, मगर एमओयू पर हस्ताक्षर में देरी ने उनकी भी नींद उड़ा दी है।

एक महीना बीत जाने के बाद भी राज्य सरकार की ओर से एमओयू पर हस्ताक्षर नहीं किए गए हैं। जब तक यह हस्ताक्षर नहीं हो जाते तब तक इस योजना का बजट डीएमआरसी को नहीं मिलेगा। नतीजन विभाग को टेंडर की प्रक्रिया विलंबित करनी पड़ेगी।

गौरतलब है कि डीएमआरसी ने मेट्रो यार्ड, स्टेशन व अलाइनमेंट के लिए टेंडर अक्टूबर में रखे हैं। हालांकि तिथि अभी तय होनी बाकी है, लेकिन विभाग इस टेंडर प्रक्रिया के लिए जोरशोर से तैयारी कर रहा है। लेकिन टेंडर की प्रक्रिया तभी पूरी हो पाएगी जब डीएमआरसी के पास राज्य व केंद्रीय सरकार की तरफ से तय की गई निर्माण राशि पहुंच जाए। बता दें कि 2533 करोड़ रुपये के बजट में से 80 प्रतिशत हिस्सा हरियाणा सरकार और 20 प्रतिशत हिस्सा केंद्रीय सरकार को देना है। पिछले माह केंद्र सरकार के मंत्रियों के समूह से मिली अनुमति भी डीएमआरसी को मिल गई थी। सूत्रों ने बताया कि इस अनुमति के इंतजार में ही राज्य सरकार ने एमओयू पर हस्ताक्षर नहीं किए थे। सरकार के अधिकारियों का कहना था कि मंत्रियों के समूह से अनुमति मिलने के बाद ही इस एमओयू पर हस्ताक्षर होंगे। वहीं दूसरी ओर पिछले शुक्रवार को हुई संयुक्त निरीक्षण कमेटी ने स्टेशनों के डिजाइन को मंजूरी दे दी। साथ में नोडल अधिकारी ने भूमि अर्जन अधिकारी को मेट्रो स्टेशन और अलाइनमेंट की भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया शुरू करने के भी आदेश दे दिए। इस बाबत डीएमआरसी के वरिष्ठ योजना निदेशक कुमार केशव ने बताया कि सरकार को इस बारे में दोबारा याद दिलाने के लिए पत्र लिखे गए हैं। उम्मीद है कि जल्द एमओयू पर हस्ताक्षर हो जाएंगे, जिसके बाद इस योजना की निर्माण राशि विभाग को सौंप दी जाएगी। डीएमआरसी की प्रवक्ता संध्या शर्मा ने बताया कि जब तक एमओयू पर हस्ताक्षर नहीं हो जाते तब तक इस योजना का बजट विभाग को नहीं मिलेगा। यदि बजट समय पर नहीं आया तो टेंडर की प्रक्रिया विलंबित करनी पड़ सकती है।

मेट्रो के लिए 11.17 एकड़ जमीन होगी एक्वायर

17 Sep 2011, 0400 hrs IST

एनबीटी न्यूज ॥ फरीदाबाद

बदरपुर से वाईएमसीए तक आने वाली मेट्रो के लिए शुक्रवार को हूडा कार्यालय में मीटिंग हुई। इसमें मेट्रो के प्रस्तावित स्टेशनों और पार्किंग के लिए जमीन एक्वायर करने को मंजूरी दे दी गई। इसका प्रपोजल उच्च अधिकारियों के पास भेजा गया है। वहां से मंजूरी मिलते ही अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। हूडा प्रशासक का कहना है कि हमारा प्रयास है कि जल्द स्टेशनों के लिए जमीन एक्वायर कर डीएमआरसी को सौंप दें। डीटीपी संजीव मान के अनुसार मेट्रो के स्टेशनों के लिए साढ़े 23 एकड़ जमीन की जरूरत होगी। इसमें से 12.33 एकड़ जमीन सरकारी है , जो हूडा की अपनी है। बची हुई 11.17 एकड़ उसे एक्वायर करनी पड़ेगी। उन्होंने बताया कि मेट्रो स्टेशनों पर पार्किंग की कोई दिक्कत न हो , इसलिए हाइवे के दोनों तरफ पार्किंग होगी। इसके लिए एक एकड़ जमीन की जरूरत पड़ेगी।

हूडा प्रशासक और फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के नोडल ऑफिसर अजित बालाजी जोशी ने बताया कि शुक्रवार को हुई मीटिंग में सभी स्टेशनों की लोकेशन और एक्वायर होने वाली जमीन पर सहमति बना ली गई है। उच्च अधिकारियों से भी जल्द इसे मंजूरी मिल जाएगी। उसके तुरंत बाद हम जमीन एक्वायर कर डीएमआरसी को हैंडओवर कर देंगे। शुक्रवार को हुई मीटिंग में डीटीपी संजीव मान , एसटीपी गीता प्रकाश , एसई हूडा टीडी चौपड़ा , एस्टेट ऑफिसर बीएस कालीरमण , फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर ए के गुप्ता के साथ डीएमआरसी के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

किस स्टशेन पर करनी पड़ेगी कितनी जमीन एजयर

स्टेशन जमीन एकड़ में

सराय वाजा 3.44

एनएचपीसी चौक 1.07

मेवला महाराज पुर 1.68

सेक्टर 27 ए 0.55

बड़खल 0.74

ओल्ड फरीदाबाद 0.05

अजरौंदा 1.20

बाटा ( न्यू टाउन ) 000

वाईएमसीए 2.44

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/10008792.cms

मेट्रो के लिए जमीन अधिग्रहण पर मीटिंग आज
16 Sep 2011, 0400 hrs IST

एनबीटी न्यूज ॥ फरीदाबाद

बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक आने वाली मेट्रो लाइन के लिए डीएमआरसी को जमीन उपलब्ध कराने का काम हूडा का है। जमीन ट्रांसफर के लिए डीएमआरसी लगातार हूडा अफसरों पर दबाव बना रही है। इसी मुद्दे पर हूडा कार्यालय सेक्टर -12 में शुक्रवार यानी आज दोनों विभागों की मीटिंग होगी। हूडा प्रशासक अजित बालाजी जोशी का कहना है कि मीटिंग में निर्णय किया जाएगा कि कितनी जमीन एक्वायर होनी है और कब तक डीएमआरसी को सौंपनी है। हमारा प्रयास है कि हम जल्द से जल्द जमीन डीएमआरसी को ट्रांसफर कर दें , ताकि मेट्रो के कंस्ट्रक्शन का काम शुरू हो जाए।

फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए हूडा प्रशासक को मेट्रो का नोडल अफसर बनाया गया है। डीएमआरसी ने हूडा से डिपो साइट के अलावा , मेट्रो स्टेशनों , स्टाफ क्वॉर्टरों , कंस्ट्रक्शन का काम करने और कमर्शल यूज के लिए जमीन मांगी है। डीएमआरसी अधिकारियों के अनुसार 50 एकड़ जमीन में डिपो साइट का निर्माण होना है , ढाई एकड़ जमीन में स्टाफ क्वॉर्टर डिवेलप होंगे। 18 एकड़ जमीन मेट्रो कंस्ट्रक्शन से संबंधित सामान को रखने के लिए चाहिए , जिसे डीएमआरसी 4 साल बाद हूडा को वापस कर देगा। इसके साथ ही 10 एकड़ जमीन कमर्शल यूज के लिए और लगभग साढ़े 13 एकड़ जमीन स्टेशनों के लिए हूडा से मांगी गई है। इन जमीनों में ज्यादातर हूडा की अपनी है। स्टेशनों की जमीन में कुछ जमीन उसे एक्वायर करनी है। इसी मुद्दे पर शुक्रवार को मीटिंग होगी।
http://navbharattimes.indiatimes.com/de … 995380.cms
DMRC fast-tracks surveys for Phase-III

4 Sep, 2011, 01.43PM IST, PTI

NEW DELHI: Having received the Centre's approval for its Phase-III, Delhi Metro is fast-tracking conduct of preliminary surveys on the proposed corridors and has floated tenders for a few of them, including the one that will connect the capital with its satellite city of Faridabad.

Delhi Metro has begun civil construction on the Central Secretariat-Mandi House section of the Central Secretariat- Kashmere Gate corridor, permission for which was granted by the Centre well before the Phase-III was approved.

Tenders have been floated for construction of Mandi House-Jama Masjid section, which is completely underground and Badarpur-Faridabad corridor.

A DMRC spokesman said tenders have also been opened for construction of a third bridge on river Yamuna near Hazrat Nizamuddin on the Mukundpur-Yamuna Vihar corridor.

"Civil work is expected to commence on most of the corridors by the end of the year, while Tunnel Boring Machines (TBMs) are expected to be lowered on the Central Secretariat- Mandi House corridor by November," a DMRC spokesman told PTI.

"For the rest of the corridors, soil survey, geo-technical investigations, utility diversion tests are being done currently," the spokesman said.

Tender documents are being prepared for awarding the civil contracts and as part of its preliminary work, Delhi Metro has already completed staff allocation for the Phase-III project and has also appointed project directors, officials said.

Decks for the implementation of the Phase-III was cleared when the EGoM cleared the project bringing comfort to a number of unconnected areas and the busy Ring Road.

The Empowered Group of Ministers on Urban Infrastructure had on August 9 cleared the proposal at a cost of Rs 35,242 crore including Central taxes.

http://economictimes.indiatimes.com/news/news-by-industry/transportation/railways/dmrc-fast-tracks-surveys-for-phase-iii/articleshow/9858696.cms

अक्तूबर से शुरू होगा मेट्रो डिपो का काम

4 Sep 11

डीएमआरसी ने साइट के लिए 28 करोड़ का पहला टेंडर मांगा

फरीदाबाद। शहर की सबसे बड़ी परियोजना की एक और बाधा दूर हो गई है। अक्तूबर माह में बदरपुर-वाईएमसीए मेट्रो कॉरिडोर के लिए प्रस्तावित डिपो साइट पर काम शुरू हो जाएगा। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) अक्तूबर के पहले सप्ताह में इसका टेंडर खोलने जा रहा है। डिपो साइट के पहले टेंडर की अनुमानित लागत 28 करोड़ रुपये है।

मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के लिए डिपो साइट का चयन करने में डीएमआरसी और हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (हुडा) को कम मशक्कत नहीं करनी पड़ी है। सेक्टर-20 ए में डीएमआरसी ने डिपो के लिए स्थान सुनिश्चित पहले ही कर लिया था, लेकिन लगातार लोगों के विरोध के कारण हुडा ने कई बार डीएमआरसी को स्थान बदलने का सुझाव दिया। लंबी उठापटक के बाद 20 ए की जमीन डीएमआरसी को सौंपने का फैसला हुडा ने लिया। इस सेक्टर की 60 एकड़ से ज्यादा भूमि पर डिपो बनाया जाएगा। मेट्रो डिपो बनाने के लिए हरियाणा की तरफ से मंजूरी मिल चुकी है। डिपो के लिए सात स्थानों से मिट्टी के नमूने लेकर प्रयोगशाला भेजे जा चके हैं।

अब मेट्रो डिपो साइट पर निर्माण के लिए पहला टेंडर जारी कर डीएमआरसी ने सबसे बड़ा कदम उठाया है। डीएमआरसी के एक प्रवक्ता ने बताया कि चार अक्तूबर को टेंडर खोले जाएंगे और 25 अक्तूबर के आसपास से साइट पर कंस्ट्रक्शन शुरू करने की पूरी कोशिश होगी। मेट्रो डिपो की चारदीवारी और भूमि विकास का काम सबसे पहले किया जाएगा। इस पर अनुमानित लागत 28 करोड़ रुपये है। 12 महीने के अंदर इस काम को पूरा करने का लक्ष्य कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया जाएगा। भूमि स्थानांतरण के मसले पर जिला नगर योजनाकार संजीव मान का कहना है कि डिपो साइट के लिए सबसे पहले भूमि स्थानांतरित की जा रही है। इसकी सभी औपचारिकताएं पूरी हो गई हैं। ब्यूरो

http://epaper.amarujala.com/svww_zoomart.php?Artname=20110904a_002103005&ileft=690&itop=146&zoomRatio=276&AN=20110904a_002103005

Metro Ph-III surveys on fast track

NEW DELHI: Having received the Centre's nod for Phase-III, Delhi Metro is fast-tracking preliminary surveys on proposed corridors and has floated tenders for a few of them, including one that will connect the capital with Faridabad.

Delhi Metro has begun civil construction on the Central Secretariat-Mandi House section of the Central Secretariat-Kashmere Gate corridor, permission for which was granted by the Centre well before Phase-III was approved.

Tenders have been floated for construction of Mandi House-Jama Masjid section, which is completely underground and Badarpur-Faridabad corridor.

A DMRC spokesman said tenders have also been opened for construction of a third bridge on the river Yamuna near Hazrat Nizamuddin on the Mukundpur-Yamuna Vihar corridor.

http://timesofindia.indiatimes.com/city … 865584.cms

 

मेट्रो डिपो के लिए इनवाइट किए टेंडर
3 Sep 2011, 0400 hrs IST

एनबीटी न्यूज।। फरीदाबाद : बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक आने वाली मेट्रो का काम शुरू करने के लिए डीएमआरसी ने धीरे-धीरे अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। जहां एक तरफ मेट्रो लाइन के कंस्ट्रक्शन के लिए टेंडर इनवाइटिंग की प्रक्रिया चल रही है। वहीं डीएमआरसी डिपो व स्टेशनों की साइटों के लिए टेंडर इनवाइट करने शुरू कर दिए हैं। डिपो साइट को डिवेलप करने के लिए डीएमआरसी ने एनआईटी (नोटिस इनवाइटिंग टेंडर) जारी कर दिए हैं। पहले चरण में केवल डिपो की चारदीवारी और जमीन को लेवलिंग करने के लिए टेंडर इनवाइट किया गया है। सेक्टर-20ए में 50 एकड़ जमीन पर बनने वाली मेट्रो डिपो साइट की चारदीवारी करने और जमीन की लेविलिंग आदि करने के लिए 23 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है। इसके लिए अगले महीने की 4 तारीख को बिड की जानी है। कंस्ट्रक्शन का काम करने वाली कंपनी को 12 महीनों में काम पूरा करके देना होगा। डीएमआरसी के प्रवक्ता हिमांशु ने बताया कि डिपो की चारदीवारी के लिए टेंडर इनवाइट कर लिए गए हैं, जल्द ही दूसरे कामों के लिए भी टेंडर इनवाइट किए जाएंगे।

http://navbharattimes.indiatimes.com/ar … 839499.cms

 

 

जमीन अक्वायर करने के लिए प्रपोजल तैयार

2 Sep 2011, 0400 hrs IST

फरीदाबाद।। शहर में मेट्रो का काम जल्द से जल्द शुरू करने के लिए डीएमआरसी ने अपनी तरफ से तैयारियां पूरी करते हुए नोटिस इनवाइटिंग टेंडर जारी कर दिया है, वहीं हूडा ने भी जल्द से जल्द डीएमआरसी को स्टेशनों और डिपो साइट हैंडओवर करने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। हूडा अधिकारियों ने स्टेशनों की जगहों के लिए एक्वायर की जाने वाली जमीन के लिए प्रपोजल तैयार कर उच्च अधिकारियों को भेज दिया है। डीटीपी संजीव मान ने बताया कि जमीन अक्वायर करने के लिए हमने प्रपोजल तैयार कर सीटीपी को भेज दिया है। वहां से जल्द ही प्रपोजल उच्च अधिकारियों को भेज दिया जाएगा।

अलग-अलग होगा स्टेशनों का साइज
बदरपुर बार्डर से वाईएमसीए तक आने वाली मेट्रो के लिए नैशनल हाइवे के साथ 9 स्टेशन बनाए जाने हैं। शुरू में डीएमआरसी और हूडा अधिकारियों का कहना था कि फरीदाबाद में मेट्रो स्टेशनों का साइज 220 वाई 35 मीटर बनना है लेकिन मेट्रो स्टेशनों के आसपास लगभग 13 निर्माण ऐसे आ रहे हैं, जो स्टेशनों के निर्माण में बाधा बन रहे हैं। इसलिए स्टेशनों के साइज में बदलाव किया जाएगा। डीटीपी संजीव मान ने बताया कि कुछ निर्माणों को बचाते हुए साइजों में बदलाव किया जाएगा। मेट्रो स्टेशनों की लंबाई-चौड़ाई घटाई-बढ़ाई जा सकती है। वैसे तो स्टेशनों की लंबाई 220 मीटर और चौड़ाई 35 मीटर होनी थी। लेकिन अब कोई स्टेशन 200 वाई 40 मीटर या उससे अलग तरीके से डिवेलप किए जाएंगे।

http://navbharattimes.indiatimes.com/de … 826055.cms

मेट्रो प्रोजेक्ट का टेंडर स्थगित

Story Update : Thursday, September 01, 2011 12:01 AM

फरीदाबाद। बदरपुर-वाईएमसीए मेट्रो प्रोजेक्ट को जोर का झटका लगा है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने प्रोजेक्ट के सिविल वर्क्स का टेंडर कुछ समय के लिए स्थगित कर दिया है। नोटिस इनवाइटिंग टेंडर (एनआईटी) में जरूरी बदलाव के मद्देनजर डीएमआरसी ने यह कदम उठाया है। हालांकि अधिकारियों का दावा है कि प्रोजेक्ट पर काम शुरू होने में कोई देरी नहीं होगी।
बदरपुर-वाईएमसीए तक १३.८७५ किलोमीटर लंबे एलीवेटेड कॉरीडोर के लिए चार दिन पहले ही डीएमआरसी ने सिविल वर्क्स का टेंडर आमंत्रित किया था, जिसके तहत टेंडर खोले जाने की तिथि तीन अक्तूबर सुनिश्चित की गई थी, लेकिन एनआईटी में बदलाव की गुंजाइश जरूरी समझते हुए टेंडर अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। डीएमआरसी के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एनआईटी में बहुत मामूली बदलाव किया जाना है। इस बदलाव का प्रोजेक्ट के सिविल वर्क्स की अनुमानित लागत और डेडलाइन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। केवल डिजाइन में हल्का सा बदलाव किया गया है।
आपको बता दें कि डीएमआरसी ने एनआईटी में इस प्रोजेक्ट के सिविल वर्क्स के लिए ३३० करोड़ की अनुमानित लागत तय की थी और इस काम को पूरा करने के लिए २० माह का लक्ष्य कंस्ट्रक्शन कंपनी को देने का प्रावधान किया था। डीएमआरसी के एक प्रवक्ता ने बताया कि टेंडर स्थगित होने से प्रोजेक्ट में किसी प्रकार की देरी नहीं होगी। जल्द ही टेंडर खोले जाने का नया शेड्यूल जारी कर दिया जाएगा।

http://www.amarujala.com/city/Faridabad … 2-139.html
मेट्रो के रास्ते में आ रहे 13 निर्माण
31 Aug 2011, 0400 hrs

फरीदाबाद।। बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक मेट्रो लाने के लिए डीएमआरसी ने अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं। इसके लिए डीएमआरसी ने नोटिस ऑफ इंनवाइटिंग टेंडर भी जारी कर दिया है। अब हूडा भी जल्द ही डीएमआरसी को स्टेशनों और डिपो साइट की जमीन हैंडओवर कर देगा। इसके लिए हूडा ने सर्वे पूरा कर लिया है। सर्वे और निशानदेही के दौरान 13 निर्माण ऐसे पाए गए हैं, जो मेट्रो स्टेशनों की जगह में आ रहे हैं। इन्हें बचाने के लिए टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग ने डीएमआरसी अधिकारियों को पत्र लिखा है।

फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक 13.87 किलोमीटर लंबी मेट्रो लाइन बिछाई जानी है। इसके तहत फरीदाबाद में 9 मेट्रो स्टेशन डिवेलप किए जाने हैं। डीएमआरी ने इन स्टेशनों की साइटों का सर्वे कर निशानदेही की प्रक्रिया पुरी कर ली थी, जिसके बाद हूडा से जल्द से जल्द जमीन डीएमआरसी को हैंडओवर करने की बात कही जा रही थी।

पिछले सप्ताह भी डीएमआरसी की सर्वे ब्रांच और डीटीपी ने मेट्रो स्टेशनों का दौरा किया था और लैंड अक्वायर करने की प्रक्रिया शुरू करने की बात कही थी। सर्वे के दौरान पाया गया कि जिन जगहों पर मेट्रो स्टेशन डिवेलप किए जाने हैं, वहां 13 निर्माण आ रहे हैं। इसलिए टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग ने इन निर्माणों की जानकारी डीएमआरसी को दे दी है और डीएमआरसी को लिखा है कि इन निर्माणों को बचाते हुए ही स्टेशनों का निर्माण किया जाए।

डीटीपी संजीव मान का कहना है कि स्टेशनों के लिए जो जमीन डीएमआरसी को देनी है, उसमें से लगभग 10 प्रतिशत जमीन ही गैरसरकारी होगी जिसे अभी अक्वायर किया जाना है। इन जगहों पर छोटे-छोटे कुछ निर्माण आ रहे हैं, जिन्हें बचाकर भी स्टेशनों आदि का निर्माण आसानी से किया जा सकता है। इसलिए डीएमआरसी से इन जगहों को बचाने की मांग की गई है।

GOM clears extension of Metro to YMCA Faridabad and

PTI | 11:08 PM,Aug 09,2011

Bahadurgarh New Delhi, Aug 9 (PTI) The Centre today cleared proposals for extension of metro rail from Badarpur to YMCA in Faridabad and from Mundka to Bahadurgarh in Haryana. The proposals were cleared at a meeting of Group of Ministers on Mass Rapid Transit System chaired by Finance Minister Pranab Mukherjee. It was decided at the meeting that of the total cost of Rs 2,533 crore for the extension of metro rail from Badarpur to YMCA in Faridabad, 80 per cent of the amont (Rs 1,588 crore) will be borne by Haryana and Rs 544 crore by the Centre. For the rolling stock, the expenditure of Rs 400 crore will be met by Delhi Metro Rail Corporation. Metro rail from Badarpur to YMCA, Faridabad, will cover the distance of 13.875 km and it will have nine stations. The work is expected to be completed by August 31, 2014, but efforts will be made to finish the work by March 31, 2014. Regarding the extension of metro rail from Mundka to Bahadurgarh, it was decided that it will be put into supplementary Phase-III. It was decided that work from Mundka to Tikri border will be completed by Delhi government (through DMRC) and for the remaining portion of about five kms from Tikri Border to Bahadurgarh, the expenditure will be borne by Haryana government. The meeting was also attended among others by Home Minister P Chidambram, Urban Development Minister Kamal Nath, Deputy Chairman of Planning Commission Montek Singh Ahluwalia, Haryana Chief Minister Bhupinder Singh Hooda, Delhi Chief Minister Shiela Dikshit, Delhi Lt Governor Tejender Khanna, besides other concerned officers.

http://ibnlive.in.com/generalnewsfeed/news/gom-clears-extension-of-metro-to-ymca-faridabad-and/782697.html

 

Faridabad: Metro work yet to start

Prabhu Razdan prabhu.razdan@hindustantimes.com

FARIDABAD:

DELAY Decision on changed alignment in limbo ( )

The issue of fresh alignment be taken up with surface transport ministry secretary in which represen- tatives of Haryana govt and DMRC will participate.

A S R I N I VA S A HUDA administrator

The residents of this FARIDABAD: The residents of this satellite township may have to wait a little more before work on the Metro line actually begins. The authorities are yet to settle the issue of a change in alignment that was proposed by the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) recently.

Though a high-level meeting to discuss many issues related to the Metro line was held in Chandigarh on Wednesday, the alignment issue is yet to be finalised.

“In the meeting, it was decided that the issue of fresh alignment of the Metro line be taken up with the secretary of Union surface transport ministry in which both representatives of Haryana government and DMRC will participate,“ A Srinivasa, HUDA administrator, who had also joined Wednesday's meeting at Chandigarh, told Hindustan Times on Thursday.
However, when this meeting will take place is yet to be fixed.

The meeting, chaired by SS Dhillon, financial commissioner, Haryana government, decided that Haryana Urban Development Authority (HUDA), Faridabad, should hand over about 10 sites at different places to DMRC in Faridabad for putting construction material and other related activities till the work on Metro line is completed. The proposal of changed Metro alignment is lying with National Highway Authority of India (NHAI) for consideration.

“We have changed the alignment and now want the work to be started from the left side of NH 2 from Badarpur,“ said a senior DMRC officer who accompanied E Sreedharan to Faridabad during his last visit.

“The new alignment will neither affect the NHAI work on widening of the national highway nor is it going to hamper our work, which we are expected to start from AugustSeptember,“ the officer had said.

Earlier, the DMRC had proposed Metro alignment from Badarpur to Faridabad either through the middle of the highway or on one side of the highway.

The 13.8km-long Metro line to Faridabad will be elevated and will have nine stations including Sarai, NHPC Chowk.

 
 

http://epaper.hindustantimes.com/PUBLICATIONS/HT/HD/2011/06/24/ArticleHtmls/Faridabad-Metro-work-yet-to-start-24062011006018.shtml?Mode=1

 

फिर अटका मेट्रो के अलाइनमेंट का मामला
27 May 2011, 0400 hrs IST

सचिन हुड्डा।। फरीदाबाद

फरीदाबाद मेट्राे प्रोजेक्ट के लिए केंद्रीय बजट को मंजूरी मिलने से एक बड़ा रोड़ा साफ हो गया। वहीं, डीएमआरसी की ओर से फरीदाबाद मेट्रो का सही अलाइनमेंट तय न कर पाना के कारण प्रोजेक्ट में देरी आ रही है। कई अलाइनमेंट्स का प्रपोजल तैयार करने के बाद भी डीएमआरसी एक निश्चित अलाइनमेंट पर राजी नहीं हो पार ही है।

गौरतलब है कि एनएचएआई से तालमेल नहीं बैठ पाने के कारण डीएमआरसी ने कहा था कि बदरपुर से फरीदाबाद आते समय मेट्रो को नैशनल हाइवे के लेफ्ट साइड से लाया जाएगा, जो कि एनएचएआई की जमीन पर नहीं होगी, लेकिन उसके साथ होगी। इसका प्रपोजल भी तैयार हो गया था, लेकिन अब इस अलाइनमेंट को भी मंजूरी न मिलने की बात डीएमआरसी अधिकारी कह रहे हैं। उनका कहना है कि एनएचएआई की जमीन की जगह साइड में मेट्रो लाने का जो प्रपोजल बना था, उसे अभी भी मंजूरी नहीं मिली है।

बदरपुर बार्डर से वाईएमसीए तक आने वाली मेट्रो के लिए पहले बदरपुर बॉर्डर से आते समय नैशनल हाइवे के राइट साइड में मेट्रो को लाने का प्रस्ताव रखा गया था, लेकिन कुछ दिक्कतें आने के बाद इस अलाइनमेंट को हाईवे के बीच में शिफ्ट कर दिया गया है। नैशनल हाइवे के बीच में अलाइनमेंट को मंजूरी नहीं मिलने के कारण एक बार फिर इसे बदलने की बात की जा रही है। डॉ. श्रीधरन ने फरीदाबाद दौरे के बाद मेट्रो को नैशनल हाइवे के लेफ्ट में लाने की बात कही थी। इसके बाद भी जब एनएचएआई से तालमेल नहीं बैठा तो बदरपुर से फरीदाबाद आते समय नैशनल हाइवे की लेफ्ट साइड एनएचएआई की जमीन के साथ लाने का प्रपोजल तैयार हुआ। फि र भी इस अलाइमेंट को मंजूरी नहीं मिली है। अलाइनमेंट तय हो जाने के बाद ही मेट्रो डिपो साइट और स्टेशनों की साइट पर अंतिम निर्णय किया जा सकेगा।

वर्जन

अभी इस अलाइनमेंट को लेकर किसी भी स्तर पर कोई मंजूरी नहीं मिली है। इसके विषय में डीएमआरसी अधिकारी बातचीत कर रहे हैं। मेट्रो का फाइनल अलाइनमंेट कहां होगा इसके बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। – संध्या शर्मा, प्रवक्ता, डीएमआरसी

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8589903.cms

 

Faridabad metro line to come up alongside NH-2

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Prabhu Razdan, PTI
Faridabad , April 30, 2011

The proposed Metro rail line in Faridabad will not come up in the middle of NH-2. It has been decided that the alignment will be changed to the left side of the highway, senior DMRC officials said. "We have changed the alignment and now we want the work to be started from left side of National Highway-2 from Badarpur," said Kumar Keshav, director projects, DMRC. Kumar was accompanying

DMRC chief E Sreedharan to Faridabad on Friday. "Our managing director has okayed the new alignment."

"The change will neither affect the NHAI work on widening of the national highway nor is it going to hamper our work, which we are expected to start in August-September."

Managing director of Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) E Sreedharan had inspected the proposed Metro alignment from Badarpur to Faridabad on Friday.

After visiting this alignment, the officials said work on 13.8- kilometre Metro line from Badarpur to Faridabad would start in August-September, 2011.

Officials said the DMRC had earlier proposed Metro alignment from Badarpur to Faridabad either through the middle of highway or on one side. They said cutting of trees and other works would start much before the actual work begins.

http://www.hindustantimes.com/Faridabad-metro-line-to-come-up-alongside-NH-2/Article1-691787.aspx

 

Sreedharan inspects proposed Faridabad Metro corridor

New Delhi, April 29 (IANS) Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) managing director E. Sreedharan Friday inspected the proposed alignment of the Metro line to connect the national capital with Faridabad in neighbouring Haryana, an official said.

"Sreedhran's inspection took place days after an empowered committee of the urban development ministry approved the project. The proposal now has to be approved by a empowered group of ministers," DMRC spokesperson Anuj Dayal said.

He also said that the work on the extension is likely to begin immediately after the approval of the union cabinet.

The project is estimated to cost Rs.2,533 crore with the central government already having sanctioned Rs. 100 crore in the 2011-12 budget.

"The detailed project report prepared by DMRC for the proposed alignment line to Faridabad has been submitted to Haryana government and a draft Memorandum of Understanding (MoU) has also been sent to them for approval," Dayal added.

An extension of the existing Central Secretariat-Badarpur line, known as Line 6 or the Violet Line, the 13.8-km fully elevated corridor will have nine stations – Sarai Chowk, NHPC Chowk, Mewala Maharajpur, Sector 27 A, Badkal Mor, Faridabad Old, Ajronda, Faridabad New Town and YMCA Chowk.

According to Delhi Metro officials, the Haryana government has been eagerly waiting for the extension.

"Haryana has been keen on extending the Badarpur Line to YMCA Chowk in Faridabad as thousands of people travel from the city to the national capital every day," Dayal informed.

Once the proposed line becomes operational, Faridabad will be the second Haryana city in the National Capital Region (NCR), after Gurgaon, to get connected to Delhi via the Metro. Gurgaon was added to the network in June 2010.

http://mangalorean.com/news.php?newstype=local&newsid=235685

Metro link to Faridabad on track

Hitender Rao, Hindustan Times
Chandigarh, April 27, 2011

After the Metro revolutionised public transport in Gurgaon, it is the turn of the industrial city of Faridabad. An empowered committee on mass rapid transit system (MRTS) approved extension of the Central Secretariat-Badarpur corridor to Faridabad on Tuesday. A meeting in this regard was held in N

ew Delhi. The proposal will now be presented before a group of ministers (GoM) at the central government level for final clearance.

Under Phase 1 of the project, a completely elevated 13.875km long Metro track will become operational from Badarpur to YMCA Chowk in Faridabad within two years from the commissioning date. There will be nine stations on the route. Phase 2 will entail extension of the Metro link up to Ballabhagarh.

The project aims to ease traffic congestion and bring relief to lakhs of daily commuters from Faridabad.

Officials said the revised project cost has been estimated at Rs 2,533 crore and the Haryana government will pitch in about Rs 1,588 crore for the link. The central government will bear an expenditure of Rs 544 crore.

The state government will also bear the land cost of about 60-70 acres to be provided for the Metro corridor.

The cost of the rolling stock will be borne by the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC). The state government’s share will be partially funded by Haryana Urban Development Authority and Haryana State Industrial and Infrastructure Development Corporation.

The Haryana government had sent a formal proposal in April 2007 to extend the route from Badarpur till YMCA Chowk in Faridabad.

Haryana already has a Metro link from Jehangirpuri in Delhi to Gurgaon that started operations last year.

http://www.hindustantimes.com/Metro-link-to-Faridabad-on-track/Article1-690056.aspx

ग्रेटर दिल्ली मेट्रो 2013 में फरीदाबाद तक
28 Apr 2011, 0600 hrs IST,नवभारत टाइम्स 

गुलशन राय खत्री
नई दिल्ली ॥ बदरपुर से फरीदाबाद के बीच मेट्रो रेल लाइन का लंबे समय से इंतजार किया जा रहा था। इसका निर्माण दूसरे फेज में ही करने पर विचार किया गया था, लेकिन दिल्ली और केंद्र सरकार की मंजूरी न मिलने की वजह से इस लाइन का काम शुरू नहीं हो सका था। केंद्र सरकार की उच्चाधिकार समिति का मानना है कि अगर सब कुछ ठीकठाक रहा तो 2013 में इस मेट्रो रेल लाइन को चालू कर दिया जाएगा। माना जा रहा है कि अगर केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी जल्द मिल जाती है तो इस लाइन का निर्माण कार्य 2013 तक पूरा हो सकता है। इसके बाद फरीदाबाद, हरियाणा का ऐसा दूसरा शहर हो जाएगा, जो मेट्रो के जरिए दिल्ली से जुड़ जाएगा।

स्टैंडर्ड गेट की लाइन
केंद्रीय सचिवालय से बदरपुर लाइन से ही फरीदाबाद लाइन को जोड़ा जाना है, ऐसे में यह साफ है कि बदरपुर से फरीदाबाद की लाइन भी स्टैंडर्ड गेज की ही बनेगी। बदरपुर लाइन भी स्टैंडर्ड गेज की है और केंद्रीय सचिवालय से कश्मीरी गेट के बीच जो लाइन प्रस्तावित की गई है, वह भी स्टैंडर्ड गेज की है। महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि तीसरे फेज में इधर फरीदाबाद लाइन तैयार होगी और दूसरी ओर केंद्रीय सचिवालय से कश्मीरी गेट लाइन तैयार हो जाएगी।

फरीदाबाद से कश्मीरी गेट
तीसरा फेज पूरा होने के बाद फरीदाबाद के लोग मेट्रो के जरिए न सिर्फ बदरपुर और केंद्रीय सचिवालय तक आ सकेंगे बल्कि उनकी कनेक्टिविटी मंडी हाउस, आईटीओ और कश्मीरी गेट तक जुड़ जाएगी। उस स्थिति में फरीदाबाद से चलने वाली मेट्रो ट्रेनें बदरपुर और केंद्रीय सचिवालय होते हुए मंडी हाउस के रास्ते कश्मीरी गेट तक जाएंगी यानी फरीदाबाद के पैसेंजरों को बिना ट्रेन बदले ही कश्मीरी गेट तक जाने की सुविधा भी मिल जाएगी। फरीदाबाद मेट्रो के साथ ही फरीदाबाद में ही एक डिपो भी बनाया जाएगा। इस डिपो में ट्रेनों के खड़े करने के अलावा रखरखाव की भी सुविधा होगी।

पॉलिटिक्स की वजह से देरी
कायदे से इस लाइन का निर्माण कार्य पहले ही शुरू होना था लेकिन दिल्ली सरकार ने इस लाइन के लिए अपनी सहमति नहीं दी थी। पानी को लेकर हरियाणा के साथ चल रही तनातनी की वजह से दिल्ली सरकार ने इस लाइन को यह कहकर मंजूरी देने से मना कर दिया था कि अगर इस लाइन पर मेट्रो चलाने से घाटा हुआ तो उसकी भरपाई कौन करेगा ? दरअसल , उस वक्त दिल्ली सरकार चाहती थी कि हरियाणा मुनक नहर के लिए उसे पानी दे और मुनक नहर को जल्द तैयार करे लेकिन हरियाणा सरकार इस मामले में अपनी बात पर ही अड़ा रहा। जिसे देखते हुए दिल्ली सरकार ने फरीदाबाद मेट्रो पर अपनी सहमति रोक दी और यह मामला लटक गया था ? लेकिन बाद में केंद्र सरकार के दखल के बाद ही दिल्ली सरकार इस मामले में तैयार हुई। अब शहरी विकास मंत्रालय की मंजूरी मिलने के बाद केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी की ही जरूरत है ।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8102304.cms

अपनी मेट्रो को मिले 100 करोड़ !
1 Mar 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स 

वरिष्ठ संवाददाता ॥ फरीदाबाद
नैशनल हाइवे के ऊपर से मेट्रो को सर्र से निकलते देखने का सपना अब और जल्द पूरा होगा। सोमवार को केंद्रीय वि

 

त्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने बजट में फरीदाबाद मेट्रो के लिए 100 करोड़ रुपये मंजूर कर इसकी राह आसान कर दी। अब तक जिले का मेट्रो प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के राशि न जारी करने के कारण अटका हुआ था। राज्य सरकार भी इसके चलते अपने हिस्से का बजट जारी नहीं कर रही थी। फरीदाबाद मेट्रो के चीफ प्रॉजेक्ट मैनेजर दलजीत सिंह ने बताया कि अब थर्ड फेस में ही फरीदाबाद मेट्रो का काम शुरू किया जा सकेगा।

बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक मेट्रो आने का ख्वाब अब ज्यादा दिन ख्वाब नहीं रहेगा। आम बजट में प्रणव दा ने फरीदाबाद मेट्रो के लिए राशि आवंटित करने के साथ ही अटके पड़े इस प्रोजेक्ट को हरी झंडी दे दी। इससे पूर्व डीएमआरसी अधिकारी कह चुके थे कि बजट न होने के चलते प्रोजेक्ट लटका हुआ है। जहां कंेद्र ने राशि नहीं दी है, वहीं हरियाणा सरकार यह कहकर राशि जारी नहीं कर रही कि वह केंद्र के राशि जारी करने के बाद अपने हिस्से की राशि देगी। डीएमआरसी सूत्रों के अनुसार आम बजट में फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए करीब 100 करोड़ रुपये दिए गए हैं। इसके चलते इस प्रोजेक्ट का काम अब थर्ड फेस में ही शुरू हो जाएगा। अधिकारियों के अनुसार अब नजरें हरियाणा सरकार के बजट की तरफ टिकी हुई हैं। देखना यह है कि हरियाणा सरकार अपने बजट में फरीदाबाद मेट्रो के लिए राशि जारी करती है या नहीं।

थर्ड फेस में फरीदाबाद मेट्रो : चीफ प्रॉजेक्ट मैनेजर
फरीदाबाद मेट्रो प्रॉजेक्ट के चीफ मैनेजर दलजीत सिंह ने बताया कि यह तो पता चल गया है कि आम बजट में फरीदाबाद मेट्रो के लिए केंद्र ने राशि जारी कर दी है, लेकिन यह 100 करोड़ है या 200 करोड़, इस बारे में फिलहाल कुछ नहीं कह सकते। राशि जारी होने के बाद फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट भी मेट्रो विस्तार के थर्ड फेस में शामिल हो गया है। बहुत जल्द फरीदाबाद वाईएमसीए तक मेट्रो को पहुंचाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

किसके हिस्से कितना खर्च
फरीदाबाद मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक 13.875 किलोमीटर लंबा मेट्रो ट्रैक बिछाया जाना है। इसके लिए 2533 करोड़ रुपये का बजट तय किया गया है। इसमें से 1589 करोड़ रुपये हरियाणा सरकार को देने हैं और बाकी केंद्र देगा। केंद्र के राशि जारी करने के बाद उम्मीद है कि हरियाणा सरकार भी अपने बजट में इस प्रोजेक्ट को लेकर राशि जारी करेगी।

बनेंगे 9 मेट्रो स्टेशन
बदरपुर बॉर्डर से वाईएमसीए तक नैशनल हाइवे पर सराय ख्वाजा , मेवला महाराजपुर , एनएचपीसी चौक , सेक्टर -27, बड़खल मोड़ चौक , ओल्ड फरीदाबाद चौक , अजरौंदा , न्यू टाऊन ( बाटा मोड़ ) चौक और वाईएमसीए पर 9 मेट्रो स्टेशन बनाए जाएंगे। इसके साथ ही एक डिपो ओल्ड रेलवे स्टेशन के पास बनाया जाना है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7596752.cms
FARIDABAD METRO YARD – Residents come up with new plan
FARIDIABAD

The residents of Faridabad, who are facing threat of displacement due to coming up of Metro rail in Faridabad, have presented a novel ideal to the top brass of Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) and Haryana government, including the chief minister.

They want the laying of Metro track from Badarpur to Faridabad via Bypass Road.

As per the existing plan, the Metro link to Faridabad is supposed to come parallel to National Highway 2 (Mathura Road). As the DMRC and Haryana Urban Development Authority (DMRC) are in the process of finalising the Metro yard in Faridabad, a large number of residents of Sector 20A and 20B are opposed to the setting up of Metro yard in their areas fearing displacement.

“We have submitted a 10point charter of demands to the managing director of DMRC, administrator HUDA, Faridabad, besides chief minister of Haryana, laying thrust on realignment of Metro line parallel to Bypass Road,“ said Narveer Singh, who is spearheading the agitation for the residents facing threat of dislocation in case Metro yard comes up in Sector 20A.

Explaining their logic behind realignment demand, Narveer Singh said, “Metro line proposed in the middle of DelhiMathura Road will create more hurdles in the movement of traffic on this road.

“If the Metro is realigned parallel to the Bypass road, behind the large number of existing sectors will prove to be a boon.
As there are no hazards in construction at that site because the acquisition of land is complete and the whole patch -right from Badarpur border to Ballabgarh -is almost clear“, he added.

In the coming days, since there are about two-dozen sectors coming up with multi-story residential complexes, this area will be balancing the population of Faridabad with the present one on the western side of railway line, he said.

 
 

Source: http://epaper.hindustantimes.com/PUBLICATIONS/HT/HD/2011/01/27/ArticleHtmls/FARIDABAD-METRO-YARD-Residents-come-up-with-new-27012011009015.shtml?Mode=1

Update: 9  Jan 11

Faridabad Metro- Route survey on highwaybegins

The field surveys for Faridabad metro has been started by DMRCL. The survey would identify the constructed structures, trees, electric poles and sewage lines.

Please refer below article to know more on this news article.

Faridabad-metro-work-pick-speed

 

NEW DELHI: Haryana government on Monday approved a budgetary allocation of Rs 1,588.6 crore for the extension of Delhi Metro to Faridabad. The new Metro link from Badarpur to YMCA Chowk will hugely benefit residents of the NCR city and work is expected to start in a couple of months.

The financial approval came at a meeting chaired by chief minister Bhupinder Singh Hooda. A government spokesperson said the total cost of the 13.8-km Metro project has been estimated at Rs 2,533 crore, of which the Centre will bear Rs 544.4 crore. The CM claimed the project is stipulated to take off in October this year and will be completed by March 31, 2013. "It will take at least three years to complete the project after work starts on ground. We are not taking any more work ahead of the Commonwealth Games,'' said a DMRC official.

Haryana government had approved Metro connectivity to Faridabad in March 2007. The project was subsequently approved by DMRC in December 2007 but was waiting clearance from the Delhi government and Centre.

This elevated stretch an extension of the Central Secretariat-Badarpur line of Delhi Metro will have nine stations up to YMCA Chowk. The Metro line up to Badarpur is likely to become operational by October.

Faridabad will be the last mega city in NCR to get Metro connectivity. While the Metro has already reached Noida and Gurgaon, it will extend up to Ghaziabad next year. Meanwhile, Haryana government has already announced to extend the Metro link to Ballabhgarh. Last year, Central government had set up a three-member committee to facilitate the extension of Delhi Metro to Faridabad and Bahadurgarh.

 

Source: Times of India: Faridabad Metro Funds Approved by Haryana Govt

Faridabad-Metro-NIT

Faridabad-Metro-ITT

Related Posts: